देश

मंदिर के पास मछली पकड़ रहे अज़हर ख़ान की भीड़ द्वारा पीट पीट कर…मॉब लिंचिंग

नई दिल्ली: देश मे फैलती नफरत का ज़ेहर इंसान को साँस नही लेने दे रहा है,हर तरफ भय का माहौल है,भीडतंत्र इतना हावी होगया है कि लोग लोकतंत्र को खतरा बताने लगे हैं,जिसको लेकर पिछले दिनों देश के सबसे बड़े कोर्ट सुप्रीम कोर्ट ने भी इस पर नाराजगी जताते हुए इस पर राज्य सरकारों को आदेश दिया था।

वहीं संयुक्त राष्ट्र की रिपोर्ट के मुताबिक भड़काऊ बयानबाज़ी इस प्रकार के अपराध का कारण बन रही हैं और पार्टी विशेष के लोग इस प्रकार की बयानबाजी करके अल्पसंख्यक और दलित समुदाय को निशाना बनवा रहे हैं।

भाजपा शासित राज्य राजस्थान में लिंचिंग का मामला सामने आया है। दूसरे समुदाय के युवकों ने मछली मारने पर एक मुस्लिम समाज के युवा को पीट पीट कर मार डाला, दूसरे समुदाय के युवकों द्वारा किये गये हमले युवक बुरी जख्मी हो गया और बाद में अस्पताल में इलाज के दौरान दम तोड़ दिया।

प्राप्त जानकारी के अनुसार मामला राजस्थान के चितौड़गढ़ जिले के खेड़ी गांव का है, जहां रुपरेल नदी के किनारे बने एक मंदिर के पास तीन मुस्लिम शख्स मछली पकड़ने पहुंचे थे। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक 17 सितंबर को 22 वर्षीय अजहर खान 23 वर्षीय शाहनवाज खान, 47 वर्षीय नौशाद खान और 41 वर्षीय अनवर खान के साथ रूपारेल नदी में मछली पकड़ने गया था।वहां मौजूद कुछ लोग उन्हें देख रहे थे।

इस दौरान जब इन लोगों ने मछली मारने के लिए जाल डाला तभी कुछ लोगों ने उन पर हमला कर दिया और मंदिर को गंदा करने का आरोप लगाया। इनमें से तीन लोग तो जान बचाकरभागने में कामयाब रहे मगर अजहर खान भागने के चक्कर में वहीं गिर गया। जमीन पर गिरे अजहर को गांववालों ने बेरहमी से पीटा। भागे युवकों ने अजहर के घरवालों को इसकी जानकारी दी तब वे लोग घटनास्थल पर पहुंचे। इसके बाद अजहर को चितौड़गढ़ जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया था।

बाद में अजहर को उदयपुर मेडिकल कॉलेज एंव हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया लेकिन उसकी जान नही बच सकी। अस्पताल से जब अजहर की लाश उसके गांव पहुंची तो उनके गांव बिछोर में तनाव फैल गया। पुलिस के मुताबिक लंबे समय से दो पक्षों में विवाद चल रहा था।

आरोप है कि ये लोग लंबे वक्त से नदी से मछली पकड़ते थे और गंदगी वहीं मंदिर के पास ही छोड़ दिया करते थे। इस वजह से दोनों पक्षों के बीच जबर्दस्त कहासुनी हुई थी। अजहर के चाचा अफरोज खान ने बताया कि वह प्राइवेट बस में कंडक्टरी करता था जबकि उसके पिता सरकारी बस चलाते हैं।