दुनिया

अचानक युद्धाभ्यास और इस्राईली अपराध : रिपोर्ट

फिलिस्तीन के गज़्ज़ा पट्टी में इस्राईल का अचानक शुरु किया जाने वाला युद्धाभ्यास मंगलवार को खत्म हो गया जबकि इस क्षेत्र में इस्राईली अपराध यथावत जारी हैं।

इस्राईली सेना ने रविवार से अचानक ही इस क्षेत्र में युद्धाभ्यास आरंभ कर दिया था जो तीन दिनों तक जारी रहा। यह युद्धाभ्यास एेसी दशा में था कि जब गज़्ज़ा के खिलाफ अपने हालिया युद्ध में इस्राईल को मात्र दो दिनों में ही पीछे हटना पड़ा था। यह युद्ध गत मई में हुआ था। इस्राईली सेना के बयान में भी दावा किया गया है कि इस युद्धाभ्यास का उद्देश्य, गज़्ज़ा पट्टी की सीमा पर हंगामों का मुक़ाबला करने के लिए तैयारी था। ध्यान योग्य बात यह है कि यह युद्धाभ्यास , फिलिस्तीनी प्रतिरोध आंदोलन, हमास की तेहरान यात्रा के कुछ ही दिनों बाद अचानक किया गया है। हमास की तेहरान यात्रा के दौरान हमास और ईरान के अधिकारियों ने प्रतिरोध के बल पर विजय प्राप्त करने पर ज़ोर दिया। इस्राईल को यह चिंता है कि कहीं हमास और ईरान के मध्य संबंधों में मज़बूती से फिलिस्तीनी संर्घषकर्ता गुटों अधिक मज़बूत न हो जाएं और यह चिंता इस्राईली नेताओं और अधिकारियों के बयानों में भी झलकती है। इसी लिए इस्राईल के हालिया युद्धाभ्यास को ईरान व हमास के मध्य संबंधों से इस्राईल की चिंता का परिणाम कहा जा सकता है। इसके साथ ही यह भी ध्यान योग्य बिन्दु है कि यह युद्धाभ्यास इस्राईल में संसदीय चुनाव से लगभग 50 दिन पहले आयोजित हुए हैं। पिछले अप्रैल में इस्राईल में संसदीय चुनाव हुए थे किंतु नेतेन्याहू 42 दिन की अवधि में सरकार बनाने में विफल रहे थे। इस्राईल इसी के साथ ही फिलिस्तीनियों के खिलाफ अपराधों में भी तेज़ी ला रहा है फिलिस्तीनी बंदियों के मामलों पर नज़र रखने वाली संस्था के प्रवक्ता रियाज़ अलअशक़र का कहना है कि सन 2019 की पहली छमाही में फिलिस्तीन के विभिन्न क्षेत्रों में 2600 से अधिक फिलिस्तीनियों को इस्राईल ने हिरासत में लिया है जिनमें से एक तिहाई का संबंध बैतुलमुक़द्दस से था जिससे स्पष्ट होता है कि इस्राईल ने इस नगर को लक्ष्य बना रखा है। इसके साथ ही इस्राईल द्वारा अवैध कालोनियों का निर्माण भी जारी है जिससे यही साबित होता है कि इस्राईल प्रतिरोध से डरने के साथ ही अपराधों में वृद्धि भी कर देता है जो निश्चित रूप से आलोचनीय है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *