दुनिया

इसराइली हमले में न्यूज़ चैनल अल जज़ीरा के एक पत्रकार के परिवार के 22 सदस्यों की मौत

न्यूज़ चैनल अल जज़ीरा ने बताया है कि ग़ज़ा के जबालिया रिफ्यूजी कैम्प में इसराइली हमले में उनके एक पत्रकार के परिवार के 22 सदस्यों की मौत हो गई.

अल जज़ीरा की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि मोमीन अल-शराफ़ी के परिवार के सदस्यों ने जिस घर में शरण ली हुई थी, उसे छह दिसंबर को निशाना बनाया गया.

इस हमले में अल शराफी की मां, उनके पिता, तीन भाई-बहन और उनके कई बच्चों की मौत हो गई.

इससे पहले अक्टूबर में अल जज़ीरा के एक अन्य पत्रकार वाइल अल-दाहदाउ की पत्नी, बेटे-बेटी और पोते की सेंट्रल ग़ज़ा के इलाक़े में मौत हो गई.

ग़ज़ा युद्ध: इसराइली फौज खान यूनिस के बीचोबीच पहुंची, हमास लड़ाकों से जंग जारी

इसराइल की सेना का कहना है कि उसके सैनिक दक्षिणी ग़ज़ा के मुख्य शहर खान यूनिस में हमास लड़ाकों से लड़ रहे हैं.

सेना का दावा है कि यहाँ हमास का एक बड़ा नेता छिपा हुआ है.

लगातार बमबारी के चलते गज़ा के लोगों की दुर्दशा पर अंतरराष्ट्रीय दबाव के बाद इसराइल दक्षिणी ग़ज़ा में ईंधन की आपूर्ति को थोड़ा बढ़ाने पर भी तैयार हो गया है.

बुधवार रात इसराइल के मंत्रियों ने ग़ज़ा में और अधिक ईंधन के प्रवेश को मंजूरी दे दी.

बीबीसी की मध्य पूर्व संवाददाता योलांडे नेल ने बताया कि इसराइल की सेना खान यूनिस के बीचोबीच पहुंच गई है.

उधर, हमास की सशस्त्र शाखा का कहना है कि लड़ाई भीषण हो रही है. जबकि इसराइली सेना अब ग़ज़ा में हमास के नेता याह्या सिनवार के घर तक पहुंच गई है.

माना जाता है कि वह और अन्य शीर्ष अधिकारी भूमिगत सुरंगों में छिपे हुए हैं. इसराइल के प्रधानमंत्री बिन्यामिन नेतन्याहू ने कहा है कि हमास के नेता को पकड़ना सिर्फ वक्त की बात है.

दूसरी तरफ़, संयुक्त राष्ट्र के एक वरिष्ठ अधिकारी ने चेतावनी दी है कि युद्ध के दो महीने बाद, “ग़ज़ा में स्थितियां विनाशकारी होती जा रही है, जैसे-जैसे लड़ाई बढ़ती जा रही है, सैकड़ों-हज़ारों लोग दक्षिण के एक छोटे से इलाके में सिमट कर रह गए हैं. “सार्थक मानवीय प्रयास” अब लगभग असंभव हो गए हैं.

इस बीच, संयुक्त राष्ट्र महासचिव, एंटोनियो गुटेरेस ने संयुक्त राष्ट्र चार्टर के मिली शक्ति का इस्तेमाल करते सुरक्षा परिषद से कहा है कि वो ग़ज़ा युद्ध पर कार्रवाई करे.

अब तक परिषद पूर्ण युद्धविराम का आह्वान करने वाले किसी भी प्रस्ताव का समर्थन करने में विफल रही है.