विशेष

सम्भोग ही जीवन का सत्य हैं…बड़ी उम्र की औरतें मोहब्बत इसलिए नहीं करती कि तुम…स्वामी देव आनंद के लेख पढ़िए!

स्वामी देव कामुक
==============
💔सम्भोग ही जीवन का सत्य हैं…
😀एक औरत कितनी प्यासी और कितनी कामवासनाओं से भारी पूरी है।🥰
🔥🔥एक औरत अपने मन के अश्लील और कामुक विचार को सिर्फ बिस्तर पर किसी मर्द की बाहों में लिपट कर आपने अदाओं से व्यक्त करती है।❤️❤️
😍जो मर्द उसकी इन अदाओ को समझ जाता है
सिर्फ वही मर्द चरमसुख पाने का हकदार होता।🤩
सम्भोग में किये वादे और बातें कभी झूठी नहीं होती हैं।
और मौसम ठंड का हो तो योग के साथ साथ संभोग के भी भरपूर आनंद आता है।🙈
🙈🙈
-स्वामी देव

स्वामी देव कामुक

प्रेम की गहन अवस्था में पति पत्नी, प्रेमी प्रेमिका का मिलन होता है। तो उनके बीच एक ऊर्जा एनर्जी का वर्तुल बनता है। यह कृत्य शारीरिक और मानसिक अवस्था के ऊपर अध्यात्मिक में परिवर्तित हो जाते हैं।
सेक्स संभोग प्रेम में रूपांतरित हो जाता है प्रेम ही अपनी उच्चतम अवस्था में भक्ति और प्रार्थना बन जाता है। वर्तुल बनते ही शरीर और मन का भेद खत्म हो जाता है। दो आत्माओं का मिलन होता है। इस गहन अवस्था में पत्नी या प्रेमिका मां बन जाती है। पति या प्रेमी बेटा बन जाता है। और यह प्रेम की उच्चतम अवस्था है और दोनों ऊर्जा और एनर्जी का मिलन होता है। और अस्तित्व में विलीन होने का अनुभव प्राप्त होता है।
– स्वामी देव

स्वामी देव कामुक
==============
Swami Dev Anand…
My name is Swami Dev Anand
I am in the male body. My physical age is 40years. I am a teacher of Tantra. I do not like lying . I am not a traditional tantrik, no Baba. I do not share my photos. Please don’t ask for photos. Tantra is a mystical science. My research has been on the transformation of Kama energy into spiritual energy through the methods of Tantra. Please stay away from me mentally ill “male or eunuch” who confuse people by making a profile of a woman. Please note Tantra is not for everyone.

(मेरा नाम स्वामी देव आनंद है। मैं पुरुष शरीर में हूं। मेरी शारीरिक आयु 40वर्ष है। मैं तंत्र का शिक्षक हूं। मुझे झूठ पसंद नहीं है । मैं कोई पारंपरिक तांत्रिक नहीं, कोई बाबा नहीं। मैं अपनी तस्वीरें साझा नहीं करता। कृपया फोटो न मांगें। तंत्र एक रहस्यमय विज्ञान है। मेरा शोध तंत्र के माध्यम से काम ऊर्जा को आध्यात्मिक ऊर्जा में बदलने पर रहा है। कृपया मानसिक रूप से बीमार “पुरुष या किन्नर” मुझसे दूर रहें जो एक महिला की प्रोफाइल बनाकर लोगों को भ्रमित करते हैं। कृपया ध्यान दें कि तंत्र हर किसी के लिए नहीं है)

स्वामी देव कामुक
=================
I LOVE YOU….
का मतलब होता है किसी के हो जाना….
किसी को अपना बना लेना…
जिस्म नहीं रूह से अपना लेना…
उसके दर्द को अपना दर्द बना लेना….
उसकी खुशी को अपना समझना…
आंसू बहने से पहले ही उन्हें थाम लेना…
दिल की बात वो जो कहना चाहे…
जुबान पर आने से पहले ही समझ लेना…
उसे हर मुमकिन खुशी देना..
हर बात में उसका साथ देना..
अच्छा कहे तो मुस्कुरा देना..
बुरा कहे तो नाराज़ हो जाना..
कभी गुस्सा हो जाना..कभी रूठना..कभी मनाना..
कभी गोद में सर रखकर सो जाना..
कभी हाथों में हाथ थामकर यूंही घंटो बैठे रहना..ना वो कुछ कहे..ना हम कुछ कहें.. बस आंखों से बाते करना..
जिंदगी की राहों में कभी साथ ना छोड़ना..
हर मुश्किल में साथ देना..हर छोटे मोटे लम्हे हो प्यार से जीना..
उसका इंतजार करना.. डांटना..और फिर चुपके चुपके से उसे मनाना..ना माने तो खुद रूठ जाना..
I LOVE YOU कहने से प्यार नहीं जताया जाता..प्यार तो आंखों से बयां हो जाता है…
जिस प्यार में शब्दों की जरूरत पड़े उस प्यार में कुछ कमी होती है..कहने से प्यार नहीं जताया जाता..प्यार जिन्हें होता है रूह में झांक लेते है,या हर बात का पता लगा लेते हैं..
कहने को इतना कुछ है कि एक किताब लिख दूं..मगर बस अभी इतना ही..
वैसे आजकल प्यार का मतलब सिर्फ I LOVE YOU कहना ही रह गया है..
कभी प्यार का मतलब समझ ही नहीं पाते..
प्यार सिर्फ शब्दों का रिश्ता ही नहीं है..प्यार तो वो एहसास है जो शब्दों का मोहताज़ नहीं है….!

स्वामी देव कामुक
=================
उम्रदराज़ औरतो में बड़ी कशिश,खिंचाव और आकर्षण महसूस करता हु।उनके भरे हुए शरीर और आगे पीछे की मादक बड़ी गोलाइयों अनायास ही मन मोह लेती है ।तन मन मे थिरकन पैदा कर देती है।बड़ी उम्र की ये औरते वास्तव में शरीर से नही मन से प्यासी होती है कारण इनके साथी उन्हें वो सब कुछ नही दे पाते
जिसकी ये अपेक्षा करती है,चाहे वो उनकी व्यस्तता वजह हो ,चाहे ढलती उम्र के कारण सेक्स के प्रति रुझान कम होना ।इन प्यासी नारियो को जब कोई पर पुरुष प्रेम देता है तो ये तन मन से उस से लतर की तरह चिपक जाती है और अपना सर्वस्व निछावर कर देती है।अब दूसरा पहलू देखे
पुरुष को इनके गदराए बदन से खेलने में आनंद आता है ये अपनी स्वभाबिक कामुक अदाओ और सिसकियों से ज्यादा उत्तेजित कर देती है।बच्चे पैदा होने के कारण इनके आंतरिक शारीरिक अंगों में ऐसे बदलाव आ जाते है जो घर्षण में ज्यादा आनंद देते है पुरुष को ऐसा चरमसुख देते है कि उसे मोक्ष जैसा लगता है… .

स्वामी देव कामुक
=========
·
बड़ी उम्र की औरतें मोहब्बत इसलिए नहीं करती कि तुम राम बनकर अहिल्या का उद्धार करोगे..
बड़ी उम्र की औरतें देखती है एक साया जिसकी छाँव में वो उम्र की थकान उतार सकें,वो ढूँढती हैं एक अल्हड़ दोस्त..जिसके साथ सड़क पर भींग सकें..
तुम में कुछ ख़ास है या तुम्हारी कमसिनी लालायित नहीं करती उन्हें वो चाहती हैं…एक हमसफ़र ऐसा हो…जिसकी वो दोस्त और प्रेमिका भी बन सकें…
कभी गुरूर आ जाए खुद पर तो आईने में देख लेना..
परिपक्व खूबसूरती और नादान सुंदरता में कितना फर्क होता हैं।.कभी लगे कि कुछ जीत लिया है तुमने तो झांकना उनके दिल में , खुद की हार पर कितना ख़ुश हो रही हैं वो…बड़ी उम्र की औरतें महज़ एक श्रद्धा की मूरत ढूँढ़ती हैं…।
जिसके गीत गुनगुनाते उम्र गुज़र जाए ।
बड़ी उम्र की औरतें जड़ से गहरी होती हैं…तुम तोड़ने जाओगे…तो ख़ुद की साँसें गँवा दोगे ।
बड़ी उम्र की औरतें भावुक प्रेम करती हैं…मगर इसका मतलब ये क़तई नहीं कि वो समझती नहीं…वो तुम्हारी नादानियाँ दरकिनार करती हैं!!
दरअसल इन्हें नहीं जीना अब छलावे की ज़िंदगी इसलिए अब वो पारदर्शी प्रेम चाहती हैं…
इससे पहले कि वक्त उड़ा ले जाए उनकी बची हुई नादानियाँ ..ये बड़ी उम्र की औरतें चंद लम्हों में सारी जिंदगी जीने की चाहत रखती हैं.।।
-स्वामी देव

स्वामी देव कामुक
==========
एक शादीशुदा स्त्री क्यों
पड़ जाती है किसी के प्रेम
में ?
ऐसा नहीं कि वो बदचलन है
ऐसा भी नहीं कि उसका
चरित्र ग़लत है
पर हाँ फिर भी वो पड़ जाती
है किसी के प्रेम में
उसके जीवन में जो खालीपन
हैं उसे किसी का साथ भरने
लगता है
जब उसे लगता है उसे कोई
नहीं समझता कोई भी उसे
नहीं सुनता
तब वह उसे अच्छा लगने
लगता हैं जो उसे समझता
भी है और सुनता भी है
एक ऐसे किसी का साथ
जिसके साथ वो बेफिक्री
वाली हंसी हंस पाती है
एक ऐसे किसी का साथ
जिसे वो हर बात कह जाती
है बिना ये सोचे कि कोई उसे
जज करेगा
पूर्ण समर्पित भाव से खुद
को उसके हवाले कर देती है
देह से परे प्रेम को हर रंग में
बिखेर देती है..💓

स्वामी देव कामुक
============
·
पुरुषो के संवेदनशील अंग, छूते ही होती है उत्तेजना ।।
हमने अक्सर सुना है की महिलाओ को उत्तेजित करने के लिए उनके शरीर के कुछ खास अंगो को छूना पड़ता है जैसे की उनके स्तन, होंठ, कान आदि| इनसे महिलाएं उत्तेजित हो जाती है और सेक्स में अपना भरपूर सहयोग देती है| लेकिन पुरुषो के शरीर में भी कामेच्छा बढाने वाले अंग होते है| ऐसे अंग जिन्हें छूने से उनके शरीर में उत्तेजना होती है|

1. होंठो का निचला हिस्सा
आमतौर पर महिलाओ को उत्तेजित करने के लिए पुरुष उनके होंठो पर चुम्बन करते है और ऐसे में महिलाये उत्तेजित हो जाती है लेकिन पुरुष होंठो से नहीं बल्कि उसके नीचे ठुड्डी पर किस करने या उस अंग को सहलाने से उत्तेजित होते है| ऐसे में पुरुषो का मन सेक्स के लिए करने लगता है और सेक्स के लिए तैयार होने लग जाते है|

2. निप्पल
जिस तरह से महिलाओ को उत्तेजित करने के लिए या उनकी सेक्स इक्षा बढाने के लिए निप्पल को चूसा या काटा जाता है उसी तरह पुरुषो के भी इस अंग में खास कामेच्छा होती है| पुरुषो के निप्पल को काटने या चूसने पर वो उत्तेजित होते है और उन्हें गुदगुदी होती है जो की उन्हें सेक्स के प्रति लालायित कर देती है| इसीलिए किसी पुरुष को उत्तेजित करने के लिए आप उसके निप्पल को काटे|

3.पैरो में
अगर सेक्स के दौरान या उससे पहले कोई महिला बड़े प्यार से पुरूष के पैरो को चूमती है तो उनके मन में सेक्स को लेकर इक्षा बढने लगती है और वो सेक्स को लेकर और अधिक उत्तेजित हो जाते है| ये पुरुषो के शरीर में एक खास उत्तेजना भरा अंग होता है जो उनकी सेक्स इक्षा बढाने के लिए पर्याप्त होता है|

4. नाभि के आसपास
जिस तरह से महिलाओ को नाभि के आसपास चूमने या काटने से हल्का मीठा दर्द होता है और उनकी कामेच्छा बढती है वैसा ही पुरुषो के साथ भी होता है| अगर आपका पार्टनर सेक्स के लिए तोयार नहीं हो रहा है तो आप उसके इस अंग विशेष पर किस कीजिए इसे सहलाएं जिससे इसकी कामेच्छा बढने लग जाएगी और वो सेक्स के लिए तैयार होने लग जाएगा| सेक्स के दौरान या उससे पहले पुरुष के नाभि में खास उत्तेजना होती है|

5. बालो को सहलाना
यह काम करने से पुरुष रोमांटिक हो जाते है और बहुत जल्दी होते है| जब एक महिला बड़े प्यार से किसी पुरुष के बाल में हाथ फेरती है और उसके गालो में किस करती है तो पुरुष की सेक्स इक्षा आसमान में चढने लगती है और उसे सेक्स करने

डिस्क्लेमर : लेख में व्यक्त विचार लेखक के निजी विचार हैं, तीसरी जंग हिंदी का कोई सरोकार नहीं है