देश

गुरुग्राम की मस्जिद में आग लागयी, इमाम की मौत : मोनू मानेसर के कारण भड़की हिंसा में अब तक क्या कुछ हुआ, जानिये!

TRUE STORY
@TrueStoryUP
मणिपुर की तरह जल रहा हरियाणा… मस्जिद में घुसी दंगाइयो की भीड़ ने इमाम का किया मर्डर, दो युवकों को किया अधमरा.. धर्मस्थल को लगाई आग…

हरियाणा : गुरुग्राम सेक्टर 57 की अंजुमन मस्जिद में रात 12:00 बजे सैंकड़ो दंगाई घुस गए। दंगाइयों ने मस्जिद के इमाम हाफिज साद और उनके साथ मौजूद दो और लोगों पर लगातार फायरिंग की। 200 लोगो ने तीन लोगो को जमकर पीटा। इसके बाद पूरी मस्जिद को जला दिया। तीनों लोगो को हॉस्पिटल पहुंचाया गया जिसमें मस्जिद के इमाम 19 साल के हाफिज साद की मौत हो गई और अन्य दो मुस्लिम जख्मी हैं। मस्जिद के इमाम हाफिज साद बिहार के सीतामढ़ी जिला के मनियाडीह गांव के रहने वाले थे और 6 माह पहले ही उन्होंने यहां इमामत करना शुरू किया था।

 

हरियाणा के नूंह में सोमवार को एक धार्मिक जलाभिषेक यात्रा के दौरान हिंसा भड़कने के बाद इलाक़े में तनाव का माहौल है और कर्फ्यू लगा दिया गया है.

समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक़, नूंह में हुई हिंसा के कारण दो लोगों की मौत हुई है और कई लोग घायल हैं.

हरियाणा के सीएम मनोहर लाल खट्टर ने लोगों से शांति बनाए रखने की अपील की है और कहा है कि दोषियों के ख़िलाफ़ सख़्त से सख़्त कार्रवाई की जाएगी.

नूंह के कांग्रेस विधायक आफताब आलम ने एक निजी चैनल से कहा- ‘’सालों से लोग यहां मिलजुलकर रहे हैं. एक साजिश के तहत उकसावे के साथ ये सब किया गया. सोशल मीडिया के ज़रिए उकसाया गया. मोनू मानेसर समेत कई लोग थे, जिन्होंने लोगों को चुनौती दी. ये सब प्रशासन को पता था. पूरे समाज को टारगेट किया गया.’’

पढ़िए हिंसा भड़कने की शुरुआत के बाद से अब तक क्या कुछ हुआ?

 

 

सोमवार दोपहर करीब दो बजे. विश्व हिंदू परिषद ने नूंह में एक धार्मिक रैली आयोजित की.

रैली से पहले वीएचपी और बजरंग दल से जुड़े कुछ लोगों ने सोशल मीडिया पर भड़काऊ बातें कहते हुए वीडियो शेयर की.
इस धार्मिक यात्रा में नासिर, जुनैद की हत्या के मुख्य अभियुक्त मोनू मानेसर के शामिल होने की ख़बरें थीं. इससे नूंह के लोगों में गुस्सा था.

मोनू मानेसर ने पीटीआई से कहा- वीएचपी के कहने के बाद मैं यात्रा में शामिल नहीं हुआ था.

इस रैली के शुरू होने के कुछ देर बाद ही दो गुटों में टकराव हुआ. बेकाबू भीड़ ने लोगों की गाड़ियों में आग लगा दी.

एक निजी चैनल से बात करते हुए नूंह के साइबर पुलिस थाने के पुलिसकर्मी ने बताया- भीड़ ने थाने को आग लगाने की कोशिश की.

घटनास्थल पर भारी संख्या में पुलिसबल पहुंचे.

सोमवार शाम नूंह में प्रशासन ने इंटरनेट पर दो अगस्त तक के लिए प्रतिबंध लगा दिया.

नूंह में हिंसा की आग गुरुग्राम तक पहुंची. सेक्टर 51 की मस्जिद कमेटी के चेयरमैन ने बीबीसी से कहा- मस्जिद में भीड़ ने आग लगाई और हमले में इमाम की मौत हो गई.

गुरुग्राम और फरीदाबाद में प्रशासन ने स्कूल, कॉलेज बंद करने का एलान किया.

नूंह, गुरुग्राम समेत कई जगहों पर भारी संख्या में पुलिसबल तैनात किए गए हैं.

नूंह की धार्मिक यात्रा में शामिल होने के मुद्दे पर मोनू मानेसर ने क्या कहा?

समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक़, हरियाणा के नूंह में सांप्रदायिक हिंसा के कारण दो होम गार्ड की मौत हो गई है और 15 लोग घायल हैं.

हिंसा में पुलिसवालों के घायल होने की भी ख़बरें हैं.

ये हिंसा सोमवार को नूंह में विश्व हिंदू परिषद की ओर से आयोजित एक रैली के बाद भड़की थी.

रैली में जुनैद और नासिर की हत्या के मुख्य अभियुक्त मोनू मानेसर के शामिल होने की ख़बरें थीं.

माना जा रहा था कि वीएचपी की रैली में मोनू मानेसर भी शामिल हो सकता है. इसी के कारण स्थानीय लोगों में गुस्सा था.

ख़बरों में कहा जा रहा है कि नूंह में हिंसा भड़कने की अहम वजह मोनू मानेसर के शामिल होने की बातें थीं.

समाचार एजेंसी पीटीआई से बात करते हुए मोनू मानेसर ने दावा किया, ”विश्व हिंदू परिषद की सलाह के बाद मैं यात्रा में शामिल नहीं हुआ था. विश्व हिंदू परिषद को लगा था कि मेरे शामिल होने से हिंसा भड़क सकती है.”

फरवरी 2023 में हरियाणा के भिवानी में जली मिली बोलेरो गाड़ी और दो युवकों, जुनैद और नासिर को जला कर मार दिए जाने की जांच में पिछले दिनों गोरक्षक मोनू मानेसर का नाम सुर्खियां में रहा था.

तब से मोनू मानेसर फरार चल रहे हैं. मोनू मानेसर के शामिल होने की ख़बरों के बीच भरतपुर पुलिस ने भी एक टीम नूंह भेजी थी ताकि मोनू को गिरफ्तार किया जा सके.

मेवात में हिंसा के बाद गुरुग्राम की मस्जिद में आग, इमाम की मौत

दिलनवाज़ पाशा

बीबीसी संवाददाता

=============

हरियाणा के मेवात में सोमवार को सांप्रदायिक हिंसा के बाद देर रात गुरुग्राम के सेक्टर 57 स्थित मस्जिद में आग लगाने की ख़बर है. मस्जिद की प्रबंधन समिति के चेयरमैन ने बीबीसी से कहा, ”हिंसा की इस घटना में मस्जिद के इमाम की मौत हो गई है और यहां मौजूद दो अन्य लोग घायल हैं.”

इस ख़बर की पुष्टि के लिए बीबीसी ने गुरुग्राम पुलिस से भी इस संपर्क करने की कोशिश की लेकिन ख़बर लिखे जाने तक पुलिस का पक्ष नहीं मिल पाया है.

इमाम साद के भाई शादाब अनवर ने बीबीसी से बात करते हुए बताया, “मैं अपने भाई का बस चेहरा ही देख पाया हूं. अभी हम मोर्चरी पर हैं. अब एफ़आईआर दर्ज करवाएंगे. मेरे भाई पिछले सात महीने से इस मस्जिद के इमाम थे.मेरे भाई की उम्र महज़ 22 साल थी.”

शादाब ने बीती रात साढ़े 11 बजे साद से बात की थी. वो बताते हैं, “हम मूल रूप से बिहार के रहने वाले हैं. आज मेरे भाई को वापस घर लौटना था. उसका टिकट था. मैंने उसे फ़ोन करके समझाया कि अभी माहौल ठीक नहीं है. जब तक हालात सामान्य ना हो मस्जिद से बाहर ना निकले. यही आख़िरी बात मेरी उससे हुई.”

बीबीसी से बात करते हुए हरियाणा अंजुमन ट्रस्ट के चेयरमैन मोहम्मद असलम ख़ान ने बताया, “मेवात में हिंसा के बाद सोमवार शाम पुलिस की टीम हमारे पास पहुंची थी और हमें सुरक्षा का भरोसा दिया था.”

असलम ख़ान ने बताया, “स्थानीय थाने से पुलिस की टीम हमारे पास आई थी और हमसे कहा था कि मस्जिद की सुरक्षा पुलिस करेगी. हमसे कहा गया था कि पुलिस टीम मस्जिद में ही मौजूद रहेगी. जब हमने मस्जिद के इमाम और अन्य यहां रहने वाले दो अन्य कर्मचारियों के बारे में बात की तो पुलिस ने कहा कि चिंता की कोई बात नहीं है.”

असलम ख़ान बताते हैं, “मग़रिब की नमाज़ पढ़ने के बाद हम मस्जिद से लौट आए थे. पुलिस भी मौजूद थी. फिर रात 12 बजे से 12.30 बजे के बीच अचानक मस्जिद पर हमला हुआ. पहले मस्जिद के कैमरे तोड़े गए और फिर आग लगा दी गई.”

उन्होंने बताया, “मूल रूप से बिहार के रहने वाले और मस्जिद के इमाम साद को हमलावरों ने मार दिया. ख़ुर्शीद नाम के एक व्यक्ति घायल हैं जो आईसीयू में है. एक अन्य घायल हैं, जिन्हें मामूली चोट लगी है.”

2004 में हरियाणा सरकार ने गुरुग्राम में 17 मंदिरों, 2 गुरुद्वारों, एक चर्च और एक मस्जिद के निर्माण के लिए ज़मीन आवंटित की थी. ये मस्जिद उसी ज़मीन पर बनी हैं और न्यू गुरुग्राम की इकलौती मस्जिद है. यहां आसपास रहने वाले मुसलमान नमाज़ पढ़ने आते हैं.

सोमवार को मेवात में विश्व हिंदू परिषद और बजरंग दल ने एक धार्मिक यात्रा निकाली थी. इस यात्रा के दौरान दो गुटों में टकराव हुआ, जिसके बाद कई जगहों से हिंसा की ख़बरें आईं.\

हरियाणा: मेवात में हिंसा के बाद गुरुग्राम, फरीदाबाद में स्कूल-कॉलेज बंद

हरियाणा के मेवात में एक धार्मिक यात्रा के दौरान सोमवार को दो गुटों के बीच हिंसा हुई.

इस हिंसा में कई संपत्तियों को आग लगाई गई और क़रीब 12 लोगों के घायल होने की ख़बर है.

इस हिंसा के बाद इलाक़े में भारी संख्या में सुरक्षाबल तैनात हैं और प्रशासन ने दो अगस्त तक इंटरनेट पर प्रतिबंध लगा दिया है.

हरियाणा के सीएम मनोहर लाल खट्टर ने सांप्रदायिक हिंसा पर कहा, ”आज की घटना दुर्भाग्यपूर्ण है. मैं सभी लोगों से प्रदेश में शांति बनाए रखने की अपील करता हूँ. दोषी लोगों को किसी भी क़ीमत पर बख्शा नहीं जाएगा, उनके ख़िलाफ़ सख़्त से सख़्त कार्रवाई की जाएगी.

प्रशासन हाई अलर्ट पर है और गुरुग्राम में मंगलवार को सभी शिक्षण संस्थान बंद करने का प्रशासन ने एलान किया गया है.

गुरुग्राम प्रशासन ने अपने बयान में कहा- पड़ोसी ज़िले नूंह में असमाजिक तत्वों ने रोड ब्लॉक की हुई हैं ताकि शांति भंग की जा सके. इसी के मद्देनज़र सावधानी बरतते हुए मंगलवार को स्कूल, कॉलेज बंद रहेंगे.

गुरुग्राम के अलावा फरीदाबाद में भी प्रशासन ने यही एलान किया है.

फरीदाबाद प्रशासन ने कहा- ”ज़िला नूंह में सोमवार को हुए सांप्रदायिक तनाव के बाद एहतियातन कदम उठाते हुए मंगलवार को फरीदाबाद जिला के सभी शिक्षण संस्थानों जिनमें स्कूल, कॉलेज, कोचिंग सेंटरशामिल हैं, की छुट्टी रहेगी. सभी शिक्षण संस्थान इन आदेशों का गंभीरता से पालन करेंगे.”

सोमवार को मेवात में विश्व हिंदू परिषद और बजरंग दल ने यात्रा आयोजित की थी. इस यात्रा में मोनू मानेसर के शामिल होने से इलाके के लोगों में गुस्सा था.

मोनू मानेसन जुनैद हत्या मामले में अभियुक्त हैं और अब तक फरार चल रहे हैं.

मोनू मानेसर ने भी इस यात्रा में शामिल होने की बात रविवार को कही थी.