देश

जिसको सनातन हिंदू राष्ट्र से दिक्क़त है वो दूसरे देश जाएं, हमारी योजना सनातन, हिंदू राष्ट्र, अखंड भारत की है : बाबा धीरेंद्र शास्त्री

बागेश्वर धाम के बाबा धीरेंद्र शास्त्री कई दिनों से देश-विदेश की सुर्खियों में हैं. उन पर अंधविश्वास को बढ़ावा देने के आरोप लगाए थे. उन्होंने मंगलवार (14 फरवरी) को एबीपी न्यूज़ से एक्सक्लूसिव बातचीत में इस सभी मुद्दों पर खुलकर अपनी बात रखी. बागेश्वर बाबा (Bageshwar Baba) ने कहा कि जब हिंदुस्तान में हिंदू (Hindu) रहते हैं तो इसे हिंदू राष्ट्र क्यों नहीं कहें. जिसको सनातन हिंदू राष्ट्र से दिक्कत है वो दूसरे देश जाएं.

Wasim Akram Tyagi
@WasimAkramTyagi

धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री ने कहा, “पाकिस्तान वाले हिंदू हैं. एशिया में रहने वाले हर इंसान में राम और कृष्ण का खून है. मेरा सपना अखंड भारत का है. पाकिस्तान को भारत में मिलाना है।” इस बाबा के अखंड भारत मिशन को मेरा पूर्णतः समर्थन है, बस बाबा इतना बता दे कि अखंड भारत बनाने कब चलना है?

धीरेंद्र शास्त्री ने कहा कि मैं कोई चमत्कारी नहीं, मैं साधारण इंसान हूं. मैं केवल बागेश्वर धाम का दास हूं, मैं कोई ईश्वर नहीं हूं. हम ध्यान करते हैं, साधना करते हैं और भगवान की कृपा से सब हो जाता है. हम जहां भी जाते हैं बालाजी से आशीर्वाद लेकर जाते हैं. हम प्रार्थना करते हैं कि बालाजी अपने शिष्यों पर कृपा कर दीजिए और कृपा हो जाती है.

“कला और दरबार में अंतर होता है”

धीरेंद्र शास्त्री ने माइंड-रीडर सुहानी शाह के जादू पर कहा कि कला और दरबार में अंतर होता है. कांच और मणि देखने में एक जैसे होते हैं पर दोनों अलग हैं. कांच मणि के जैसे चमक सकता है पर मणि के जैसे काम नहीं कर सकता, कांच की कीमत कभी मणि जितनी नहीं हो सकती. कला को हम नकारते नहीं हैं, लेकिन वैदिक परंपरा से उसकी तुलना नहीं. कला में माइंड रीडिंग भी आता है. सब मानते हैं कि दरबार में कृपा होती है.

चुनौती पर क्या बोले बाबा?

धीरेंद्र शास्त्री ने कहा कि आरोप लगाने वालों ने तो भगवान राम को भी नहीं बख्शा था तो फिर वे हमें कैसे छोड़ेंगे. हमें आरोप लगाने वालों से कोई दिक्कत नहीं है. कहने को तो लोग मीडिया को भी बिकाऊ कह देते हैं, पर हकीकत कुछ और ही है. हमें सिर्फ सनातन से मतलब है. बाबा ने कहा कि जो भी हमें चुनौती देते हैं वो कहीं भी अपना सेटअप लगा लें हम जाने के लिए तैयार हैं. हम किसी की चुनौती से डरकर नहीं भागे. ना हमें किसी ने चुनौती के बारे में लिखकर भेजा, ना ही उनका कोई व्यक्ति आया.

“पाकिस्तान भारत का बेटा है”

बागेश्वर बाबा ने पाकिस्तान को लेकर कहा कि पाकिस्तान भारत का बेटा है और हम पिता-पुत्र को मिलवाएंगे. दुनिया में जितने भी भारतीय हैं उनकी रगो में राम-कृष्ण का खून बह रहा है. हमारी योजना सनातन, हिंदू राष्ट्र, अखंड भारत की है. संविधान को लेकर उन्होंने कहा कि संविधान के पहले पेज पर भगवान राम का चित्र है. इसलिए हम कहते हैं कि संविधान के अनुसार हिंदू राष्ट्र बनाएंगे.
“भगवा-ए-हिंद क्यों नहीं हो सकता”

बागेश्वर बाबा ने कहा कि हिंदुस्तान में हिंदू रहते हैं तो इसे हिंदू राष्ट्र क्यों न बनाएं. यहां रहने वाले मुस्लिम, सिख, ईसाई सभी धर्मों के लोग हिंदू हैं. दुनिया में कई देश ऐसे हैं जिन्हें इस्लामिक देश कहते हैं क्योंकि वहां मुस्लिम हैं. ईसाई देश भी हैं तो फिर एक हिंदू राष्ट्र क्यों नहीं. गजवा-ए-हिंद हो सकता है तो भगवा-ए-हिंद क्यों नहीं हो सकता. भारत को हिंदू राष्ट्र कैसे बनाएंगे, इसपर उन्होंने कहा कि हम लोगों को जागरूक करेंगे. हम लोगों को हिंदू राष्ट्र के फायदे बताएंगे और फिर उन्हें शपथ दिलवाएंगे. जब देश के एक-तिहाई लोग बोलेंगे तो सरकार को उनकी बात माननी पड़ेगी.

संविधान और राजनीति पर क्या कहा?

उन्होंने कहा कि हम संविधान का अपमान नहीं करते, पूरा सम्मान करते हैं. इसलिए हमने हिंदू राष्ट्र बनाने की मांग नहीं की बल्कि ये कहा कि हम अपने ईश्वर से कहते हैं कि हिंदू राष्ट्र बनाएं. संविधान में पंतनिरपेक्ष कहा गया है धर्मनिरपेक्ष नहीं कहा गया. देश के कई लोग हिंदू राष्ट्र की मांग कर रहे हैं. उनमें मुस्लिम, ईसाई, सिख भी शामिल हैं. राजनीति को लेकर बाबा बागेश्वर बोले कि अगर कोई हमारे पास आता है तो हम उसको आशीर्वाद देते हैं. आशीर्वाद देना साधु का स्वभाव है. कमलनाथ आए थे तो उन्हें भी आशीर्वाद दिया. पीएम मोदी को लेकर उन्होंने कहा कि बहुत अच्छे हैं, जो सनातन धर्म के साथ हैं, हम उसके साथ हैं. स्वामी प्रसाद मौर्या पर आचार्य ने कहा कि वो यहां आएं और परिक्रमा लगाकर अपनी बात रखें.

बागेश्वर बाबा कब करेंगे शादी?

अपनी मां का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि जब कथा होती है तो मां भी आती हैं. मां तो मां होती हैं, उनकी ममता सबसे अलग है. मेरे लिए मां ने बहुत संघर्ष किया है. समाजसेवा के कारण मैं ज्यादा उनसे मिल नहीं पाता. मां अभी भी डांट लगाती हैं. सोने को लेकर, खाने को लेकर डांट पड़ती हैं. उन्होंने कहा कि मां शादी को लेकर भी चर्चा करती हैं. शादी के बारे में सोच रहा हूं, आने वाले 2-3 साल में शादी करे लेंगे. माता-पिता लड़की ढूंढ कर लाएंगे.