देश

जैन धर्म के प्रसिद्ध धर्मगुरु की हत्या कर लाश के टुकड़े किये, हत्यारोपी नारायण बसप्पा मादी और दलायथ गिरफ़्तार!

TRUE STORY
@TrueStoryUP
जैन धर्म के प्रसिद्ध धर्मगुरु की हत्या कर लाश के टुकड़े किये…जैन मुनि नंदी महाराज की हत्या के बाद बोरवेल में मिले शव के टुकड़े, 6 जुलाई से थे लापता… दो आरोपी अरेस्ट

बेलगावी (कर्नाटक)। कर्नाटक के बेलगावी जिले के एक गांव में चौंकाने वाली घटना सामने आई है, जहां एक जैन मुनि के शव के टुकड़े बोरवेल से बरामद हुए हैं. पुलिस ने यह जानकारी दी. जिले की चिकोड़ी तालुक में कुएं में शव के टुकड़े मिले हैं. मुख्यमंत्री सिद्धरमैया ने इस भयावह घटना के आलोक में एक जांच दल का गठन किया और अधिकारियों को मामले की गहन जांच के निर्देश दिए हैं।

पुलिस ने कहा कि इस सिलसिले में नारायण बसप्पा मादी और हासन दलायथ नाम के दो लोगों को गिरफ्तार किया गया है. पुलिस ने बताया कि पीड़ित आचार्य श्री कामकुमार नंदी महाराज पिछले 15 वर्ष से नंदी पर्वत जैन बसदी में रह रहे थे।

अधिकारी ने बताया, ‘छह जुलाई को बसदी भीमप्पा उगारे के प्रबंधक ने जैन मुनि के लापता होने की शिकायत दर्ज कराई थी. हमने जांच शुरू की और दो लोगों को गिरफ्तार किया.’ पूछताछ में पता चला कि जैन धर्म के दिगंबर संप्रदाय से ताल्लुक रखने वाले मुनि पैसे उधार देते थे. बताया जाता है कि संदिग्धों ने उनसे पैसे उधार लिए थे।

अधिकारी ने कहा कि जब मुनि ने आरोपियों से उधार दिए गए पैसे के बारे में पूछताछ की, तो नारायण मादी ने, जो पिछले कुछ वर्षों से आश्रम में जैन मुनि के साथ रह रहा था, ने कथित तौर पर उनकी हत्या कर दी और उनके शरीर को टुकड़ों में काटकर उसे आश्रम से करीब 30 किमी दूर एक बंद पड़े बोरवेल में फेंक दिया. 10 घंटे के सर्च ऑपरेशन के बाद पुलिस को जैन मुनि का शव मिल सका।

मुख्यमंत्री सिद्धरमैया ने जैन मुनि की मौत पर दुख व्यक्त करते हुए कहा कि उन्होंने पुलिस अधिकारियों को मामले की गहन जांच करने और यह सुनिश्चित करने का निर्देश दिया है कि दोषियों को अदालत से सजा मिले. सिद्धरमैया ने एक बयान में कहा कि आरोपियों के खिलाफ निर्मम कार्रवाई की जानी चाहिए. उन्होंने कहा, ‘किसी को भी कानून अपने हाथ में लेने की इजाजत नहीं है. हमारे अधिकारियों ने जांच तेज कर दी है और कुछ लोगों को हिरासत में लिया गया है. मैंने निर्देश दिए हैं कि कोई भी आरोपी बचना नहीं चाहिए.’…