दुनिया

Video:तय्यब एर्दोगान ने ऑस्ट्रिया को धमकी देते हुए कहा “तुमने अगर मस्जिदें बंद करी तो हम हाथ पर हाथ धरे नही बैठे रहेंगे”

नई दिल्ली: ऑस्ट्रिया द्वारा मस्जिदें बन्द करने और इमामों को डिपोर्ट करने के पर तय्यब एर्दोगान ने कड़े शब्दों में आलोचना करी है,और ऑस्ट्रिया के इस फैसले को दुनिया को संकट में धकेलने वाला फैसला बताया है,जिससे दुनिया क्रॉस और चाँद आमने सामने होंगे।

राष्ट्रपति एर्दोगान ने कहा “अन्यथा ये मामले किसी अन्य तरीके से भी हल किया जा सकता था। वह कहते हैं कि वह हमारे इमामों को ऑस्ट्रिया से निकाल देंगे। क्या आप सोचते हैं कि आप ऐसा करेंगे और हम हाथ पर हाथ धरे बैठे रहेंगे ?हम भी कदम उठाएंगे। ”

ऑस्ट्रिया की कट्टर पार्टी ने 7 मस्जिद बंद कर दी हैं और वर्तमान ईमामों को निर्वासित कर देंगे। कदम का उद्देश्य कट्टरपंथी इस्लाम के प्रसार को रोकना और मस्जिदों और इमामों को तुर्की से किए गए धन को रोकना है।

ऑस्ट्रियाई सरकार ने 2015 में “इस्लाम में कानून” की थी जिसके माध्यम ऑस्ट्रिया में मौजूद धार्मिक समूहों को मिलने वाली विदेशी धन को रोकना और मुसलमानों संगठन (ऑस्ट्रिया) राज्य और समाज से संगत के लिए था।

राष्ट्रपति ईरदवान ने त्वरित प्रतिक्रिया देते हुए ऑस्ट्रियाई सरकार की नई नीतियों को इस्लामोफोबिया भेदभावपूर्ण और नस्लवादी करार दिया था।

आस्ट्रेया सरकार के उत्पीड़न का शिकार हुए इमामों के संबंध तरकश इस्लामिक यूनियन फॉर कल्चरल एंड सोशल सहयोग उनके ऑस्ट्रिया (ATIB) से संबंध रखते थे। उन तुर्की सरकार के संस्थानों ने सम्मान के साथ मदद की है। हालांकि, संगठन के प्रमुख कहते हैं कि वे वित्त पोषण स्रोतों को बदलने की कोशिश कर रहे हैं।