देश

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा-ग़ज़ा के अस्पताल में बड़ी संख्या में लोगों की दुखद मौत पर गहरा सदमा लगा है, पीड़ितों के परिजनों के प्रति हमारी गहरी संवेदना है!

ग़ज़ा के अल अहली अस्पताल पर हमले में बड़ी संख्या में नागरिकों के मारे जाने पर भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की ओर से बुधवार को प्रतिक्रिया आई है.

पीएम मोदी ने सोशल मीडिया प्लेटफ़ॉर्म एक्स (पूर्व में ट्विटर) पर लिखा, “ग़ज़ा में अल अहली अस्पताल में बड़ी संख्या में लोगों की दुखद मौत पर गहरा सदमा लगा है. पीड़ितों के परिजनों के प्रति हमारी गहरी संवेदना है. घायलों के जल्द स्वस्थ्य होने की हम प्रार्थना करते हैं.”

उन्होंने लिखा, “मौजूदा संघर्ष में नागरिकों के हताहत होने की घटना बहुत गंभीर और लगातार चिंता की बात है. जो इस घटना में शामिल हैं उनपर ज़िम्मेदारी तय होनी चाहिए.”

इसराइल पर फ़लस्तीनी चरमपंथी संगठन हमास के हमले के बाद भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इसराइली प्रधानमंत्री बिन्यामिन नेतन्याहू से कहा था कि, “इस मुश्किल घड़ी में भारत इसराइल के साथ खड़ा है.” मोदी ने अचानक हुए हमास के हमले के बारे में कहा कि “आतंकवादी हमले की ख़बर” से वो चिंतित हैं.

ग़ज़ा के स्वास्थ्य विभाग ने दावा किया है कि अल अहली अस्पताल पर इसराइल के हवाई हमले में क़रीब 500 लोगों की मौत हो गई है.

इस बीच जॉर्डन ने अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन, फ़लस्तीनी राष्ट्रपति महमूद अब्बास और मिस्र के राष्ट्रपति अब्दुल फ़तेह अल सिसी के साथ होने वाली समिट रद्द कर दी है.

फ़लस्तीनी प्राधिकरण के राष्ट्रपति महमूद अब्बास ने अल अहली अस्पताल पर हुए हमले को ‘भयावह युद्ध नरसंहार’ बताया है. उन्होंने कहा, “इसराइल ने सारी हदें पार कर दी हैं.”

Deeply shocked at the tragic loss of lives at the Al Ahli Hospital in Gaza. Our heartfelt condolences to the families of the victims, and prayers for speedy recovery of those injured.

Civilian casualties in the ongoing conflict are a matter of serious and continuing concern. Those involved should be held responsible.