Uncategorized

इन्हे कैसे बताया जाए कि व्रत में इस्तेमाल होने वाला नमक पाकिस्तान से ही आता है !

Rock-Salt

ब्यूरो (राजा ज़ैद खान)। भारत में धर्मिक आस्थाओं से कई चीज़ें जुडी हैं । यहाँ तक कि व्रत में ज्यादातर लोग रोजमर्रा खाने में इस्तेमाल किये जाने वाले आम नमक का इस्तेमाल नहीं करते । व्रत में सिर्फ सैंधा नमक का इस्तेमाल किया जाता है जिसे लाहौरी नमक भी कहा जाता है । करोड़ों भारतीयों की ओर से खाए जाने वाला यह सेंधा नमक हमारे देश में पैदा नहीं होता बल्कि पाकिस्तान से आता है।

आपको बता दें कि जिस सेंधा नमक का आप इस्तेमाल करते हैं वह और कहीं से नहीं बल्कि हमारे पड़ोसी देश पाकिस्तान से आता है। पिछले 6 सालों में भारत में लगभग 87050.6 टन सेंधा नमक मंगाया गया है।

पाकिस्तान स्थित क्षेत्र जैसे खेवरा, वारछा और कालाबाग में सबसे अच्छी किस्म का सेंधा नमक निकाला जाता है। अगर सेंधा नमक की माइंस की बात की जाए तो खेवरा स्थित सेंधा नमक की माइंस दुनिया में दूसरे नंबर पर आती है। यहीं पर प्रत्येक वर्ष 3.25 लाख टन रॉक सॉल्ट निकाला जाता है। जिसमें से करीब 2.5 लाख टन नमक केमिकल इंडस्ट्री को बेचा जाता है।

हर साल पाकिस्तान इस नमक का निर्यात भारत समेत कई देशों को करता है। साल 2009-10 में भारत ने पाकिस्तान से 27,864 मीट्रिक टन नमत आयात किया था। जबकि साल 2014-15 में भारत ने 2,710 मीट्रिक टन नमक आयात किया था।

पाकिस्तान के जिन खेवरा माइंस से रॉक सॉल्ट निकाला जाता है साल 2011 में उसे आम लोगों और टूरिस्ट्स के लिए खोला गया था। लोगों को माइंस में घूमाने के लिए यहां इलैक्ट्रिक ट्रेन का इस्तेमाल किया जाता है।

माइंस में रॉक सॉल्ट से कई आकर्षक चीजें बनाई गई है टूरिस्ट्स को वह भी दिखाया जाता है। लगातार लोगों के बढ़ने के कारण इस जगह को अब पूरी दुनिया में जाना जाने लगा है। इससे पहले बहुत कम लोग इस जगह को जानते थे।

एक बड़ा सवाल उन लोगों से है जो देश के मुसलमानो पर आएदिन पाकिस्तान का नाम लेकर हमले करते हैं । क्या वे बतायेंगे कि  इतने दिनों से पाकिस्तान का नमक क्यों खा रहे हैं ? क्या कभी उन्होंने यह सन्देश दिया कि व्रत में सैंधा नमक न खाकर देश में बन नमक खाया जाए क्यों कि सैंधा नमक पाकिस्तान में बनता है और हम उसे आयत करते हैं ।

(लेख में दिए गए तथ्य जानबूझकर किसी की धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचाने की कोशिश नहीं है बल्कि जो हकीकत है उससे रूबरू कराने का एक प्रयास है)