देश

होशियार-बाबा रामदेव ने मुसलमानों को अपने पतांजलि के जाल में फँसाने के लिये चली ये नई चाल!

नई दिल्ली: बाबा से व्यापारी बने स्वामी बाबा रामदेव अकेले ऐसे बाबा हैं जिन्होंने स्वदेशी का नारा लगाकर भारतीय नागरिकों को अपना ग्राहक बनाया है,लेकिन एक मुसलमानों की बड़ी संख्या अभी भी पतांजलि का इस्तेमाल नही करती है,क्योंकि गौमूत्र होने की आशंका मुसलमानों की तरफ से जताई जाती है।

मुसलमानों को पतांजलि से प्रभावित करने के लिये योग गुरू बाबा रामदेव ने गया के मिर्जा गालिब कॉलेज की बीएम पार्ट-1 की छात्रा ओमा फातिमा को अपना ब्रांड एंबेसडर बनाया है. ओमा फातिमा मुस्लिम समाज में योग के प्रति जागरूगता बढ़ाने का काम करेंगी. गया के गांधी मैदान में तीन दिवसीय योग चिकित्सा एवं ध्यान शिविर के समापन के बाद बाबा रामदेव ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि ज्ञान और मोक्ष की भूमि की यात्रा उनके लिए काफी यादगार रही. उन्होंने कहा कि वह उम्मीद करते हैं कि यहां के लोग पहले से ज्यादा संख्या में योग से जुड़ेगें।

बाबा रामदेव ने योग से जुड़ने के लिए मुस्लिम छात्रा ओमा फातिमा को मंच से सम्मानित किया और उन्हें मुस्लिम समाज में योग के प्रति जागरूगता बढ़ाने का जिम्मा सौंपा. इस अवसर पर ओमा फातिमा ने कहा कि योग से जुड़ने को लेकर परिवार का सहयोग मिला है, पर समाज के कुछ चुनिंदा लोगों को उनका योग से जुड़ना अच्छा नहीं लगा।

ओमा फातिमा ने कहा कि वह सबको समझाने का प्रयास कर रही हैं कि योग किसी खास धर्म से जुड़ा नहीं है, बल्कि स्वस्थ रहने का एक माध्यम है. उन्होंने कहा, ‘हर कोई योग से जुड़ सकता है और योगाभ्यास करके स्वस्थ रह सकता है.’ फातिमा ने बतया कि वह योग से पीजी करना चाहती है. बाब रामदेव ने उन्हें ‘पतंजली योग संस्थान’ से नि:शुल्क पीजी कराने का आश्वासन दिया है।