दुनिया

ग़ज़ा में पत्रकारों पर इस्राईल के हमलों से संयुक्त राष्ट्र नाराज़, ईरान ने कहा फ़िलिस्तीनियों को मिलेगा एयर डिफ़ेंस सिस्टम

फ़िलिस्तीन में ग़ज़ा पट्टी पर ज़ायोनी शासन के बर्बर हमलों के दौरान आज भी कई महत्वपूर्ण घटनाएं हुईं। ग़ज़ा के स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया कि ज़ायोनी शासन के हमलों में शहीद होने वाले फ़िलिस्तीनियों की संख्या बढ़ कर 22 हज़ार 835 हो गई है जबकि घायलों की संख्या 58 हज़ार 316 है।

संयुक्त राष्ट्र संघ की रिपोर्टर एरिन ख़ान ने कहा कि इस्राईल ग़ज़ा में अंतर्राष्ट्रीय क़ानूनों का हनन कर रहा है। उन्होंने कहा कि ग़ज़ा में पत्रकारों को निशाना बनाया जाना ख़ौफ़नाक अपराध है, सुरक्षा परिषद को चाहिए कि ग़जा पट्टी में जो कुछ हो रहा है उसे देखे। इस समय ग़ज़ा पट्टी में ढेरों साक्ष्य मौजूद हैं जिनसे साबित होता है कि ज़ायोनी शासन ग़ज़ा पट्टी में अपराध कर रहा है। उन्होंने कहा कि संयुक्त राष्ट्र संघ के अधिकारियों को चाहिए कि वे ग़ज़ा पट्टी पर दबाव डालें और उसके अपराधों पर अंकुश लगाएं।

पिछले 24 घंटों के भीतर ज़ायोनी शासन ने कम से कम 12 जनरसंहार ग़ज़ा पट्टी में किए जिसके नतीजे में 113 फ़िलिस्तीनी शहीद और 250 घायल हुए।

पत्रकारों के अंतर्राष्ट्रीय युनियन ने कहा कि ग़ज़ा में पत्रकारों के साथ जो कुछ हो रहा है वो दरअस्ल जान बूझ कर पत्रकारों को निशाना बनाने की घटना है। युनियन के डिप्टी सेक्रेट्ररी जनरल टिम डावसन ने कहा कि ग़ज़ा में पत्रकारों को जान बूझ का निशाना बनाया जा रहा है पत्रकारों को ग़ज़ा के भीतर जाने की अनुमति भी नहीं दी जा रही है। उन्होंने कहा कि हम बस यह आशा कर रहे हैं कि जल्द से जल्द ग़ज़ा में जो प्रक्रिया जारी है उसे बदला जाए। उन्होंने कहा कि ग़ज़ा के सारे निवासी बड़े भयानक दौर से गुज़र रहे हैं लेकिन पत्रकारों को जंग ने बहुत नुक़सान पहुंचाया है।

इस्राईल ने अलजज़ीरा अरबी के पत्रकार वाएल दहदूह के बेटे हमज़ा दहदूह को क़त्ल कर दिया इससे पहले इस्राईल इस परिवार के कई लोगों को क़त्ल कर चुका है।

ग़ज़ा में इस्राईल के हाथों शहीद होने वाले पत्रकारों की संख्या 109 हो गई है।

इस बीच ईरान की सिपाहे पासदाराने इंक़ेलाब फ़ोर्स आईआरजीसी ने कहा कि ग़ज़ा में रेज़िस्टेंस फ़ोर्सेज़ को इस्राईल के हवाई हमले रोकने के लिए एयर डिफ़ेंस सिस्टम दिया जाएगा।

आईआरजीसी की क़ुद्स फ़ोर्स के वरिष्ठ कमांडर ईरज मस्जिदी ने कहा कि ग़ज़ा में रेज़िस्टेंस फ़ोर्सेज़ को एयर डिफ़ेंस सिस्टम दिया जाएगा।

इस बीच जेहादे इस्लामी की सैनिक शाखा क़ुद्स फ़ोर्स ने ग़ज़ा पट्टी से कुछ स्थित ज़ायोनी बस्तियों पर मिसाइल फ़ायर किए हैं। इस हमले के बाद नाहिल औज़ ज़ायोनी बस्ती में सायरन की आवाज़ें गूंजने लगीं।