दुनिया

ईरान-पाकिस्तान तनाव के बीच भारत ने मारी एंट्री, रिपोर्ट

पाकिस्तान में मौजूद आतंकी ठिकानों पर ईरान ने मंगलवार को एयरस्ट्राइक की थी। इस पर अब भारत का भी बयान सामने आया है। नई दिल्ली ने दोनों पड़ोसी देशों की ओर से आतंकवाद के ख़िलाफ़ की गई कार्यवाही पर बहुत ही संतुलित बयान दिया है।

प्राप्त रिपोर्ट के मुताबिक़, भारत के विदेश मंत्रालय की तरफ़ से जारी बयान में कहा गया है कि हम मानते हैं कि इस एक्शन का फ़ैसला आत्मरक्षा में लिया गया था। भारतीय विदेश मंत्रालय ने जारी बयान में बताया कि ईरान की पाकिस्तान पर एयरस्ट्राइक के बाद इस पर भारत की प्रतिक्रिया मीडिया द्वारा मांगी जा रही है। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रणधीर जायसवाल ने कहा, ‘यह मामला ईरान और पाकिस्तान के बीच का है, जहां तक भारत की बात है तो नई दिल्ली की आतंकवाद के ख़िलाफ़ नीति जीरो टॉलरेंस वाली है। हम उन एक्शन को समझते हैं जिन्हें देश आत्मरक्षा में लेते हैं।’ बता दें कि यह बयान पाकिस्तान और अफ़ग़ानिस्तान की सीमा से ईरान की सीमावर्ती क्षेत्र में आईआरजीसी के एक सदस्य को गोली मारे जाने की घटना के कुछ घंटों के भीतर आया है। उल्लेखनीय है कि बलूचिस्तान में आतंकवादी गुट जैशुज़्ज़ुल्म के ठिकानों पर ईरान की एयरस्ट्राइक के बाद यह हमला किया गया है। इस पूरे घटनाक्रम पर ईरान के विदेश मंत्री हुसैन अमीर अब्दुल्लाहियान ने कहा था कि हमने पाकिस्तान के भीतर आतंकी संगठन पर हमला किया है। विदेशमंत्री अब्दुल्लाहियान ने विश्व आर्थिक फोरम मंच की वार्षिक बैठक में कहा कि पाकिस्तान में ईरान के हमले का उद्देश्य, ईरान के आतंकवादी गुट जैशुज़्ज़ुल्म को समाप्त करना था।

दावोस में वर्ल्ड इकोनॉमि फोरम से इतर इस मामले पर ईरान के विदेश मंत्री ने कहा कि ईरान ने किसी पाकिस्तानी नागरिक को निशाना नहीं बनाया। हमने सिर्फ़ आतंकवादी गुट जैशुज़्ज़ुल्म के ठिकानों पर ही हमला किया है। बता दें कि मंगलवार रात ईरान ने पाकिस्तान के आतंकी ठिकानों पर मिसाइलों और ड्रोन से ताबड़तोड़ हमले कर दिए थे। ईरान के विदेश मंत्री का कहना है कि हमारे मिसाइल और ड्रोन हमले से पाकिस्तान में किसी भी नागरिक को निशाना नहीं बनाया गया। पाकिस्तान में आतंकवादी गुट जैशुज़्ज़ुल्म नाम का एक आतंकी संगठन है। इन आतंकियों ने पाकिस्तान के बलूचिस्तान के कुछ हिस्सों में पनाह ले रखी है। उन्होंने कहा कि हमने पाकिस्तान में कई अधिकारियों से बात की है। इन आतंकियों ने ईरान में आतंकी कार्यवाहियों को अंजाम दिया है, जिसमें हमारे सुरक्षाकर्मी शहीद हुए हैं। ईरानी विदेश मंत्री ने कहा कि हमने उन्हीं आतंकी तत्वों को निशाना बनाया है कि जो ईरान में आतंकी कार्यवाहियों को अंजाम देते हैं। उन्होंने कहा कि मैंने पाकिस्तान के हमारे विदेश मंत्री से बात की और उन्हें आश्वासन दिया कि हम पाकिस्तान का सम्मान करते हैं, उनकी संप्रभुता और क्षेत्रीय अखंडता का सम्मान करते हैं, लेकिन हम हमारी राष्ट्रीय सुरक्षा से समझौता नहीं कर सकते। हुसैन अमीर अब्दुल्लाहियान ने कहा कि हमारी कुछ आपत्तियां थीं, हमने जो भी किया, वह पाकिस्तान और इराक़ की सुरक्षा के मद्देनज़र ही किया है