राजनीति

अब स्वामी ने रघुराम राजन पर लगाया भ्रष्टाचार का आरोप, पीएम मोदी को लिखी चिट्ठी

swami-rajan

नई दिल्ली । भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) के गवर्नर रघुराम राजन के खिलाफ बीजेपी के राज्यसभा सांसद सुब्रह्मण्यम स्वामी ने एक बार फिर ताज़ा हमला किया है। इस बार स्वामी ने पीएम मोदी को चिट्ठी लिखकर आरबीआई गवर्नर के खिलाफ सीबीआई के अंतर्गत बनाई गई एसआईटी से जांच की मांग भी की है।

स्वामी ने आरोप लगाया है कि आरबीआई ने स्माल फाइनेंस बैंक (एसएफबी) को लाइसेंस देने में धांधली की है। स्वामी का कहना है कि सरकारी नीति के तहत जिन संस्थाओं ने बैंक लाइसेंस के लिए आवेदन किया और उनमें से जिन संस्थाओं को लाइसेंस दिए गए उनमें से किसी ने भी तय शर्तों को पूरा नहीं किया है। इस बावजूद इन्हें लाइसेंस दे दिए गए हैं। स्वामी का कहना है कि इससे यह पता लगता है कि लाइसेंस देने में नियमों की अनदेखी की गई है और इससे इरादों पर शक होता है।

बीजेपी नेता का आरोप है कि इससे साफ होता है कि इस पूरे मामले में भ्रष्टाचार हुआ है और जांच की जानी चाहिए। स्वामी ने कांग्रेस नेता और पूर्व वित्तमंत्री पी चिदंबरम पर भी निशाना साधा है। उन्होंने पीएम को लिखी चिट्ठी में कहा कि वित्त मंत्रालय में अभी भी कई अधिकारी उनकी पसंद के हैं या करीबी हैं। इस पूरे मामले में मनी लॉन्ड्रिंग की बू आती है और इसके जरिए नेताओं और नौकरशाहों को लाभ मिलने की शंका है।

राज्यसभा सांसद ने पीएम नरेंद्र मोदी को लिखी चिट्ठी में बताया है कि छोटे उद्यमियों को लाभ पहुंचाने की नीयत से शुरू की गई इस सेवा में गड़बड़ी की जा रही है। उन्होंने दावा किया है कि कुल 72 आवेदनों में केवल 10 को सफल पात्र पाया गया। स्वामी का दावा है कि इनमें से आधे से ज्यादा तय शर्तों को पूरा नहीं करते हैं।

स्वामी ने अपने पत्र में बताया है कि सफल पात्रों में आरबीआई की गाइडलाइन के उलट विदेशी होल्डिंग वाले लोग हैं। कई तो पूरी तरह है विदेशी हैं। स्वामी का तो यह भी दावा है कि ज्यादतर सफल पात्रों में एक या दो समान विदेशी कंपनी ही हैं जो खास समुदाय के लोगों की हैं।