दुनिया

अर्दोगान ने फ़िलिस्तीन, कश्मीर, सीरिया संकट पर उठाई आवाज़, ट्रम्प के इस्लामिक आतंकवाद कहने पर अमेरिका को लगायी फटकार : वीडियो

फ़िलिस्तीन और कश्मीर पर तुर्क राष्ट्रपति ने राष्ट्र संघ में बुलंद की आवाज़, सोशल मीडिया पर छा गए अर्दोग़ान, #OurVoiceErdogan ने ट्वीटर पर मचाई धूम
तुर्की के राष्ट्रपति रजब तैयब अर्दोग़ान ने संयुक्त राष्ट्र संघ की महासभा में कश्मीर और फ़िलिस्तीन के मुद्दों पर मज़बूती से आवाज़ उठाई।

अर्दोगान ने महासभा के अधिवेशन को संबोधित करते हुए फ़िलिस्तीन का नक्शा अपने हाथ में उठाया जिसके एक बड़े भाग पर इस्राईल ने क़ब्ज़ा कर रखा है।

अर्दोग़ान ने महासभव के 74वें अधिवेशन को संबोधित करते हुए फ़िलिस्तीन और कश्मीर के अलावा सीरिया संकट, ईरान और अमरीका के बीच तनाव, सऊदी पत्रकार जमाल ख़ाशुक़जी हत्या कांड तथा पश्चिम में बढ़ती नस्लपरस्ती जैसे मुद्दों को उठाया।

अर्दोग़ान ने मंगलवार को अपने इस भाषण में कहा कि कश्मीर समस्या का हल भारत और पाकिस्तान के बीच वार्ता से होना चाहिए। उन्होंने कश्मीर विवाद पर ध्यान न देने के चलते विश्व समुदाय की निंदा करते हुए कहा कि यह विवाद 72 साल से चला आ रहा है। अर्दोगान ने कहा कि दक्षिणी एशिया की शांति और समृद्धि को कश्मीर मुद्दे से अलग नहीं किया जा सकता। तुर्क राष्ट्रपति ने कहा कि कश्मीर का मुद्दा न्याय और बराबरी के आधार पर हल किया जाना चाहिए टकराव से नहीं।

अर्दोग़ान ने कहा कि कश्मीर के बारे में प्रस्ताव भी पारित हो चुके हैं लेकिन फिर भी कश्मीर में 80 लाख लोग फंसे हुए हैं।

 

Vinod Bhaskar
·
अमिताभ को अमिताभ बनाने में सबसे बड़ा हाथ धर्मवीर भारती का था. उस ज़माने में हिंदुस्तान का सबसे बड़ा मीडिया था टाइम्स ऑफ़ इंडिया और उसमें भी धर्मयुग का जो जलवा था, उसकी आज कल्पना भी नहीं की जा सकती. धर्मवीर भारती ने हरिवंशराय बच्चन से सबंधों के कारण अमिताभ के फेवर ने टाइम्स की हर पत्रिका में इतने लेख लिखवाए जिनकी गिनती नहीं है. धर्मयुग, माधुरी, दिनमान के अलावा, दैनिक नभाटा, टाइम्स के साथ ही बच्चों की पत्रिका पराग तक में लेख छापे गए. लगभग हर लेख में उस समय के सुपर स्टार राजेश खन्ना से अमिताभ को बेहतर बताया गया था. फ़िल्मी भाषा में कहूँ तो साफ लिखा रहता था अमिताभ राजेश को खा गया.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *