देश

ख़ालिस्तान समर्थक तत्वों द्वारा लंदन में भारतीय उच्चायोग में झंडा उतारे जाने पर दिल्ली में ब्रिटिश राजनयिक को तलब किया!

नयी दिल्ली, 19 मार्च (भाषा) भारत ने रविवार रात दिल्ली में सबसे वरिष्ठ ब्रिटिश राजनयिक को तलब किया और एक विरोध प्रदर्शन के दौरान खालिस्तान समर्थक अलगाववादी तत्वों द्वारा लंदन में भारतीय उच्चायोग में भारतीय ध्वज को उतारे जाने के बाद ‘‘सुरक्षा व्यवस्था की गैरमौजूदगी’’ पर स्पष्टीकरण मांगा।.

विदेश मंत्रालय ने एक कड़े बयान में कहा कि भारत को ब्रिटेन में भारतीय राजनयिक परिसरों और कर्मियों की सुरक्षा के लिए ब्रिटेन सरकार की बेरूखी देखने को मिली है, जो अस्वीकार्य है।.

 


ANI_HindiNews
@AHindinews

लंदन में भारतीय उच्चायोग के ख़िलाफ़ अलगाववादी और चरमपंथी तत्वों द्वारा भारतीय झंडा उतारने की घटना के संबंध में भारत के कड़े विरोध को व्यक्त करने के लिए आज देर शाम ब्रिटेन के वरिष्ठतम राजनयिक को तलब किया गया: विदेश मंत्रालय


ANI_HindiNews
@AHindinews
#WATCH यूनाइटेड किंगडम: खालिस्तानी तत्वों ने लंदन में भारत के उच्चायोग से भारतीय झंडे को उतारने की कोशिश की लेकिन वहां मौजूद भारतीय सुरक्षाकर्मियों ने उनको झंडा उतारने से रोका।

(स्रोत: MATV, लंदन)

(नोट: अंत में अभद्र भाषा का इस्तेमाल हुआ है।)

 

 

वारिस पंजाब दे चीफ और खालिस्तान समर्थक अमृतपाल सिंह (Amritpal Singh) पर पंजाब पुलिस की कार्रवाई के बाद ब्रिटेन में हंगामा हुआ है. रविवार (19 मार्च) को खालिस्तान समर्थकों ने लंदन में भारतीय हाई कमीशन के परिसर में हंगामा किया.

इस घटना को लेकर भारत ने तीखी प्रतिक्रिया दी है और दिल्ली में ब्रिटिश हाई कमीशन के उप-प्रमुख को तलब किया. उच्चायुक्त एलेक्स एलिस इस समय दिल्ली से बाहर हैं.

विदेश मंत्रालय ने एक कड़े बयान में कहा कि भारत को ब्रिटेन में भारतीय राजनयिक परिसरों और कर्मियों की सुरक्षा के लिए ब्रिटेन सरकार की बेरूखी देखने को मिली है, जो अस्वीकार्य है.

ब्रिटेन के राजदूत ने की निंदा

हाई कमीशन के बाहर खालिस्तान समर्थकों के हंगामे की भारत में ब्रिटेन के राजदूत एलेक्स एलिस ने निंदा की है. उन्होंने ट्वीट कर कहा कि यह पूरी तरह अस्वीकार्य है. उन्होंने कहा कि मैं ब्रिटेन में भारतीय हाई कमीशन के लोगों और परिसर में आज के शर्मनाक कृत्य की निंदा करता हूं.

मंत्रालय ने कहा, ‘‘ब्रिटेन से सुरक्षा व्यवस्था की गैरमौजूदगी के लिए स्पष्टीकरण की मांग की गई, जिससे ये तत्व उच्चायोग परिसर में दाखिल हुए.’’

विदेश मंत्रालय ने कहा, ‘‘उम्मीद है कि ब्रिटेन सरकार आज की घटना में शामिल प्रत्येक व्यक्ति की पहचान, गिरफ्तारी और मुकदमा चलाने के लिए तत्काल कदम उठाएगी और ऐसी घटनाओं की पुनरावृत्ति को रोकने के लिए कड़े कदम उठाएगी.’’.

अमृतपाल सिंह पर पुलिस का एक्शन

गौरतलब कि पंजाब पुलिस ने खालिस्तान समर्थक और वारिस पंजाब दे के चीफ अमृतपाल सिंह पर शिकंजा कसने के लिए शनिवार को ऑपरेशन शुरू किया था. पुलिस ने उसके कई साथियों को तो गिरफ्तार कर लिया था, लेकिन अमृतपाल भागने में सफल रहा. पुलिस उसकी तलाश कर रही है.

अमृतपाल सिंह पर अजनाला थाने में हमला करने, हेट स्पीच और अवैध हथियार रखने को लेकर एफआईआर दर्ज हैं.