दुनिया

सिर छिपाने की जगह ढूंढते अमेरिकी सैनिक : इराक़ के बाद सीरिया में हुई मिसाइलों की बारिश!

पूर्वी सीरिया में आतंकी अमेरिकी सैन्य अड्डे पर एक बार फिर मिसाइलों से हमला किया गया है।

प्राप्त रिपोर्ट के मुताबिक़, जब से अवैध आतंकी इस्राईली शासन ने अमेरिका की मदद से मज़लूम ग़ज़्ज़ा की जनता पर पाश्विक हमले शुरु किए हैं तब से पश्चिमी एशिया में मौजूद आतंकी अमेरिकी सेना को प्रतिरोधक बल लगातार निशाना बना रहे हैं। पिछले दिनों इराक़ में स्थित अमेरिका की सबसे बड़ी सैन्य छावनी एनुल असद को प्रतिरोध के जियालों ने निशाना बनाया था, मंगलवार को एक बार फिर प्रतिरोधक बलों ने पूर्वी सीरिया के कोनिको गैस फ़ील्ड इलाक़े में मौजूद आतंकी अमेरिकी सेना के बेस पर मिसाइलों की बारिश की है।

इस बीच इराक़ के प्रतिरोधक बल तहरीके इस्लामी इस्तेक़ामत ने एक बयान जारी करके इन मिसाइल हमलों की ज़िम्मेदारी ली है और घोषणा की है कि कोनिको गैस फ़ील्ड इलाक़े में स्थित अमेरिकी सैन्य अड्डे पर कई बार मिसाइलों से हमला किया गया है। इराक़ के प्रतिरोधक बल ने स्पष्ट रूप से कहा है कि यदि अमेरिका ग़ज़्ज़ा के उत्पीड़ित लोगों के ख़िलाफ़ ज़ायोनी आक्रामकता का समर्थन करता है तो वाशिंगटन को आने वाले दिनों में और भारी नुक़सान उठाना पड़ेगा। इस बीच, लेबनानी संसद में प्रतिरोध के समर्थक गुट के सदस्य हसन फज़लुल्लाह ने इस बात पर ज़ोर दिया है कि लेबनान के प्रतिरोधक बलना दक्षिणी लेबनान के आवासीय क्षेत्रों पर ज़ायोनी आक्रमण का जवाब ज़ायोनी और अमेरिकी सैन्य ठिकानों और अवैध ज़ायोनी कॉलोनियो पर हमला करके देगा।