दुनिया

1400 शहरों और 38 हज़ार क़स्ब़ों और गांवों से उठी अमरीका मुर्दाबाद की गूंज : तस्वीरें

आज पूरे ईरान में बड़े ही हर्षोउल्लास के साथ क्रांति की सफलता की 44वीं वर्षगांठ मनाई जा रही है।

इस अवसर पर पूरे ईरान में भव्य रैलियां निकाली जा रही हैं जिनमें लाखों लोग मौजूद हैं। ईरान की क्रांतिकारी जनता ने ग्यारह फ़रवरी को एक बार फिर सकड़ों पर निकल कर क्रांति के संस्थापक स्वर्गीय इमाम ख़ुमैनी और वरिष्ठ नेता की आज्ञापालन की प्रतिबद्धता दोहरा रहे हैं और साम्राज्यवादियों के विरुद्ध गगनभेदी नारे लगा रहे हैं।

इस्लामी क्रांति की सफलता के शुभ अवसर पर राजधानी तेहरान सहित समूचे ईरान के हज़ारों शहरों व गावों से रैलियां निकाली जा रही हैं। राजधानी तेहरान में निकलने वाली रैलियां आज़ादी स्क्वायर की ओर बढ़ रही हैं और रैली में भाग लेने वाले स्वतंत्रता, आज़ादी और इस्लामी लोकतंत्र का नारा लगा रहे हैं।


22 बहमन को ईरान की इस्लामी क्रांति सफल हुई थी और स्वतंत्रता, आज़ादी और ईरानी राष्ट्र की योग्यताओं के निखार के चरम बिन्दु के प्रतीक के रूप में यह दिन मनाया जाता है।

ईरान के लोग एकता, एकजुटता और समरसता के साथ सड़कों पर निकले हैं ताकि वे ईरानी राष्ट्र के दुश्मनों को बता दें कि वे दुश्मन से हमेशा सावधान हैं और अपनी इस्लामी क्रांति की रक्षा करेंगे।


विभिन्न देशों के सैकड़ों विदेशी मेहमान भी तेहरान में 22 बहमन के अवसर पर होने वाली विशेष रैली व कार्यक्रमों में भाग लेने के ईरान आये हैं।

 

इससे पूर्व विभिन्न नेताओं और वरिष्ठ धर्मगुरूओं ने जनता से क्रांति की वर्षगांठ के अवसर पर निकलने वाले जूलूसों में भरपूर उपस्थिति की अपील थी। ईरान में इस्लामी क्रांति लाने वाली जनता आज पूरे हर्षोउल्लास से क्रांति के जूलूसों में भरपूर ढंग से उपस्थित है।


तेहरान में मुख्य रैली आज़ादी स्क्वायर हो निकाली जा रही है जहां देश की विभिन्न राजनैतिक हस्तियां मौजूद हैं। राजधानी तेहरान में हमेशा की तरह भारी संख्या में जनता की भागीदारी से एक और ऐतिहासिक उपलब्धि हासिल की जाएगी।

रैली को राष्ट्रपति संबोधित करेंगे और बाद में रैली का घोषणापत्र जारी किया जाएगा। इस्लामी प्रचार समन्वय परिषद के अध्यक्ष ने घोषणा की है कि क्रांति का जश्न ईरान के 1400 से अधिक शहरों और 38 हज़ार कस्बों और गांवों में आयोजित किया जा रहा है।


इस्लामी प्रचार समन्वय परिषद के अध्यक्ष मूसापुर ने कहा कि क्रांति के जश्न की रैलियों के मार्गों पर स्थित स्टालों में ईरानी हस्तशिल्प और हस्तलेखों की प्रदर्शनी भी आयोजित की जा रही है।

 

इस्लामी क्रांति की सफलता के अवसर पर होने वाली रैली को कवरेज देने के लिए विश्व के विभिन्न देशों के 200 से अधिक पत्रकार मौजूद हैं।