देश

मिलिए गरीब किसान के बेटे शेख सलमान पटेल से जो गरीबी से लड़कर बने हैं IAS ऑफिसर

औरंगाबाद:पूरा देश इस समय जश्न मना रहा है क्योंकि 990 युवाओं ने देश के सबसे बड़े कॉम्प्टीशन इंडियन सिविल सर्विसिज़ में बड़ी कामयाबी हासिल करी है,भरतीय मुस्लिम समुदाय भी जश्न मना रहा है क्योंकि 52 मुस्लिम युवाओं ने भी UPSC परिणामों में कामयाबी हासिल करी है,देश में मुसलमानों के मुश्किल वक़्त में ये एक अच्छी खबर जा जिससे दिल को सुकून मिलता है और उम्मीद की किरण जागती है।

महाराष्ट्रा के औरंगाबाद जिले के एक छोटे से एक गरीब किसान जिसके पास परिवार का पेट भरने के लिये सिर्फ दो एकड़ जमीन है के बेटे शेख सलमान पटेल ने UPSC के नतीजों में कामयाबी हासिल करके नाम रोशन किया है।

सलमान का परिवार बहुत ज़्यादा गरीब है जिनका घर खेत पर ही बना हुआ है। फुलंब्री तहसील से तीन किलोमीटर दूर एक गांव के शेख सलमान ने यूपीएससी परीक्षाा मेें 339 वां स्थान हासिल किया है।

सलमान ने कहा, ‘मुझे अभी तक भरोसा नहीं हो रहा कि मैंने सिविल सर्विस परीक्षा पास कर ली है’। मैं अपनी बेहतर क्षमताओं के साथ लोगों की सेवा करूंगा। मेरी बड़ी बहन ने 12 वीं तक पढ़ाई की है, बड़े भाई कंप्यूटर साइंस स्नातक हैं और मेरा छोटा भाई 8 वीं में है। कम कमाई के बावजूद, मेरे पिता ने यह सुनिश्चित किया कि हमारा अध्ययन पूरा हो।

फुलंब्री तहसील से तीन किलोमीटर दूर खेत पर बने एक घर में रहने वाले शेख सलमान ने 10 वीं की पढ़ाई जिला परिषद के स्कूल से की है। परीक्षा में अच्छे अंक मिलने पर सलमान को छात्रवृत्ति मिलती थी। इससे उन्हें पढ़ाई में काफी मदद मिल जाती थी।

चौथी कोशिश में सफलता नहीं मिलने पर सलमान को काफी निराशा थी, लेकिन आखिरी प्रयास में मेहनत सफल रही। सलमान ने मौलाना आजाद कॉलेज से बीएसएसी किया है। उन्होंने औरंगबाद में रहते हुए दो बार यूपीएससी की परीक्षा दी और इसके बाद दिल्ली में जामिया मिलिया में रहकर तैयारी की. सलमान तैयारी के लिए हर दिन लगभग 7-8 घंटे पढ़ाई करते थे।