देश

मोहल्ले में बहु-बेटियाँ हैं, BJP नेताओं का का आना मना है, घरों के बाहर लगे पोस्टर

इलाहाबाद: उन्नाव गैंगरेप मामले में बीजेपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर की संलिप्तता से नाराज इलाहाबाद के एक मोहल्ले के लोगों ने विरोध का अनूठा तरीका अपनाया. शहर की शिवकुटी कॉलोनी में घरों के बाहर पोस्टर नजर आए जिसमें महिला सुरक्षा का हवाला देते हुए बीजेपी नेताओं और कार्यकर्ताओं से इस क्षेत्र में न आने के लिए कहा गया है।

लोगों का कहना है कि जिस तरह से बीजेपी के विधायक गैंगरेप में फंसे है और अभी तक पार्टी उंन्हे बाहर का रास्ता नहीं दिखाया इससे तो यही लगता है कि पार्टी के संरक्षण में रहकर गैंगरेप जैसे घिनोनी हरकत को जंजाम दिया गया है।

क्या लिखा है पोस्टर में

इस मोहल्ले में भाजपा के नेताओं और कार्यकर्ताओं का आना मना है क्योंकि यहां महिलाएं और बच्चियां रहती हैं. निवेदक समस्त मोहल्ला निवासी. समाचार एजेंसी ANI के मुताबिक, स्थानीय लोगों का कहना है कि ये पोस्टर महिलाओं के खिलाफ बढ़ते अपराधों में बीजेपी कार्यकर्ताओं की कथित भूमिका के कारण लगाए गए हैं

गौरतलब है कि उन्नाव की बांगरमऊ विधानसभा सीट से बीजेपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर पर एक युवती ने बलात्कार का आरोप लगाया है. योगी सरकार ने इस केस को सीबीआई को सौंप दिया है और आरोपी विधायक की गिरफ्तारी भी हो चुकी है लेकिन जिस तरह से उत्तर प्रदेश पुलिस ने इस केस में लापरवाही बरती, उससे लोगों में आक्रोश है. इतना ही नहीं, पीड़िता के पिता की जेल के भीतर मौत हो गई. मामले ने तूल पकड़ने के बाद सरकार ने एसआईटी का गठन किया लेकिन आरोपी विधायक को गिरफ्तार नहीं किया. बाद में इस केस को योगी सरकार ने सीबीआई को सौंप दिया. अब आरोपी विधायक सीबीआई की रिमांड पर है।

उन्नाव गैंगरेप मामले ने बीजेपी को बैकफुट पर ला दिया है. उत्तर प्रदेश के कई जिलों से हाल-फिलहाई महिला अपराध की कई घटनाएं प्रकाश में आई हैं. महिला सुरक्षा का दावा करके ही बीजेपी उत्तर प्रदेश की सत्ता पर काबिज हुई थी. ऐसे में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के सामने कई चुनौतियां हैं।

ये सब सपा के कार्यकर्ताओं की करतूत है: बीजेपी
विवादित पोस्टर पर बीजेपी मंत्री नंदगोपाल गुप्ता नन्दी ने कहा ये सपा के गुंडों की करतूत है. लोगों के दिल में बीजेपी है लेकिन लोग सपा कार्यकर्ताओं की दबंगाई के चलते कुछ भी खुलकर बोलने से डर रहे हैं. प्रदेश में क़ानून का शासन है. विवादित पोस्टर लगाने वालों के ख़िलाफ़ कार्रवाई होगी।