देश

महान वक्ता और बुद्धिजीवी पूर्व केंद्रीय मंत्री और कांग्रेस नेता जयपाल रेड्डी का निधन

पूर्व केंद्रीय मंत्री और कांग्रेस नेता जयपाल रेड्डी के निधन पर पूरे देश के राजनीतिज्ञों ने शोक व्यक्त किया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उन्हें प्रभावी प्रशासक बताते हुए याद किया। वहीं प्रधानमंत्री मोदी ने ट्वीट किया, ‘जयपाल रेड्डी को सार्वजनिक जीवन का कई सालों का अनुभव था। वह प्रखर वक्ता और प्रभावी प्रशासक के तौर पर बहुत सम्मानित थे। उनके निधन से दुखी हूं।’

बता दें कि रविवार अलसुबह 1.28 बजे एआईजी अस्पताल में रेड्डी का निधन हुआ। 77 साल के रेड्डी बीते कई दिनों से बीमार चल रहे थे। वह बुखार और निमोनिया से पीड़ित थे। शनिवार को उनकी तबियत कुछ ज्यादा ही बिगड़ कई थी। वह एआईजी अस्पताल के आईसीयू में भर्ती थे।

पूर्व प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह ने कहा कि वह ज्ञान के सागर थे। यूपीए चेयरपर्सन सोनिया गांधी ने कहा कि रेड्डी एक ज्ञानी और मानवीय संवेदनाओं वाले नेता थे। उनका सभी राजनीतिक दलों में सम्मान था। जनता के हित के मुद्दे सदैव उनके ध्यान में रहते थे। उन्होंने विभिन्न सरकारों में काम करते हुए संसद को समृद्ध बनाया। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने भी रेड्डी के निधन पर शोक जताया।

मार्क्सवादी कम्यूनिस्ट पार्टी के महासचिव सीताराम येचुरी ने कहा कि भारत की धर्मनिरपेक्ष नींव को बनाए रखने और मजबूत करने के लिए वह सदैव कार्य करते रहते थे। एक ईमानदार और सही नेता, उन्हें उनकी समझ और विद्वता के लिए जाना जाएगा। येचुरी ने रेड्डी के निधन को देश में धर्मनिरपेक्ष ताकतों के लिए बड़ा नुकसान बताया।

पूर्व वित्त मंत्री और कांग्रेस नेता पी चिदंबरम ने कहा कि उनके द्वारा कहे या लिखे गए हर शब्द के पीछे गहरा मतलब बोता था। उन्होंने बड़ी आसानी से पुराने मूल्यों और नई टेक्नोलॉजी को एकसाथ अपनाया।

रेड्डी के साथ अपने संबंधों को याद करते हुए केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान ने कहा कि उनके निधन से जनता को बहुत क्षति हुई है। विपक्षी नेता शरद पवार ने कहा कि वह योग्य प्रशासक और महान सांसद थे, संसद में उनके भाषणों को हमेशा याद किया जाएगा। वहीं, पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा कि एक अनुभवी सांसद के तौर पर, केंद्रीय मंत्री के तौर पर और शानदार वक्ता के तौर पर रेड्डी हमेशा याद किए जाएंगे।

महान वक्ता और बुद्धिजीवी थे जयपाल रेड्डी : उपराष्ट्रपति
उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू ने कांग्रेस के वरिष्ठ नेता एस जयपाल रेड्डी के निधन पर रविवार को दुख व्यक्त करते हुए कहा कि दिवंगत नेता महान वक्ता और बुद्धिजीवी थे और उनमें प्रत्येक मुद्दे का विश्लेषण करने की क्षमता थी। नायडू ने दिवंगत नेता रेड्डी के आवास पर जा कर उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित करने और उनके परिजन को सांत्वना देने के बाद संवाददताओं से कहा कि रेड्डी का राजनीतिक जीवन अन्य नेताओं के लिए आदर्श बनना चाहिए।

उन्होंने कहा, ‘मैं उनकी आत्मा की शांति के लिए ईश्वर से प्रार्थना करता हूं। उनका राजनीतिक जीवन अन्य नेताओं के लिए आदर्श बनना चाहिए। अपने दोस्त, सहयोगी, वरिष्ठ और सर्वश्रेष्ठ सांसद के निधन से मैं बेहद शोकाकुल हूं।’ उपराष्ट्रपति ने बताया कि अलग-अलग दलों में होने के बावजूद जब भी उन्हें रेड्डी की सराहना करने का अवसर मिलता था वह उसमें संकोच नहीं करते थे।

गृह राज्य मंत्री जी किशन रेड्डी ने दिवंगत नेता को श्रद्धांजलि अर्पित की और कहा कि देश ने एक महान सांसद खो दिया है। तेलंगाना के राज्यपाल ईएसएल नरसिम्हन ने भी दिवंगत नेता के आवास पर जा कर उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की।

महाराष्ट्र के राज्यपाल सी विद्यासागर राव ने कहा कि रेड्डी तेलंगाना के बेहतरीन सांसदों में से एक थे, जिनका लगभग दो दशक तक राष्ट्रीय राजनीति में वर्चस्व रहा। राव ने कहा, ‘एक उत्कृष्ट प्रशासक और प्रतिभाशाली वक्ता, जयपाल रेड्डी ने अपने लंबे एवं शानदार राजनीतिक करियर में विभिन्न मंत्रालय संभाले। विचारधारा में मतभेद होने के बावजूद मैं उनका बेहद सम्मान करता हूं।’

अपने अच्छे कामों के लिए हमेशा याद किए जाएंगे रेड्डी : नीतीश
बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने पूर्व केंद्रीय मंत्री जयपाल रेड्डी के निधन पर रविवार को शोक जताया। नीतीश ने उन्हें ऐसा सामाजिक कार्यकर्ता बताया जिन्हें उनके अच्छे कामों के लिये हमेशा याद किया जायेगा। अपने शोक संदेश में कुमार ने कहा, ‘वह एक प्रख्यात सामाजिक कार्यकर्ता थे, जिन्होंने आंध्र प्रदेश और तेलंगाना की राजनीति में अहम भूमिका निभाई। अपने अच्छे कार्यों के लिये उन्हें हमेशा याद किया जाएगा।’

रेड्डी का हैदराबाद के एक अस्पताल में शनिवार की देर रात निधन हो गया। पूर्ववर्ती विभिन्न सरकारों में उन्होंने कई अहम विभागों का कार्यभार संभाला था। वह चार बार विधायक, पांच बार लोकसभा सांसद और दो बार राज्यसभा के सदस्य रहे।

गहलोत और पायलट ने व्यक्त किया शोक
राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट ने रेड्डी के निधन पर रविवार को शोक व्यक्त किया और शोक संतप्त परिजन के प्रति संवेदनाएं व्यक्त कीं। भाकपा के पूर्व महासचिव सुधाकर रेड्डी ने भी वरिष्ठ कांग्रेस नेता के निधन पर शोक व्यक्त किया।

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने ट्वीट कर कहा, ‘कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री एस जयपाल रेड्डी के निधन की खबर सुनकर गहरा दुख पहुंचा। उनके साथ मेरे निजी संबंध थे। उनके परिवार के सदस्यों के प्रति मैं दिल से संवेदना प्रकट करता हूं, ईश्वर उन्हें हिम्मत दे… उनकी आत्मा को शांति मिले।’

उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट ने ट्वीट किया, ‘पूर्व केंद्रीय मंत्री और वरिष्ठ कांग्रेस नेता जयपाल रेड्डी के निधन की खबर सुनकर मन व्यथित है। शोक संतप्त परिजनों के प्रति मेरी गहरी संवेदनाएं हैं। ईश्वर दिवंगत आत्मा को शांति और शोकाकुल परिजन को इस मुश्किल घड़ी में यह आघात सहन करने का संबल प्रदान करें।’

सोमवार को राजकीय सम्मान के साथ होगा अंतिम संस्कार
तेलंगाना के मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव ने कहा कि रेड्डी का अंतिम संस्कार सोमवार को राजकीय सम्मान के साथ किया जाएगा। मुख्यमंत्री ने आदेश दिया है कि दिवंगत रेड्डी का अंतिम संस्कार को पूरे राजकीय सम्मान किया जाएगा। उन्होंने मुख्य सचिव को इसके लिए सभी जरूरी इंतजाम करने का निर्देश दिया है।

तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) वरिष्ठ नेता और तेलंगाना राज्य किसान समन्वय समिति के चेयरमैन गुट्टा सुखेंदर रेड्डी ने कहा कि रेड्डी का अंतिम संस्कार दोपहर एक से डेढ़ बजे के बीच हुसैन सागर के पास पीवी घाट पर पूर्व प्रधानमंत्री पीवी नरसिम्हा राव की समाधि के पास होगा।

इससे पहले तेलंगाना प्रदेश समिति के अध्यक्ष उत्तम कुमार रेड्डी ने बताया था कि रेड्डी के अवशेषों को सुबह 10.30 से 11 बजे तक गांधी भवन में रखा जाएगा। यहां पार्टी कार्यकर्ता और बाकी लोग उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित कर सकेंगे।

तेलंगाना के मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव ने दिवंगत नेता को श्रद्धांजलि अर्पित करने के बाद कहा कि रेड्डी का अंतिम संस्कार पूरे राजकीय सम्मान के साथ किया जाएगा। कांग्रेस के सूत्रों ने बताया कि लोगों के दर्शनार्थ रेड्डी की पार्थिव देह कल सुबह कुछ देर के लिए गांधी भवन में रखी जाएगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *