देश

Video:भगवाधारियों ने मौलाना अबुल कलाम आज़ाद का पुतला तोड़कर स्वतंत्रता सेनानी का किया अपमान

कलकत्ता: रामनवमी पर जुलूस को लेकर पश्चिम बंगाल में दूसरे दिन भी हिंसा की कई घटनाएं सामने आई हैं. खास तौर पर मुर्शिदाबाद और बर्द्धमान जिलों में संगठनों के सदस्यों और पुलिस के बीच झड़प हुई है,राजधानी कलकत्ता से मात्र 40 किलोमीटर दूरी पर काकीनाडा में उग्र हिन्दू संगठन के कार्यकर्ताओं ने स्वतंत्रता संग्राम सैनानी और भारत के प्रथम शिक्षा मंत्री मौलाना अबुल कलाम आज़ाद की प्रतिमा को तोड़ दिया है।

वीडीयो में प्रतिमा को तोड़ने वाले लोग भगवाधारी नज़र आरहे हैं जो देश के प्रति और आज़ादी के मतवालों का इस प्रकार से अपमान करके पूरे देश को शर्मिंदा कर रहे हैं,मौलाना आज़ाद ने देश की आज़ादी के लिये जेल की सलाखों की पीछे कई बार गए हैं तथा देश की एकता अखण्डता और लोकतंत्र को मज़बूत करने के सबसे महत्वपूर्ण योगदान मौलाना आज़ाद का रहा है।

मौलाना अबुल कलाम आज़ाद का जन्म कलकत्ता में ही हुआ था इस लिये उनकी याद में काकीनाडा में उनकी प्रतिमा को लगाया गया था जिसको भगवाधारियों ने तोड़ दिया है।

मौलाना आज़ाद की प्रतिमा को तोड़ने का वीडीयो सोशल मीडिया पर तेज़ी के साथ वायरल होरहा है जिसको ट्वीटर पर NDTV के बेबाक पत्रकार रविश कुमार में भी शेयर किया है।

https://twitter.com/_SirRavishKumar/status/978234871242924034?s=19

रामनवमी पर भड़की इस हिंसा में पुलिस के अनुसार ऐसे ही एक झड़प में पुलिस टीम के ऊपर बम भी फेंका गया. इस घटना में एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी गंभीर रूप से घायल हो गए. ध्यान हो कि रविवार को पुरुलिया में एक जुलूस के दौरान दो समूहों के बीच झड़प में दो लोगों की मौत हो गई थी और पांच पुलिसकर्मी घायल हो गए थे।

राज्य में हो रही हिंसा के मद्देनजर पुलिस के वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि भाजपा समर्थकों ने पश्चिम बंगाल में रविवार को कई स्थानों पर सरकारी प्रतिबंध की अनदेखी करते हुए सशस्त्र रैली निकाली।

इस रैली के बाद ही हालात बिगड़े.गौरतलब है कि जुलूस के दौरान ऐसी ही हिंसा की खबरें मुर्शिदाबाद के कंडी इलाके से भी सामने आई. यहां पर रामनवमी जुलूस में हिस्सा लेने वाले लोगों ने तलवार और त्रिशूल से लैस होकर थाने में घुसने का प्रयास किया. इस दौरान उन्होंने जमकर तोड़फोड़ भी की. इस घटना में 10 लोग गंभीर रूप से घायल हुए हैं.