विशेष

सावधान_ये बड़ा बैंक अब पूरी तरह धराशायी हो जाएगा….रिपोर्ट

सिलिकॉन वैली बैंक संकट (Silicon Valley Bank Crisis) को खत्म करने के लिए अमेरिकी सरकार से लगाई गई गुहार बेकार रही. अमेरिकी सरकार ने सिलिकॉन वैली बैंक को राहत पैकेज देने से इंकार कर दिया है. पैकेज न मिलने पर ये बड़ा बैंक अब पूरी तरह धराशायी हो जाएगा.

अमेरिका का 16वां सबसे बड़ा बैंक बंद
बता दें कि शुक्रवार को अमेरिका के सिलिकॉन वैली बैंक को बंद कर दिया गया है. यह बैंक अमेरिका में 16वां सबसे बड़ा बैंक था. यहां भारतीयों समेत कई देशों के नागरिकों के अकाउंट्स हैं, व्यवस्था बिगड़ने पर निवेशकों का पैसा बर्बाद हुआ माना जा रहा है. बैंक में हजारों खाताधारकों की जमा राशि भी है. कई स्टार्टअप्स भी इससे जुड़े हुए थे, लिहाजा उनकी भी लुटिया डूब गई है. 10 मार्च को सिलिकॉन वैली बैंक के बंद होने की खबर आग की तरह फैल गई. ताजा खबर ​है कि अब फेडरल डिपॉजिट इंश्योरेंस कॉरपोरेशन (FDIC) इसे टेकओवर करेगा.

 

Pranay Upadhyaya
@JournoPranay
दुनिया में कई करामाती कम्पनियों की खान कहलाने वाली अमेरिका की सिलिकॉन वैली में एक बड़ा बैंक अचानक डूब गया। रेगुलेटर को आना पड़ा। बीते 5 साल में चार गुना बढ़े SVB की हैसियत 40Bn $(3280 अरब रुपए से ज़्यादा) की थी।
बहुत तेज़ी से बढ़ता शख्स हो या कंपनी,दोनों के साथ सावधानी ज़रूरी है।

 

लगातार घाटे और फंडिंग की कमी से शेयर 70% गिरे
न्यूज एजेंसी रॉयटर्स के मुताबिक, सिलिकॉन वैली बैंक के बंद होने के पीछे की वजह उसका लगातार घाटा और उसे फंडिंग न मिलना रहा. इन दोनों मामलों में असफलता के चलते सिलिकॉन वैली बैंक की मूल कंपनी SVB फाइनेंशियल ग्रुप के शेयरों में 9 मार्च को 60% तक की गिरावट आ गई. 10 मार्च तक इस बैंक के शेयर (Silicon Valley Bank Share) में करीब 70% की गिरावट के बाद इसे कारोबार से रोक दिया गया. इस संकट के चलते अमेरिका ही नहीं भारत सहित अन्य देशों के शेयर बाजार में भी गिरावट देखने को मिली है.

अमेरिकी इतिहास में बैंक डूबने का दूसरा बड़ा मामला
सिलिकॉन वैली बैंक को रेगुलेटर्स ने 10 मार्च को बंद करने का आदेश दे दिया. ये अमेरिका के इतिहास में 2008 के वित्तीय संकट के बाद अब तक का सबसे बड़ा फेल्योर माना जा रहा है. वहीं, बैंक डूबने का यह दूसरा बड़ा मामला है.
उधर, बैंक में जमा ग्राहकों की राशि की सुरक्षा की जिम्मेदारी अब फेडरल डिपॉजिट इंश्योरेंस कॉरपोरेशन (FDIC) पर है. फिर भी जिन लोगों के खाते एसवीबी (SVB) में हैं, वे खौफ में हैं. उन्हें अपना पैसा न मिल पाने का डरा सता रहा है.