दुनिया

यूक्रेन को सपोर्ट करने पर अमरीकी समाज दो भागों में बट गया, रूस से सीधे टकराव का जोखिम लेगा अमरीका? !!रिपोर्ट!!

अमरीका के एनबीसी टीवी चैनल ने जो अध्ययन किया है उससे यह नतीजा निकला है कि यूक्रेन का सपोर्ट करने के सवाल पर अमरीकी समाज दो भागों में बट गया है।

चैनल ने बताया कि 49 प्रतिशत सपोर्ट दिए जाने के पक्ष में तो 47 प्रतिशत सपोर्ट के विरोध में हैं। इससे पता चलता है कि अमरीका समाज में किस बुरी तरह इस मसले पर मतभेद है। वहीं 50 प्रतिशत लोग कहते हैं कि बाइडन अब यूक्रेन की जंग को लीड करने की कोशिश न करें 41 प्रतिशत का कहना है कि बाइडन इस जंग को लीड करते रहें। अमरीका अब तक दर्जनों अरब डालन की सैनिक सहायता यूक्रेन को दे चुका है। हाल में बाइडन प्रशासनने यूक्रेन को 31 अब्राम्ज़ टैंक दिए हैं।

मगर यूक्रेन की मांग है कि सहयता बढ़ाई जाए। पत्रकारों ने अमरीकी राष्ट्रपति जो बाइडन से पूछा कि क्या अमरीका यूक्रेन को एफ़16 युद्धक विमान देगा तो उनका साफ़ जवाब था। एनबीसी ने इसके बाद भी जब इसपर डिबेट की तो टीकाकार का कहना था कि अमरीका बिल्कुल दे सकता है। अमरीका इससे पहले पैट्रियट और टैंक यूक्रेन को देने का भी खंडन कर रहा मगर अब अमरीका ने दे दिया है। नैटो में अमरीका के पूर्व राजदूत का कहना है कि अगर हालात बिगड़ते हैं तो यह ही मुमकिन है कि अमरीका यूक्रेन को और भी हथियार दे दे। उनका कहना था कि यह हो सकता है कि अमरीका इस नतीजे पर पहुंचे कि वह रूस के हमले का सामना करने का जोखिम उठाने के लिए तैयार है। तो इस स्थिति में अमरीका यूक्रेन को एफ़ 16 युद्धक विमान भी और लंबी दूरी के मिसाइल भी दे सकता है। बाइडन प्रशासन को इस प्रकार काम करना चाहिए कि अमरीका रूस के प्रत्यक्ष टकराव की स्थिति न पैदा हो। यूक्रेन के लोगों का कहना है कि इस समय अमरीका से हमारी बात चल रही है कि वह यूक्रेन को 24 एफ़-16 युद्धक विमान दे। यूक्रेन के राष्ट्रपति ज़ेलेन्स्की ने अमरीका से मांग की है कि उसे 300 किलोमीटर से अधिक रेंज के मिसाइल दे। न्यूयार्क से आईआरआईबी के लिए अली रजबी की रिपोर्ट।