दुनिया

राष्ट्रसंघ के 111 सदस्य चढे ग़ज़्ज़ा युद्ध की भेंट : गुटेरस

ग़ज़्ज़ा में आम लोगों के साथ राष्ट्रसंघ के कई कर्मचारी मारे गए जिस पर गुटेरस ने दुख जताया है।

एंटोनियों गुटेरस का कहना है कि संयुक्त राष्ट्रसंघ के इतिहास में इस अन्तर्राष्ट्रीय संस्था को सबसे बड़ी क्षति ग़ज़्ज़ा युद्ध में हुई है।

राष्ट्रसंघ के महासचिव के अनुसार ग़ज़्ज़ा युद्ध के दौरान वहां पर संयुक्त राष्ट्रसंघ के 111 सदस्य मारे गए। उन्होंने कहा कि इस अन्तर्राष्ट्री संस्था के गठन से लेकर अबतक इसको होने वाला यह सबसे बड़ा जानी नुक़सान था।

संयुक्त राष्ट्रसंघ के महासचिव एंटोनियो गुटेरस कहते हैं कि ग़ज़्ज़ा में इस्राईल की कार्यवाही के आरंभ से लेकर वहां पर 14000 से अधिक लोग मारे गए। उन्होंने कहा कि मेरे कार्यकाल में दुनिया के किसी भी युद्ध में इतने बच्चे नहीं मारे गए जितने ग़ज़्ज़ा युद्ध में फ़िलिस्तीनी बच्चे मारे गए। आवासीय क्षेत्रों में विनाशकारी हथियारों के प्रयोग का आम लोगों पर बहुत बुरा असर पड़ा।

गुटेरस ने कहा कि बिल्कुल साफ है कि वहां पर क़ानूनों को तोड़ा गया क्योंकि ग़ज़्ज़ा के 80 प्रतिशत से अधिक लोगों को दक्षिण की ओर पलायन के लिए विवश किया गया। उन्होंने बताया कि ग़ज़्ज़ा के शरणार्थी कैंपों में स्वास्थ्य की दृष्टि से हालात बहुत ख़राब हैं। वहां पर अस्पतालों के पास आवश्यकता की दवाएं और चिकित्सा उपकरण नहीं हैं। इस समय उत्तरी ग़ज़्ज़ा में भारी भुखमरी है।