धर्म

I #SupportNDTVइज़रायली सेना के दोस्त यहूदी पत्रकार ने जब अपना लिया ‘इस्लाम’ धर्म!

·
_______ #Assalamu_Alaikum _______

#Jewish_jounalist_converted_to_Islam:

The Jewish journalist Mahdi Majeed stirred a wave of controversy, not only in Israel, but in the Middle East in general, given the long history of friendship between him and Israeli high-ranking officials.

Majeed, Iraqi-origin Jew, visited Israel in past February,2018 as part of media delegation, where he met with top Israeli military officials. He used to call Israel the “lighthouse of democracy in the Middle East.” Now he is attacking ‘Zionism’ and the Israeli aggression against Palestinians, which attracted the attention of both sides to him.

“I was not a Muslim, but now I believe in Islam and thank God for guiding me to the right path,” by those words Majeed announced his conversion to Islam through his private Twitter account, requesting from the Saudi authorities to allow him to pay a visit to the holy lands of Mecca to perform Umrah ritual.

Majeed used his Twitter account to attack both sides, Arab and Israelis, calling Israel “the Zionist State,” admitting Israelis’ right to live in peace, but against their aggression against the peaceful Palestinians, as well as criticizing the Arab clerics, who, according to Majeed, are misleading millions of Muslims and spread the wrong understanding of Islam among their followers.

In February,2018, Majeed was a guest of the spokesperson of the Israeli army, Avichay Adraee‎, who went live from Tel Aviv on Facebook through his official page to greet him, where the two seemed so friendly.

#Jewish_jounalist_converted_to_Islam:

 

 

यहूदी पत्रकार मेहदी मजीद इजरायल में ही नहीं दुनियांभर में पहचान रखते हैं, वो यहूदी होने के बावजूद इस्राईल और यहूदियों के षड्यंत्रों के खिलाफ लिखते हैं, सामान्य रूप से मध्य पूर्व में, उनके और इजरायली उच्च रैंकिंग के अधिकारियों के बीच दोस्ती का भी लंबा इतिहास है ।

मजीद, इराकी-मूल के यहूदी पत्रकार हैं, पिछले साल फरवरी, 2018 में मीडिया प्रतिनिधिमंडल रूप में इज़राइल का दौरा किया, जहां वह शीर्ष इजरायली सैन्य अधिकारियों के साथ मिले । वह इजराइल को “मध्य पूर्व में लोकतंत्र का लाइटहाउस” कहते थे । अब वह ‘ज़िओनिज़म’ पर हमला कर रहा है और फिलिस्तीनियों के खिलाफ इजरायल की आक्रामकता, अत्याचारों पर इस्राईल के खिलाफ आवाज़ उठाता है, जिसने दोनों पक्षों का ध्यान आकर्षित किया ।

” मैं एक मुस्लिम नहीं था, लेकिन अब मैं इस्लाम में विश्वास करता हूँ और मुझे सही रास्ते पर मार्गदर्शन करने के लिए भगवान का शुक्र है,” इन शब्दों द्वारा मजीद ने अपने निजी ट्विटर खाते के माध्यम से इस्लाम को अपने रूपांतरण की घोषणा की,

मजीद ने अपने ट्विटर खाते का इस्तेमाल किया, दोनों पक्षों, अरब और इजरायल पर हमला करने के लिए, इजरायल को “यहूदी राज्य” कहते हुए कहा, ‘शांति से जीने के लिए इजरायल को अधिकार है’, लेकिन ”शांतिपूर्ण फिलिस्तीनियों के खिलाफ अपनी आक्रामकता के खिलाफ”, साथ ही उन्होंने अरब मौलवियों की आलोचना भी की, मजीद के अनुसार, वो लाखों मुसलमानों को गुमराह कर रहे हैं और अपने अनुयायियों के बीच इस्लाम की गलत समझ को फैला रहे हैं ।

फरवरी, 2018 में, मजीद इजरायली सेना के प्रवक्ता के अतिथि थे, avichay adraee, जो फेसबुक पर तेल अवीव से लाइव होकर अपने आधिकारिक पेज के माध्यम से उन्हें अभिवादन करने के लिए गए थे, जहां दोनों इतने दोस्ताना लग रहे थे ।

 


There are 124000 messengers in Islam which were all sent by the Almighty Allah (God) for the guidance of humankind.

Among them, 25 are Prophets which are mentioned in the Holy Qur’an like #Adam(first),
nuh(#noah),
Ibrahim (#Abraham),
Musa(#Moses),
Dawood(#David),
Suleiman (#Solomon),
Isa(#Jesus),
#Muhammad(last) etc.

|| Peace be upon them ||

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *