देश

यह तस्वीर थाईलैंड के देवस्थान मंदिर के श्रीराम, सीता और हनुमान की है : आर्मी वालों नें ऐसा बोला था!

यह तस्वीर थाईलैंड के देवस्थान मंदिर के श्रीराम, सीता और हनुमान की है | थाईलैंड यात्रा के समय यह तस्वीर ली थी मैंने |

कभी कभी सोचता हूँ कि अयोध्या में रहने वाले राम और बाकी दुनिया भर के मंदिरों में बैठे रामों में इतना भेदभाव क्यों है ?

अयोध्या के राम टेंट में ज़िन्दगी गुजार रहे हैं, जबकि बाकी दुनिया भर के मंदिरों में विराजमान राम आलिशान ज़िन्दगी जी रहे है | और जब भगवानों में ही इतना भेदभाव है, तो सोचिये उनके भक्तों और एजेंट्स में कितना भेदभाव होगा ??

क्यों बाकी मंदिरों के राम अयोध्या के राम की सहायता न करके सरकार, अदालत और धर्म के ठेकेदारों के भरोसे छोड़ दिया ?

~विशुद्ध चैतन्य

 

 

आज ट्रेन में यात्रियों से चर्चा हुई

ये यात्री अमरनाथ यात्रा से लौट रहे थे

मैनें पूछा कैसी रही आपकी यात्रा ?

बोले अरे वो सब कश्मीरी आतंकवादियों की वजह से गड़बड़ हो गई

मैने पूछा अच्छा क्या कश्मीरी आतंकवादियों नें अमरनाथ पर हमला किया

यात्री बोले नहीं अमरनाथ पर हमला तो नहीं किया

मैनें पूछा तो क्या कश्मीरी आतंकवादियों ने तीर्थयात्रियों पर हमला किया

वे एक दूसरे का मूँह देखने लगे, फिर धीरे से बोले कि नहीं कश्मीरी आतंकवादियों नें तीर्थयात्रियों पर कोई हमला नहीं किया

मैनें पूछा कि फिर कश्मीरी आंतकवादियों की वजह से आपकी यात्रा कैसे बर्बाद हो गई ?

तीर्थ यात्री बोले कि आर्मी वालों नें ऐसा बोला था

यानी अमरनाथ यात्रा किसी कश्मीरी के कारण नहीं रूकी है

सेना और सरकार ने मिल कर कश्मीरियों को बदनाम करने के लिये बेवजह अमरनाथ यात्रा बन्द करी है

दूसरी खबर यह है कि अमरनाथ यात्रा बन्द करके यात्रियों को जबरदस्ती वापिस भेजा जा रहा है

कल वापिस आते समय तीर्थयात्रियों की एक बस पलट गई

तीर्थयात्री दूसरी गाड़ियों से मदद मांगते रहे

लेकिन दूसरे तीर्थयात्रियों ने मदद के लिये अपनी गाड़ी नहीं रोकी

सेना का ट्रक भी नहीं रुका

फिर किसी मुस्लिम कश्मीरी गांव वाले ने यह सब देखा

फिर तो कश्मीरी मुसलमानों का पूरा गांव

हिन्दु अमरनाथ यात्रियों को बचाने के लिये दौड़ पड़ा

बस के काँच तोड़ कर बस में फंसे यात्रियों को निकाला गया

फिर सभी घायल तीर्थ यात्रियों को कश्मीरी गांव वालों ने अस्पताल पहुंचाया

दूसरी खबर यह है कि दंगे में फंस कर एक पंडित परिवार भूखा था

एक कश्मीरी पति पत्नी ने कर्फ्यू की परवाह करे बिना अपने कन्धे पर खाने का सामान लादा

और कई मील पैदल चल कर पंडित परिवार तक खाना पहुँचाई

सुना है कश्मीर में गोलियों के छर्रे लगने से एक सौ के करीब कश्मीरियों की आंख खराब हो गई है

इधर भारत वासियों की आंखें बिना गोली लगे ही बन्द हो गई हैं

हमें सच्चाई दिखनी ही बन्द हो गई है

या हम जान बूझ कर यह सब देखना नहीं चाहते ?

– 2016 की पोस्ट जो आज भी प्रासंगिक है

Himanshu Kumar

 

Ruby Arun

तीन तलाक बिल पास होने की खुशी में बेगम ने
सब्जी में नमक ज्यादा डाल दिया
और शौहर से बोली अब जो करना है कर लो ?

पति गुस्से में बाहर निकल गया
पत्नी ने सोचा बात ख़त्म हो गई
पर ऐसी बात थी नहीं,

शौहर,शाम को नई दुल्हन ले कर आ गया
बोला तीन तलाक़ बंद हुआ है चार शादी नहीं…
अब तुझे जो करना है कर ले ?

सरकार, इसके लिए भी तो कोई कानून बनाओ?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *