उत्तर प्रदेश राज्य

अयोध्या के मंदिर में अब हर साल मुसलमानों को रोज़ा इफ्तार कराया जएगा: महंत जुगल किशोर

लखनऊ: देश की साँसे रोक देने वाले बाबरी मस्जिद मुद्दे पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई होरही है,उधर हिंदूवादी नेता सरकार पर बिल लाने का दबाव बना रहे हैं,बाबरी मस्जिद पर देश के सबसे न्यायलाय में फैसला होना बाकी है जहां पता चलेगा कि इसका असल मालिक कौन है?

अयोध्या को धर्मनगरी कहा जाता है,इसके अलावा इस शहर को मंदिर मस्जिद विवाद के लिये जाना जाता है,जब बाबरी मस्जिद शहीद हुए थी पूरे देश मे दँगे हुए थे,कुछ लोगों की राजनीति ही बस इस शहर के नाम पर चलती है,लेकिन अयोध्या में आपसी प्रेम भाईचारा काफी देखने को मिलता है।

इसकी एक मिसाल पिछले दिनों तब देखने को मिली जब राम जन्मभूमि परिसर के पास स्थित एक पुराने मंदिर के महंत ने मुसलमानों के लिए इफ्तार पार्टी का आयोजन किया और तमाम मुस्लिम रोजेदारों ने वहां जाकर अपना रोजा तोड़ा।

अयोध्या के सरयू कुंज मंदिर के महंत ने इस इफ़्तार पार्टी का आयोजन किया था। महंत जुगल किशोर शरण शास्त्री बताते हैं, “ये आयोजन हमने पहली बार नहीं किया है बल्कि दो साल पहले भी किया था। पिछले साल मैं बीमार पड़ गया। इस वजह से ये आयोजित नहीं हो पाया। लेकिन अब आगे इसे जारी रखा जाएगा।

महंत बताते हैं कि इफ्तार में रोजेदारों को वही चीजें खिलाई गईं जो भगवान को भोग लगाई गई थीं। उनके मुताबिक, “दरअसल इफ्तार की पार्टी में रोजेदारों को भगवान का प्रसाद खिलाया गया। हलवा, पकौड़ी, केला और खजूर जैसी चीजें थीं इस पार्टी में। दोनों समुदायों के करीब सौ लोग शामिल थे इसमें।