उत्तर प्रदेश राज्य

बरेली में अखिलेश यादव ने भाजपा पर जमकर निशाना साधा, कहा-तीसरे चरण का चुनाव बरेली से मैनपुरी तक इंडिया गठबंधन सभी सीटें जीतने जा रहा है!

बरेली।बरेली में रविवार को सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने जनसभा की। सपा ने बरेली सीट से प्रवीण सिंह ऐरन को प्रत्याशी बनाया है। बिशप मंडल इंटर कॉलेज के मैदान में पार्टी के प्रत्याशी के समर्थन में जनसभा को संबोधित करते हुए अखिलेश यादव ने भाजपा पर जमकर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि तीसरे चरण का चुनाव होने जा रहा है। जो बरेली से शुरू होकर मैनपुरी तक होगा। इंडिया गठबंधन सभी सीटें जीतने जा रहा है। उन्होंने कहा कि इस बार जिस दल का अहंकार आसमान बराबर है, उसे नीचे गिराने का संकल्प बरेली वालों ने लिया है। भाजपाइयों में दरार है। एक दूसरे को सुरमा लगा रहे हैं। अबकी बार ऐतिहासिक जीत होगी। यह चुनाव भविष्य की पीढ़ियों का है। चुनाव संविधान बचाने का भी है। क्योंकि तभी देश बचेगा। हम सभी को देश को बचाना है।

अखिलेश यादव ने कहा कि लखनऊ वाले तो बहुत आए। यहां अब दिल्ली वाले आए। एक किमी घूमकर चले गए। दिल्ली वालों की कहानी फेल हो गई है। उनके घिसे पीटे डायलॉग अब बेकार हैं। सच्चाई सब जानते हैं। जिनके लिए वोट मांगने आए उनकी तस्वीर गायब है होर्डिंग्स से। अखिलेश ने किसानों के आंदोलन को सराहा। कहा कि किसान आंदोलन का नतीजा यह रहा कि सरकार ने तीनों काले कानून वापस लिए। इंडी गठबंधन जब भी बनेगा किसानों को पूरा सहयोग मिलेगा। डीजल पेट्रोल की कीमत बढ़ रही है। किसान से गेहूं नहीं खरीदा गया। बाजार पहुंचकर बेच रहे हैं। इन्होंने बड़े बड़े उद्योगपतियों का कर्ज माफ कर दिया है। हम किसानों का कर्जा माफ कर देंगे।

सपा मुखिया ने कहा कि किसान दुखी हैं। छात्र भी परेशान हैं। ये कोई परीक्षा नहीं करा पाए। सभी पेपर लीक हो रहे हैं। दस से ज्यादा परीक्षा हुई थीं। सब के पेपर लीक हुए। उनके भविष्य को अंधकार में डाल रहे हैं। अग्निवीर जैसी आधी अधूरी नौकरी लाए हैं। उन्होंने कहा कि हमारी सरकार अग्निवीर व्यवस्था खत्म करेगी। पुलिस वाले भी हम पर भी गुस्सा दिखाते हैं। अखिलेश ने कहा कि जीएसटी, नोटबंदी अन्य योजनाएं फ्लॉप हैं। जब हमने सौ नंबर चलाया था तब तक सब सही था पर जब बीजेपी वालों ने 112 किया था तब से सब खराब हुआ है।

सपा मुखिया ने कहा कि इलेक्टोरल बॉन्ड का खुलासा हुआ है। उससे भाजपा का बैंड बज गया है। भाजपा ने इलेक्ट्रॉल बॉन्ड से वसूली की। इसलिए यह महंगाई बढ़ी है। कोई हजार, सौ करोड़, दो सौ करोड़ का चंदा लेता है क्या। बरेली में कई बड़े व्यापारी हैं वो जानते होंगे। जिस कंपनी ने इन्हें चंदा दिया है। वो भी मुनाफा कमाएगा। गेहूं सस्ता लिया पर पैकेट में महंगा बेचते हैं। खुशामद के लिए दाल, तेल, रिफाइंड दे रहे थे। समाजवादियों ने तय किया है कि गरीबों को गुणवत्ता अनाज के साथ डाटा मुफ्त देंगे। दाल आटा के साथ डाटा भी देंगे। लैपटॉप जो दिए थे, वह आज भी चल रहे हैं। इन्होंने दिया हमारी नकल करके, पर ऐसा दिया कि वह चलता नहीं।