दुनिया

यूएन में ज़ायोनी प्रतिनिधि ने फिर उग़ला ज़हर!

संयुक्त राष्ट्र में अवैध ज़ायोनी शासन के राजदूत गिलाद एर्दान ने गुरुवार को आरोप लगाया कि संयुक्त राष्ट्र संघ के महासचिव एंटोनियो गुटेरेस हमास के हाथों में खेल रहे हैं। एर्दान ने गुटेरेस के तत्काल इस्तीफ़े की मांग दोहराई है।

प्राप्त रिपोर्ट के मुताबिक़, संयुक्त राष्ट्र में अवैध ज़ायोनी शासन के राजदूत गिलाद एर्दान ग़ज़्ज़ा में मानवीय युद्धविराम के लिए सुरक्षा परिषद से संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो गुटेरेस की अपील का जवाब दे रहे थे। उन्होंने अपने बयान में कहा कि “आज, महासचिव एक नए नैतिक निम्न स्तर पर पहुंच गए हैं।” एर्दान ने कहा कि वह “पहली बार” ग़ज़्ज़ा युद्ध के संबंध में संयुक्त राष्ट्र चार्टर के अनुच्छेद 99 को सक्रिय कर रहे हैं, एक ऐसा अनुच्छेद जिसे केवल ऐसी स्थिति में लागू किया जा सकता है जहां अंतरराष्ट्रीय शांति और सुरक्षा को ख़तरा हो। गिलाद एर्गन ने यूएन महासचिव गुटेरेस पर आरोप लगाते हुए कहा कि इस दुर्लभ धारा को उन्होंने तभी सक्रिय करने का फ़ैसला किया जब उन्हें इस्राईल पर दबाव बनाने की नीति पर काम करना है। इस बीच इस्राईली राजदूत के अपमानजनक और ग़ैर-ज़िम्मेदाराना बयान पर दुनिया भर के कई देशों के प्रतिनिधियों और संस्थाओं ने कड़ी आलोचना की है। विशेषज्ञों का मानना है कि जिस प्रकार ज़ायोनी प्रतिनिधि बयान दे रहे हैं उससे लगता है कि इस काम के लिए भी अमेरिका की ओर से उन्हें ग्रीन सिग्नल दिया गया है।

बता दें कि संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो गुटेरेस ने यूएन चार्टर के अनुच्छेद 99 का सहारा लेते हुए, बुधवार को सुरक्षा परिषद से, ग़ज़्ज़ा में एक मानवीय त्रासदी को से रोकने के लिए कार्यवाही करने और एक पूर्ण मानवीय युद्धविराम का आहवान किया है। यूएन महासचिव ने, सुरक्षा परिषद को लिखे पत्र में, यूएन चार्टर के अनुच्छेद 99 का सन्दर्भ दिया है, जो अध्याय XV का हिस्सा है। संयुक्त राष्ट्र के इतिहास में, अनुच्छेद 99 का प्रयोग बहुत कम और केवल अति असाधारण मामलों में करते देखा गया है। यूएन प्रवक्ता स्टीफ़न दुजैरिक ने प्रैस को इस पत्र के साथ-साथ एक वक्तव्य जारी करते हुए कहा है कि यह पहला अवसर है जब एंटोनियो गुटेरेस ने, वर्ष 2017 में महासचिव का पद संभालने के बाद, यूएन चार्टर के अनुच्छेद 99 का सहारा लिया है।