दुनिया

हमास-इस्राईल जंग : अब लाल सागर में आएगा तूफ़ान : वीडियो

यमन की राष्ट्रीय मुक्ति सरकार के रक्षा मंत्री ने कहा है कि अक़बा की खाड़ी से लाल सागर में स्थित बाबुल मंदब तक अवैध आतंकी इस्राईली शासन के जहाज़ों की आवाजाही पूर्ण रूप से प्रतिबंधित है।

प्राप्त रिपोर्ट के मुताबिक़, एक समय था कि जब अमेरिका और उसके सहयोगी मिलकर किसी भी देश, व्यक्ति, संस्था और संगठनों पर प्रतिबंध लगा दिया करते थे। यह पाबंदियां अपने विरोधियों के डराने से लेकर उनको हराने तक अमेरिका और उसके पश्चिमी सहयोगियों के काम आती थी। लेकिन अब समय बदल रहा है, न केवल अमेरिका और उसके पश्चिमी सहयोगियों द्वारा लगाए जाने वाले प्रतिबंध प्रभावहीन हो रहे हैं बल्कि अब जवाब में उनपर भी प्रतिबंध लगाया जाने लगा है। वैसे इसकी शुरुआत इस्लामी गणराज्य ईरान ने ही की है। जब-जब अमेरिका ने ईरान पर प्रतिबंध लगाए हैं तब-तब तेहरान ने भी उसके जवाब में वॉशिंग्टन पर भी पाबंदियां लगाई हैं। इस बीच पश्चिमी एशिया के सबसे ग़रीब लेकिन राष्ट्र बाहुदर यमन ने हालिया दिनों में उसके द्वारा अमेरिका और अवैध आतंकी इस्राईली शासन के ख़िलाफ़ जिस प्रकार से एक के बाद एक क़दम उठाए जा रहे हैं उसने पूरी दुनिया को हैरान कर दिया है।

यमन की राष्ट्रीय मुक्ति सरकार के रक्षा मंत्री नासिर अल-आतेफ़ी ने एक बयान जारी करके कहा है कि उत्पीड़ित फ़िलिस्तीनी राष्ट्र के समर्थन में अरब और लाल सागर में इस्राईली जहाज़ों की आवाजाही को रोकने का निर्णय तब तक जारी रहेगा जब तक ग़ज़्ज़ा में हमारे भाइयों के ख़िलाफ़ आक्रामकता जारी रहेगी। दूसरी ओर यमन के सशस्त्र बलों के प्रवक्ता यहया सरी ने कहा है कि अवैध आतंकी ज़ायोनी शासन के दक्षिण में “इलात” क्षेत्र में आतंकी इस्राईली सेना के सैन्य ठिकानों पर कई बैलिस्टिक मिसाइलें दाग़ी गई हैं। उन्होंने कहा कि हम हलावर ज़ायोनी शासन के ख़िलाफ़ अपना सैन्य अभियान जारी रखेंगे। ग़ौरतलब है कि यमन के सशस्त्र बलों ने पहले ही यह साफ़ कर दिया था कि वे ग़ज़्ज़ा पट्टी में अवैध आतंकी सरकार के सैन्य हमलों के जवाब में लाल सागर में उससे संबंधित जहाज़ों को निशाना बनाते रहेंगे।