उत्तर प्रदेश राज्य

प्रधानमंत्री मोदी के लोकसभा क्षेत्र में बैनरों पर लिखा गया “मोहल्ले में BJP नेताओं का आना मना है,यहां बच्चियाँ रहती हैं”

लखनऊ:उन्नाव और कठुआ गैंगरेप केस के बाद भाजपा सरकार को लगातार लोगों की नाराजगी का सामना करना पड़ रहा है। यूपी के इलाहाबाद शहर के बाद अब बनारस में लोगों ने सरकार के प्रति अपना विरोध जताने के लिए मोहल्ले के बाहर के विवादित बैनर लगाए हैं।

बनारस में नई सड़क स्थित शेख सलीम फाटक मोड़ पर लगाया गया एक विवादित बैनर सोमवार को सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हुआ। बैनर पर आपित्तजनक बाते लिखी हैं। निवेदक के तौर पर सपा नेता अहमद रजा (बाबू) का नाम लिखा था। मामले की जानकारी पुलिस को हुई तो चेतगंज थाने से दरोगा और दो सिपाही मौके पर पहुंचे। पुलिसकर्मी बैनर उतरवा कर साथ लेकर चले गए।

नई सड़क क्षेत्र दिन में बेहद भीड़भाड़ वाला व्यस्त बाजार है। शेख सलीम फाटक मोड़ के पास स्थित मकान के सामने लगाए गए बैनर को लेकर कुछ लोगों का कहना था कि वह रविवार को लगाया गया था। वहीं, कुछ लोगों ने कहा कि सोमवार को टांगा गया। हालांकि कोई यह नहीं बता सका कि बैनर किसने टंगाया गया था। सोशल मीडिया पर बैनर की फोटो वायरल होने लगी और मौके पर लोगों की भीड़ लग गई तो दोपहर चार बजे के लगभग चेतगंज थाने से दरोगा धर्मराज सिंह और दो सिपाही ने बैनर उतरवाया। पुलिस यह तस्दीक नहीं कर सकी कि अहमद रजा बाबू कौन हैं।

इस संबंध में सपा जिलाध्यक्ष डॉ. पीयूष यादव ने कहा कि नई सड़क पर टंगे बैनर से पार्टी का लेनादेना नहीं है। भाजपा शासनकाल में प्रदेश और देश में बिगड़ती कानून व्यवस्था से नाराज होकर नई सड़क क्षेत्र के लोगों का गुस्सा है जो बैनर के माध्यम से सामने आया है। वहीं, भाजपा जिलाध्यक्ष हंसराज विश्वकर्मा ने कहा कि यह पूरी तरह से शरारती तत्वों की करतूत है।