उत्तर प्रदेश राज्य

हिन्दू युवा वाहिनी के कार्यकर्ताओं की पूर्व उप राष्ट्रपति हामिद अंसारी पर AMU में हमले की थी साज़िश,छात्र संघ ने लगाये आरोप

मुस्लिम लीग के नेता और पाकिस्तान के क़ाइद आज़म मोहम्मद अली जिन्नाह की अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी में लगी तस्वीर के बाद जन्में विवाद ने खूनी रूप ले लिया जा,जिसमें लाठी डण्डों का शिकार हुए यूनिवर्सिटी के नेता हुए हैं जिन्हें गम्भीर चोट आई हैं,जिससे पूरे परिसर में तनाव का माहौल बना हुआ है।

अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के छात्रों के मुताबिक विश्वविद्यालय के छात्रों ने यूनियन हॉल में पाकिस्तान के राष्ट्रपिता माने जाने वाले जिन्ना की तस्वीर लगी होने के विरोध में परिसर में अंदर घुसकर अराजकता फैलाने वाले हिन्दू युवा वाहिनी के कार्यकर्ताओं के खिलाफ कार्रवाई करने के बजाय विश्वविद्यालय के छात्रों पर ही पुलिस द्वारा लाठीचार्ज किये जाने के विरुद्ध आज बाबा-ए-सैयद गेट पर अनिश्चितकालीन धरना शुरू कर दिया है।

पूरे परिसर में रैपिड एक्शन फोर्स तैनात की गयी है। तनावपूर्ण शांति बनी हुई है। एएमयू छात्र संघ ने आरोप लगाया है कि हिन्दू युवा वाहिनी के कार्यकर्ताओं द्वारा कल परिसर में की गयी हिंसा वहां गेस्ट हाउस में ठहरे पूर्व उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी पर हमले की साजिश का हिस्सा थी। एक अभूतपूर्व घटना में वाहिनी के कार्यकर्ता गेस्ट हाउस तक पहुंच गये थे। यह एक पूर्वनियोजित हमला था। छात्र संघ ने यहां जारी एक बयान में कहा कि हिन्दू युवा वाहिनी के लोगों के खिलाफ पुलिस द्वारा कार्रवाई नहीं किये जाने और उनकी गिरफ्तारी की मांग कर रहे एएमयू के छात्रों पर लाठीचार्ज करने वाले पुलिसर्किमयों के खिलाफ मुकदमा दर्ज नहीं किये जाने तक उसका धरना जारी रहेगा।

लाठीचार्ज में घायल हुए छात्र संघ अध्यक्ष मशकूर अहमद उस्मानी ने कहा कि अगर सरकार की तरफ से इंसाफ के सारे दरवाजे बंद हो जाएंगे तो एएमयू के छात्र देश के सभी धर्मनिरपेक्ष संगठनों की मदद से राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग से गुहार लगाएंगे। इस बीच, एएमयू के एक प्रवक्ता ने हिन्दू युवा वाहिनी के कार्यकर्ताओं द्वारा परिसर के अंदर जबरन घुसकर बेहद आपत्तिजनक और भड़काऊ नारेबाजी करने का आरोप लगाते हुए इसकी कड़ी निन्दा की है। उन्होंने उम्मीद जतायी कि राज्य सरकार उन लोगों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करेगी, जिन्होंने एएमयू का माहौल बिगाड़ने की कोशिश की।

हालात के मद्देनजर एएमयू टीचर्स एसोसिएशन ने कल रात एक आपात् बैठक की और एक प्रस्ताव भी पारित किया। प्रस्ताव में कहा गया है कि वाहिनी के कार्यकर्ताओं ने एक आपराधिक साजिश के तहत परिसर में घुसकर अराजकता फैलायी और पुलिस ने उनके खिलाफ कार्रवाई करने के बजाय एएमयू के छात्रों पर ही लाठियां चलायीं। एसोसिएशन ने इस पूरी घटना के सूत्रधारों के खिलाफ मुकदमा दर्ज करने की मांग भी की है। मालूम हो कि एएमयू के यूनियन हॉल में जिन्ना की तस्वीर लगाने से नाराज हिन्दू युवा वाहिनी के कार्यकर्ताओं का एक गुट कल दोपहर लगभग दो बजे कुलपति कार्यालय के निकट एकत्रित हुआ था। ये लोग परिसर के अंदर भी घुस गये थे।

एएमयू छात्र संघ ने हिन्दू युवा वाहिनी के प्रदर्शनकारियों की गिरफ्तारी की मांग की थी। इस मांग के समर्थन में परिसर के गेट पर एकत्र हुए एएमयू छात्रों की भीड़ को तितर-बितर करने के लिए पुलिस द्वारा किये गये बलप्रयोग में एएमयू छात्र संघ के अध्यक्ष मशकूर अहमद उस्मानी और छात्र संघ के पूर्व उपाध्यक्ष एम हुसैन जैदी समेत छह लोग घायल हो गये थे। इस बीच, पूर्व उप राष्ट्रपति हामिद अंसारी को आजीवन सदस्यता देने के मकसद से आयोजित कार्यक्रम को तनाव के कारण रदद कर दिया गया था।