चुनाव

राजस्थान में भाजपा ने मुस्लिम विधायक को नही दिया टिकट,पार्टी से इस्तीफा देते हुए लगाया आरोप

नई दिल्ली: आगामी 2019 के लोकसभा चुनाव से पहले देश के कई राज्यों में होने वाले चुनाव में राजस्थान की महत्वपूण भूमिका है,सात दिसम्बर को चुनाव होने हैं,तमाम पार्टियों ने प्रत्याशियों का ऐलान कर दिया है, विधानसभा चुनाव के लिए टिकट नहीं मिलने पर भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के नागौर विधायक हबीबुर्रहमान ने भी नाराज होकर पार्टी से इस्तीफा दे दिया हैं।

हबीबुर्रहमान ने अपना इस्तीफा भाजपा प्रदेश अध्यक्ष मदन लाल सैनी को भेज दिया हैं, उन्होंने नागौर से ही चुनाव लड़ने का दावा भी किया है,उल्लेखनीय है कि सोमवार को जनस्वास्थ्य अभियांत्रिकी एवं भूजल मंत्री सुरेन्द्र गोयल ने भी भाजपा की जारी पहली सूची में टिकट नहीं मिलने पर पार्टी से इस्तीफा दे दिया और निर्दलीय चुनाव लड़ने का ऐलान कर दिया था।

इसके अलावा अजमेर जिले में किशनगढ़ विधानसभा से विधायक भागीरथ चौधरी को टिकट नहीं मिलने पर कार्यकर्ताओं ने जयपुर में विरोध प्रदर्शन किया था। इसी तरह कोटा जिले में रामगंजमंडी से विधायक चंद्रकांता मेघवाल, सागवाड़ा विधायक अनीता कटारा, डूंगरपुर विधायक देवेन्द्र कटारा तथा सादड़ी विधायक गौतम दक टिकट नहीं मिलने पर अपनी नाराजगी जता चुके हैं।

पांच बार विधायक रहे हबीब-उर-रहमान किस तरफ अपना राजनीतिक रफ्तार पकड़ेंगे यह साफ नहीं हो पाया है। गौरतलब है कि रहमान का नाता कांग्रेस से भी रह चुका है। 2008 विधानसभा चुनाव से ठीक पहले कांग्रेस से बीजेपी में शामिल हुए थे। उस दौरान बीजेपी की हार के बावजूद वह अपना चुनाव जीत गए थे।

इसके बाद 2013 विधानसभा चुनाव में भी नागौर से ही लगातार चुनाव जीते थे। इन सबके बीच रहमान खामोश हैं और अपने पत्ते नहीं खोल रहे। लेकिन, सूत्र बता रहे हैं कि वह कांग्रेस या राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी से चुनाव लड़ सकते हैं।