धर्म

जब रूह निकलती है तो इंसान का मुंह खुल जाता है…

Shamsher Ali Khan

जब रूह निकलती है तो इंसान का मुंह खुल जाता है होंठ किसी भी कीमत पर आपस में चिपके हुए नहीं रह सकते, रूह पैर के अंगूठे से खिंचती हुई ऊपर की तरफ आती हैं जब फेफड़ो और दिल तक रूह खींच ली जाती है तो इंसान की सांस एक तरफा बाहर की तरफ ही चलने लगती है… ये वो वक़्त होता है जब चन्द सेकेंडो में इंसान शैतान और फरिश्तों को दुनिया में अपने सामने देखता है…। एक तरफ़ शैतान उसके कान के ज़रिये कुछ मशवरे सुझाता है तो दूसरी तरफ़ उसकी जुबान उसके अमल के मुताबिक़ कुछ लफ्ज़ अदा करना चाहती है… अगर इंसान नेक होता है तो उसका दिमाग उसकी ज़ुबान को कलमा ए शहादत का निर्देश देता है और अगर इंसान काफ़िर मुशरिक बद्दीन या दुनिया परस्त होता है तो उसका दिमाग कन्फ्यूज़न और एक अजीब हैबत का शिकार होकर शैतान के मशवरे की पैरवी ही करता है और इंतेहाई मुश्किल से कुछ लफ्ज़ ज़ुबान से अदा करने की भरसक कोशिश करता है…।

ये सब इतनी तेज़ी से होता है की दिमाग को दुनिया की फ़ुज़ूल बातों को सोचने का मौका ही नहीं मिलता इंसान की रूह निकलते हुए एक ज़बरदस्त तकलीफ़ ज़हन महसूस करता है लेकिन तड़प इसलिए नहीं पाता क्योंकि दिमाग को छोड़कर बाकी ज़िस्म की रूह उसके हलक में इकट्ठी हो जाती है और जिस्म एक गोश्त के बेजान लोथड़े की तरह पड़ा हुआ होता है जिसमे कोई हरकत की गुंजाइश बाकी ही नहीं रहती…। आखिर में दिमाग की रूह भी खींच ली जाती है आँखे रूह को ले जाते हुए देखती हैं इसलिए आखो की पुतलीयां ऊपर चढ़ जाती हैं या जिस सिम्त फ़रिश्ता रूह कब्ज करके जाता है उस तरफ़ हो जाती हैं…।

इसके बाद इंसान की ज़िन्दगी का वो सफर शुरू होता है जिसमे रूह तकलीफ़ो के तहखानो से लेकर आराम के महलो की आहट महसूस करने लगती है जैसा की उससे वादा किया गया है …जो दुनिया से गया वो वापस कभी नहीं लौटा …सिर्फ़ इसलिए क्योंकि उसकी रूह आलम ए बरज़ख में उस घड़ी का इंतज़ार कर रही होती है जिसमे उसे उसका ठिकाना दे दिया जाएगा ….इस दुनिया में महसूस होने वाली तवील मुद्दत उन रूहों के लिये चन्द सेकेंडो से ज़्यादा नही होगी भले ही कोई आज से करोड़ो साल पहले ही क्यों न मर चुका हो…।

मोमिन की रूह इस तरह खींच ली जाती है जैसे आटे में से बाल खींच लिया जाता है और गुनाहगार की रूह कांटेदार पेड़ पर पड़े सूती कपड़े को खींचने की तरह खींची जाती है…।

अल्लाह पाक हम सब को मौत के वक़्त कलमा-ए-हक़ नसीब फरमाकर आसानी के सात रुह कबज़ फ़रमा और उस वक़्त नबी-ए-करीम ﷺ का दीदार नसीब फरमा…।

आमीन या रब्बल आलमीन!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *