दुनिया

यमन के तट के क़रीब होने वाली घटना के बाद ब्रिटेन ने जहाज़ों को लाल सागर में बहुत सावधान रहने की नसीहत की!

ब्रिटेन की समुद्री ट्रेड संस्था ने कहा है कि लाल सागर से गुज़रने वाले जहाज़ों को चाहिए कि बहुत एहतियात से काम लें क्योंकि यमन की हुदैदा बंदरगाह से 55 नाटिकल माइल की दूरी पर एक और जहाज़ पर हमले की घटना हुई है।

संस्था ने कहा कि इस झटना की जांच जारी है मगर इस बीच सभी जहाज़ों को सावधान किया जाता है कि वे बहुत सावधानी के साथ इस जलमार्ग से गुज़रें और कोई भी घटना होने पर तत्काल उसकी सूचना दें।

घटना की ज़िम्मेदारी किसी ने क़ुबूल नहीं की है मगर यह सब को मालूम है कि यमन के अंसारुल्लाह आंदोलन ने ग़ज़ा पट्टी में ज़ायोनी शासन के भयानक अमानवीय अपराधों पर आपत्ति जताते हुए कहा था कि अगर ग़ज़ा में हमारे भाइयों पर ज़ायोनी शासन का हमला बंद न हुआ तो इस्राईल जाने वाले जहाज़ों को लाल सागर से गुज़रने नहीं दिया जाएगा।

गत मंगलवार को भी ब्रितानी संस्था ने कहा था कि हुदैदा से 60 नाटिकल माइल की दूरी पर एक धमाका हुआ और वहां मिसाइल देखे गए।

अंसारुल्लाह का कहना है कि ज़ायोनी शासन ने जब ग़ज़ा पट्टी की कई साल से नाकाबंदी कर रखी है और ग़जा में हमारे भाइयों का नरसंहार कर रहा है तो हम भी इस्राईल जाने वाले जहाज़ों को रोकेंगे।

अंसारुल्लाह ने अमरीका के नेतृत्व में बनने वाले समुद्री अलायंस को भी चेतावनी दी है कि अगर उसने यमन के ख़िलाफ़ कोई भी कार्यवाही की तो नतीजा भुगतने के लिए तैयार रहे।