विशेष

ग़ज़ा जंग के बीच #नेतन्याहू किसी भी वक़्त ”आत्महत्या” कर सकता है : ख़ास रिपोर्ट

हमास और इसराइल की जंग खतरनाक मरहले में दाखिल हो चुकी है, भारत के मीडिया की खबरें देख कर तो लगता है कि बस कुछ घंटे बाद ही इसराइल अपनी फ़तेह का झंडा हिमालिया पर लहराने वाला है, मगर जंग के मैदान की हकीकत कुछ और है, ग़ज़ा के मोर्चे पर इसराइल की सेना की तमाम कोशिशों के बावजूद अभी तक कोई कामयाबी नहीं मिल रही है, ग़ज़ा में हमास की कुछ पोजीशन पर की गयी भयानक बमबारी से नुक्सान ज़रूर पहुंचा है, जो सुरंगे बता कर वीडियोस इस्राइली सेना दिखाती नज़र आती है असल में वो हमास की सुरंगे नहीं बल्कि ”सेफ्टी टैंक” और पानी के नाले हैं जो हर शहर में ज़मीन के अंदर होते हैं, इसी तरह से प्रोपेगंडा चलाया जा रहा है, डेंगू तो ख़तम हो गया पर वॉयरस अभी बचा हुआ है जो अब मीडिया को हो गया है, मीडिया को पोलियो भी मार गया है शायद

जंग के अंत में नेतन्याहू का क्या होगा???

नेतन्याहू एक मानसिक रोगी व्यक्ति है, नफ़रत और धर्म की पॉलिटिक्स करने वाले दिमाग़ी बीमार लोग होते हैं जैसे हिटलर था, जॉर्ज बुश था, इस तरह के लोग अपनी हार पर या तो आत्महत्या कर लेते हैं या तन्हायी में जीते हैं, ये लोग अंदर से बहुत कमज़ोर होते हैं, नेतन्याहू अपने जीवन के सबसे कठिन वक़्त में जी रहा है, हमास के हाथों जंग में हारने के बाद नेतन्याहू आत्महत्या कर सकता है, इसराइल की जनता नेतन्याहू को जंग के लिए ज़िम्मेदार समझते हैं, उनका मानना है की इसराइल के ऊपर हमास का 07 अक्टूबर का हमला नेतन्याहू सरकार की नाकामी है, इसराइल के लोग कहते हैं कि नेतन्याहू वॉर क्रिमिनल है और वो ग़ज़ा में नरशंहार कर रहा है,,,जंग में हारने के बाद नेतन्याहू के सामने इस्राइली जनता के इतने सवाल होंगे जिनके जवाब वो दे नहीं पायेगा और आत्महत्या कर सकता है

अफ़्रीक़ा महाद्वीप का पैग़ाम ; फ़िलिस्तीन की आज़ादी के बग़ैर साम्राज्यवाद का अंत संभव नहीं

अफ़्रीक़ा में इस समय फ़िलिस्तीन के समर्थन में जनता और कूटनीति के स्तर पर काफ़ी सक्रियता देखने में आ रही है।

ग़ज़ा पट्टी पर ज़ायोनी शासन के हमलों को एक महीने का समय बीत जाने के साथ ही दक्षिणी अफ़्रीक़ा का स्टैंड बहुत खुलकर सामने आया है।

इस देश के विदेशमंत्रालय ने इस्राईल से अपना कूटनयिक स्टाफ़ वापस बुला लिया और इस्राईल से संबंधों पर पुनरविचार करने की बात कही है। विदेश मंत्री नालीदी पांडूर ने कहा कि कूटनयिकों को यह आंकने के लिए वापस बुलाया गया है कि इस्राईल से वर्तमान स्तर पर संबंधों को जारी रख पाना संभव है या नहीं।

विदेश मंत्री ने इससे पहले बयान दिया था कि अस्पतालों, एम्बुलेंस गाड़ियों, स्कूलों और आवासीय इमारतों पर इस्राईल की बमबारी युद्ध अपराध है।

चाड ने भी इस्राईल से अपने कूटनयिक वापस बुला लिए और इस्राईली हमलों में आम नागरिकों की शहादत की निंदा की।

ज़िम्बाब्वे ने कहा कि ग़ज़ा पट्टी में 20 लाख से अधिक फ़िलिस्तीनी इस्राईल के वहशियाना हमलों के निशाने पर हैं। ज़िम्बाब्वे के मंत्री क्रिस्टोफ़र मोत्सवांग्वा ने कहा कि उनका देश फ़िलिस्तीनियों को उनका अधिकार दिए जाने की मांग दोहराना बंद नहीं करेगा ताकि अपारथाइड सरकार का गठन न हो।

सूमालिया के प्रधानमंत्री हम्ज़ा अब्दी ने कहा कि हमास आतंकी संगठन नहीं बल्कि अपनी धरती और जनता को आज़ादी दिलाने के लिए संघर्ष करने वाला संगठन है।

जिबूती के राष्ट्रतिप ने कहा कि आख़िरी विजय तो हर हाल में फ़िलिस्तीनी जनता की ही होनी है। उन्होंने कहा कि 70 साल की हिंसा भी फ़िलिस्तीनियों का इरादा कमज़ोर नहीं कर सकी।

सेनेगाल और योगांडा सहित कई अफ़्रीक़ी देशों ने इस्राईल की आलोचना की।

@Misra_Amaresh
@misra_amaresh
The 3rd battle of Jenin #WestBank, in which #Israel has thrown in some of its best troops, in 48 hours, is becoming more and intense. Fatah’s Al-Aqsa is at the forefront. BOTH #Hamas AND ISLAMIC JIHAD HAVE ISSUED A ‘MARTYRS CALL’! Which means it’s a do or die situation!

@Misra_Amaresh
@misra_amaresh
बड़ी खबर!
#Israel ने स्वीकारा, #IDF के Apache helicopters ने 7 अक्टूबर 20023 को सुपरनोवा संगीत समारोह से भाग रहे #Israeli नागरिकों पर गोलीबारी की थी! पश्चिमी मीडिया ने इस नरसंहार के लिए #Hamas को दोषी ठहराया! लेकिन साबित हुआ कि
@netanyahu
ने खुद अपने नागरिकों कि बलि चढ़ाई!

https://twitter.com/i/status/1722564185467625923

@Misra_Amaresh
@misra_amaresh

9-11-2023! आज की गिनती:

7. #Hamas की Al-Qassim Brigade ने #Gaza के Juhr Al-Dik इलाके के पास, #IDF की पैदल सेना टुकड़ी पर anti-personnel shells से हमला किया। टुकड़ी के सभी सैनिक मारे गये।

जनरल सलामीः ग़ज़ा अमरीका और ज़ायोनी शासन का मक़बरा बन गया

ईरान की पासदाराने इंक़ेलाब फ़ोर्से के कमांडर जनरल हुसैन सलामी ने कहा कि ग़ज़ा आज अमरीका और ज़ायोनी शासन का मक़बरा बन गया है और क़ाबिज़ ज़ायोनी शासन अब कभी भी अपनी खोई हुई ताक़त वापस हासिल नहीं कर पाएगी।

जनरल सलामी ने कहा कि अलअक़सा तूफ़ान ने ज़ायोनी शासन को बड़ी भयानक शिकस्त में ढकेल दिया और अब वो कभी भी उबर नहीं पाएगी। उन्होंने कहा कि अमरीका और ज़ायोनी शासन की अब यह दशा हो गई है कि वो बच्चों का जनरसंहार करके अपनी दबदबा बहाल करना चाहते हैं मगर वे कभी ही अपना लक्ष्य हासिल नहीं कर पाएगी।

जनरल सलामी ने ईरान की डिटरेंस पावर के बारे में बात करते हुए कहा कि बड़ी ताक़तों को मालूम होना चाहिए कि ईरान दुनिया के हर इलाक़े में अपने हितों की रक्षा करने में सक्षम है।

उन्होंने कहा कि इस्लामी गणराज्य ईरान ज़मीन, हवा और समुद्र में हर जगह अपने दुश्मन का मुक़ाबला करने में सक्षम है। जनरल सलामी का कहना था कि ईरान की सैनिक ताक़त क्षेत्र की शांति व सुरक्षा की गैरेंटी है।

ईरान के राष्ट्रपति सैयद इब्राहीम रईसी ने ईसीओ शिखर बैठक में उठाई फ़िलिस्तीन की आवाज़

इस्लामी गणराज्य ईरान के राष्ट्रपति सैयद इब्राहीम रईसी ने आर्थिक सहयोग संगठन ईसीओ की उज़्बेकिस्तान की राजधानी ताशकंद में शिखर बैठक में कहा कि एक महीने से ज़्यादा समय हो गया और ज़ायोनी शासन ग़ज़ा पर बमबारी कर रहा है जबकि अंतर्राष्ट्रीय संस्थाएं सुरक्षा परिषद और संयुक्त राष्ट्र संघ इतने भयानक अपराधों पर अंकुश लगाने में असमर्थ हैं।

राष्ट्रपति रईसी ने अपना भाषण थोड़ी देर के लिए रोका और कहा कि हमें कुछ लम्हे ग़ज़ा के मज़लूमों के लिए मौन रहना है और उन्हें याद करना है।

राष्ट्रपति रईसी ने ईसीओ के एजेंडे के बारे में बात करते हुए कहा कि ईसीओ के 2025 विजन के तहत फ़्री ट्रेड ज़ोन बनाने के रास्त में जो भी रुकावटें हैं उन्हें हटाया जाना चाहिए।

राष्ट्रपति रईसी ने कहा कि नई उभरती अर्थ व्यवस्थाएं और विकासशील देश नई विश्व व्यवस्था में भूमिका निभाने के लिए हर दौर से ज़्यादा इस समय सक्षम हैं।

https://twitter.com/i/status/1722620038434398519

https://twitter.com/i/status/1722564185467625923

9-11-2023! आज की गिनती:

7. #Hamas की Al-Qassim Brigade ने #Gaza के Juhr Al-Dik इलाके के पास, #IDF की पैदल सेना टुकड़ी पर anti-personnel shells से हमला किया। टुकड़ी के सभी सैनिक मारे गये।

9-11-2023! आज की गिनती:
5. #Hamas की Al-Qassim Brigade ने Sheik Radwan #Gaza मे Yassin 105 shell से #Israeli Merkava टैंक उड़ाया।
6. Hamas की Al-Qassim Brigade ने #Gaza के Al-Shati camp के पास, Yassin 105 shells से #IDF के 3 सैन्य वाहन और एक Bulldozer उड़ाया!

9-11-2023! आज की गिनती:
3. Islamic Jihad की Al-Quds Brigade ने #Gaza के Ansar इलाके मे #Israel के सैन्य वाहनो के जमावड़े पर बमबारी कर, पीछे ढकेला।
4. #Hamas Al-Qassim Brigade ने #Gaza के उत्तर-पश्चिमी छोर मे घुस आयी, #IDF का troop carrier (सैनिक ढोने वाला वाहन) नष्ट किया।

9-11-2023! आज की गिनती:

1. #Gaza के Al-Tawam इलाके मे #Hamas की Al-Qassim Brigade ने Yassin 105 गोले (shell) से एक #Israeli Merkava टैंक उड़ाया!
2. Islamic Jihad की Al-Quds Brigade ने गाजा से #Israel के Asdod इलाके पर missile दागी!

https://twitter.com/i/status/1722515120385904998

@Misra_Amaresh
@misra_amaresh

#Hamas प्रवक्ता अबू ओबैदा (Abu Obaida) ने एक ताजा बयान मे साफ किया कि पिछले एक हफ्ते मे, उनके संगठन ने 136 #Israeli टैंको एवं सैन्य वाहनो को नष्ट किया। #IDF को जो नुकसान Islamic Jihad, PFLP और अन्य #Palestinian groups ने पहुंचाया, वो इससे अलग है!

@Misra_Amaresh
@misra_amaresh

#Israel ने युद्ध में कोई महत्वपूर्ण प्रगति
किए बिना, 63 मर्कवा टैंक/सैन्य वाहन खो दिए हैं। इज़राइल को #Gaza मे World War II Stalingrad, 1970s Vietnam War जैसी स्थिति का सामना करना पड़ रहा है।
जंग गतिरोध पर है, और गतिरोध को इज़राइल की हार के रूप में देखा जा रहा है!