दुनिया

नेतनयाहू ग़ज़ा पट्टी में ज़मीनी कार्यावाही को लेकर असमंजस का शिकार हैं!

इस्राईली मीडिया का कहना है कि प्रधानमंत्री बिनयामिन नेतनयाहू ग़ज़ा में ज़मीनी कार्यवाही के बारे में असमंजस में हैं क्योंकि नेतनयाहू को हिज़्बुल्लाह से भी जंग छिड़ जाने का डर है।

इस्राईली अधिकारी बार बार धमकियां दे रहे हैं कि ग़ज़ा पट्टी में वो ज़मीनी कार्यवाही ज़रूर करेंगे लेकिन ज़मीनी आप्रेशन शुरू नहीं कर पा रहे हैं।

ज़ायोनी सूत्रों ने एक बार कहा कि ख़राब मौसम की वजह से आप्रेशन को टाल दिया गया जबकि कुछ दिन बाद यह ख़बरें आईं कि अमरीकी राष्ट्रपति जो बाइडन ने इस बारे में ज़ायोनी अधिकारियों को सावधान किया है।

इस्राईली मीडिया का कहना है कि सैनिक अधिकारियों को यह डर है कि रजानेता कहीं ज़मीनी आप्रेशन के विकल्प को पूरी तरह मेज़ से हटा न दें इसलिए वे दबाव भी डाल रहे हैं। उनका कहना है कि यह आप्रेशन 2 से 6 हफ़्ते तक जारी रह सकता है हालांकि इसमें बहुत अधिक नुक़सान की भी आशंका है। मगर दूसरी ओर राजनेताओं की ओर से उन्हें डर है कि कहीं ज़मीनी आप्रेशन का विकल्प नज़रअंदाज़ न कर दिया जाए।

इस्राईल के कान टीवी चैनल ने कहा कि सेना पूरी तरह ज़मीनी आप्रेशन के लिए तैयार है लेकिन अभी उस इसके लिए ज़रूरी निर्देश नहीं मिले हैं। जैसे जैसे समय बीत रहा है सैनिकों का मनोबल गिरता जा रहा है।