चुनाव

शर्मनाक:BJP ने कहा था अगर सरफराज आलम की जीत हुई तो आतँकी ISIS पनाहगाह बनेगा अररिया-जनता ने दिया मुँह तोड़ जवाब

पटना: बिहार में अररिया लोकसभा सीट पर हुए मतदान में आरजेडी के सरफराज आलम ने बीजेपी के प्रदीप सिंह को 61,788 मतों के बड़े अंतर से हरा दिया है. अररिया लोकसभा सीट के लिए कुल सात उम्मीदवार चुनावी मैदान में अपनी किस्मत आजमा रहे थे. इस चुनाव में राष्ट्रीय जनता दल (राजद) द्वारा दिवंगत सांसद मोहम्मद तस्लीमुद्दीन के पुत्र सरफराज आलम और भाजपा द्वारा प्रदीप सिंह की बीच सीधी टक्कर थी. गौरतलब है कि 11 मार्च को हुए अररिया लोकसभा उपचुनाव में करीब 59 फीसदी लोगों ने अपने मत का प्रयोग किया था. अररिया में मताधिकार के प्रयोग के लिए कुल 2143 मतदान केंद्र बनाए गए थे।

चुनाव प्रचार में बीजेपी ने गिरी हुई औछी राजनीति और बयानबाज़ी करी रही बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष नित्यानंद राय ने कहा था कि अररिया सीट पर अगर आरजेडी का उम्मीदवार जीता तो यह इलाका आतंकवादी संगठन आईएसआईएस (ISIS) के लिए सुरक्षित पनाहगाह बन जाएगा. इतना ही नहीं उन्होंने ये भी कहा था कि बीजेपी उम्मीदवार प्रदीप सिंह को जीत मिलती है तो क्षेत्र में देशभक्ति की भावना बढ़ेगी.

राय के इस बयान के बाद काफी विवाद हुआ था. आरजेडी ने इसे घृणा पैदा करने वाला करार दिया था. वहीं, उनके खिलाफ शिकायत भी दर्ज कराई गई थी. ऐसे में अब देखना ये होगा कि क्या जेडीयू छोड़कर आरजेडी में आए सरफराज आलम अपने पिता की सीट बचाने में कामयाब रहेंगे? या फिर बीजेपी का आईएसआईएस कार्ड रंग लाएगा?

एक नजर अररिया लोकसभा क्षेत्र के गणित पर…
अररिया लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र में छह विधानसभा क्षेत्र शामिल हैं. इस लोकसभा क्षेत्र की आबादी 15,87, 348 है. साल 2014 में हुए लोकसभा चुनाव में 9,75,811 लोगों ने वोट डाले थे. यानी करीब 61 फीसदी मतदाताओं ने मतदान किया था।

इस चुनाव में आरजेडी के तस्लीमुद्दीन को 4,07,978, बीजेपी के प्रदीप कुमार सिंह को 2,61, 474, जेडीयू के विजय कुमार मंडल को 2,21,769 और बीएसपी के अब्दुल रहमान को 17, 724 वोट मिले थे. साल 2009 के लोकसभा चुनाव में 2,82, 742 वोट हासिल करके बीजेपी के प्रदीप कुमार सिंह जीते थे. एलजेपी के जाकिर हुसैन खान को 2,60, 240 और कांग्रेस के शकील अहमद खान को 49,649 मत मिले थे