चुनाव

Video:”कर्नाटक राज्यपाल ने ऐसा कुछ किया तो होगा खून खराबा” गुलाम नबी आजाद की ने दी धमकी

नई दिल्ली: कर्नाटक विधानसभा चुनाव के परिणाम आचुके हैं जिसमें भारतीय जनता पार्टी बहुमत से दूर होकर बिन पानी के मछली की तरह फड़फड़ा रही है,वहीं कोंग्रेस ने बीजेपी के जश्न में खलल डालने के लिये जनतादल सेक्युलर को समर्थन देने का ऐलान करके बीजेपी की और मुश्किलें बढ़ा दी हैं।

कर्नाटक के राज्यपाल बीजेपी के पुराने वफादार हैं ऐसे में अनुमान लगाया जारहा है कि कहीं राज्यपाल जनतादल और काँग्रेस को नज़रअंदाज़ करके बीजेपी को न्यौता न देदे,वैसे जैसे गर्मी बढ़ रही है वैसे वैसे कर्नाटक चुनाव का तापमान भी बढ़ता जारहा है,कोंग्रेस के वरिष्ठ नेता जो बेंगलुरु में डेरा जमाये हुए हैं उनमें गुलाम नबी आजाद ने कहा है कि बीजेपी उनके विधायकों को धमका रही है. उन पर दबाव बना रही है, उसे लोकतंत्र में भरोसा नहीं है।

आजाद ने कहा कि अगर राज्यपाल ने संवैधानिक मूल्यों का पालन नहीं किया और हमें सरकार बनाने के लिए निमंत्रित नहीं किया, तो यहां खूनी संघर्ष होगा. उन्होंने कहा कि कांग्रेस विधायकों के असंतुष्ट होने की अफवाहें फैलाई जा रही हैं, लेकिन वास्तव में बीजेपी असंतुष्ट है।

इस बीच कांग्रेस विधायक अमरेगौड़ा ने कहा है कि बीजेपी ने उन्हें कैबिनेट मंत्री के पद का ऑफर दिया था, लेकिन उन्होंने ठुकरा दिया. अमरेगौड़ा लिंगनागौड़ा पाटिल बयापुर कर्नाटक के कुश्तगी से विधायक हैं.

आजाद ने कहा कि राज्य की सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी बीजेपी के पास बहुमत का आंकड़ा नहीं है. बीजेपी के पास 104 सीटें हैं, हमारे (कांग्रेस-जेडीएस) पास 117 सीटें हैं. राज्यपाल पक्षपाती नहीं हो सकते हैं।

उन्होंने सवाल उठाते हुए कहा कि क्या एक आदमी जो संविधान को बचाने के लिए राजभवन में बैठा है, उसे नष्ट कर देगा? एक राज्यपाल को अपने सभी पुराने संबंध खत्म कर देने होते हैं, चाहे वो बीजेपी हो या राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ।