दुनिया

बग़ावती लहरों से घबराकर सऊदी अरब ने बुलाई मक्का में मुस्लिम देशों की आपात्काल बैठक

नई दिल्ली: जॉर्डन में शुरू हुए इस्लामिक इंक़लाब की खबरों से तख्त नशीनों की नींदे उड़ी हुई हैं,जिसके चलते तमाम अरब शासकों की साँसें रुकी हुई हैं,और इसको रुकवाने की भरपूर कोशिश में लगे हुए हैं।

प्राप्त जानकारी के अनुसार सऊदी अरब ने जॉर्डन में चल रहे है जनता के विशाल प्रदर्शन से घबराकर अपने सहयोगी देशों की एक आपताक़ल बैठक बुलाई है,जिसमें कुवैत,संयुक्त अरब अमीरात,और जॉर्डन के नेता शामिल हुए ।

इन दिनों जॉर्डन इंटरनेशनल मीडिया में छाया हुआ है,जनता ने देश के शासन के खिलाफ सड़को पर उतर कर विरोध प्रदर्शन कर रही है,तख्ता पलटने पर उतारू होगई है।

जॉर्डन में हो रहे प्रदर्शनों को अरब देशों में उठने वाली इस्लामी चेतना का दूसरा भाग बताया जा रहा है। इस बीच दिन प्रतिदिन इन प्रदर्शनों में आ रही तेज़ी को देखकर अरब शासकों की नींदें हराम हो गई हैं और इसी परिप्रेक्ष्य में सऊदी अरब के आह्वान पर एक आपातकालीन बैठक का ऐलान किया गया है।

आले सऊद के शाही महल से जारी हुए एक बयान के अनुसार सऊदी नरेश जॉर्डन की स्थिति पर पैनी नज़र रखे हुए हैं। सलमान बिन अब्दुल अज़ीज़ ने जॉर्डन बादशाह अब्दुल्लाह द्वितीय, कुवैत के बादशाह सबाह अलअहमद सबाह और अबू ज़हबी के युवराज मोहम्मद बिन ज़ाएद आले नहयान से सम्पर्क साधा है।

सऊदी अरब के बादशाह ने इस सभी नेताओं से कहा है कि जॉर्डन में हो रहे विरोध-प्रदर्शनों पर कड़ी नज़र बनाए रखें और साथ ही उन्होंने आपात बैठक भी बुलाई है।