दुनिया

मस्जिदुल अक़सा की सुरक्षा के लिए आगे आओ : हनिया का आह्वान

हमास के नेता का कहना है कि राजनीतिक षडयंत्रों के बावजूद अमरीका और ज़ायोनी शासन अपने लक्ष्यों को प्राप्त नहीं कर पाएंगे।

हमास की राजनीतिक शाखा के प्रमुख इस्माईल हनिया ने सभी फ़िलिस्तीनियों का आह़वान किया है कि मस्जिदुल अक़सा की सुरक्षा के लिए वे पवित्र रमज़ान के पहले ही दिन इस पवित्र स्थान पर पहुंचें।

इस्माईल हनिया ने बुधवार को अपने टेलिविज़न संबोधन में कहा कि ग़ज़्ज़ा में ज़ायोनी शत्रु ने बहुत ही भयानक अपराधों के साथ ही जातीय सफाए का काम भी जारी कर रखा है।

उनका कहना था कि शक्ति के असंतुलन के बावजूद फ़िलास्तीनी प्रतिरोधकर्ताओं ने ज़ायोनियों के मुक़ाबले में एतिहासिक वीरता का प्रदर्शन किया है। हनिया के अनुसार अतिग्रहणकारियों को निकाल बाहर करने तक हमारा प्रतिरोध जारी रहेगा।

उन्होंने कहा कि हमने अगर वार्ता में कहीं पर लचक दिखाई तो वह केवल फ़िलिस्तीनियों के अधिक ख़ून को बहने से रोकने के लिए थी। उन्होंने कहा कि ग़ज़्ज़ा वासियों को भूखों मारने का जो षडयंत्र रचा गया है उसको विफल बनाने की ज़िम्मेदारी इस्लामी जगत की है। हमास के नेता के अनुसार यह समय सभी इस्लामी देशों विशेषकर अरब देशों के सामने आने का है जो रफह पर ज़ायोनियों के हमले के मुक़ाबले में आएं।

इस्माईल हनिया का कहना था कि इस समय ग़ज़्ज़ा में जो अपराध किये जा रहे हैं वे सारे ही फ़िलिस्तीनियों को पलायन पर विश्व करने के उद्देश्य से हैं। एसे में मेरा समस्त फ़िलिस्तीनियों ने यह अनुरोध है कि वे पवित्र रमज़ान के पहले ही दिन मस्जिदुल अक़सा पहुंचें।