धर्म

पैगम्बर मोहम्मद साहब की शिक्षा और उनके जीवन से भाईचारे के मार्ग पर चलना हमारी जिम्मेदारी है:नरेंद्र मोदी

नई दिल्ली: भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रेडियो पर ‘मन की बात’ कार्यक्रम के 43वें एपिसोड में देशवासियों को रमजान और बुद्ध पूर्णिमा के अवसर पर देशवासियों को शुभकामनाएं दीं. उन्होंने कहा कि मैं सभी देशवासियों को रमजान के पवित्र महीने की शुभकामनाएं देता हूं और मुझे आशा है यह अवसर लोगों को शांति और सदभावना के उनके संदेशों पर चलने की प्रेरणा देगा।

प्रधानमंत्री ने कहा, एक बार एक इंसान ने पैगम्बर साहब से पूछा- “इस्लाम में कौन सा कार्य सबसे अच्छा है?” पैगम्बर साहब ने कहा – “किसी गरीब और जरूरतमंद को खिलाना और सभी से सदभाव से मिलना, चाहे आप उन्हें जानते हो या न जानते हो।

प्रधानमंत्री ने आगे हज़रत मोहम्मद साहब की शिक्षा के बारे में बताते हुए कहा कि “पैगम्बर मोहम्मद साहब का मानना था कि यदि आपके पास कोई भी चीज़ आपकी आवश्यकता से अधिक है तो आप उसे किसी ज़रूरतमंद व्यक्ति को दें, इसीलिए रमज़ान में दान का भी काफी महत्व है”

प्रधानमंत्री ने हज़रत मोहम्मद सल्लल्लाहु अलैही व्सल्लम के रास्ते पर चलने और उनकी शिक्षा का पालन करने की भी बात करते हुए कहा कि “पैगम्बर मोहम्मद साहब की शिक्षा और उनके सन्देश को याद करने का यह अवसर है | उनके जीवन से समानता और भाईचारे के मार्ग पर चलना यह हमारी ज़िम्मेदारी बनती है

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के इन बयानों की सोशल मीडिया पर बड़ी प्रशंसा होरही है और लोग इनको काफी पसंद कर रहे हैं,तथा कोंग्रेस और विपक्षी नेता इसको राजनीति बता रहे हैं,और मुसलमानों को करीब करने की कोशिश बता रहे हैं।