कश्मीर राज्य

कश्मीर में इसराइल अपना ‘बेस’ तैयार कर रहा है : : रिपोर्ट

कश्मीर मामले में जो पूरी दुनियां का मीडिआ कश्मीर के पक्ष में लिख रहा है साथ ही भारत को निशाने पर ले रहा है, कोई भी मीडिया वाशिंगटन पोस्ट, न्यूयोर्क टाइम्स, जेरुसलम पोस्ट, बीबीसी, अलजजीरा, cnn आदि सहित सभी बड़े मीडिया कश्मीर के साथ में खड़े नज़र आ रहे हैं

ऐसा अब से पहले कभी नहीं हुआ कि विश्व का अहम् मीडिया भारत के खिलाफ हो और उसके खिलाफ खुल कर लिखे/बोले, यहाँ इस्राईल का मीडिया भी भारत के खिलाफ खबरें छाप रहा है, तो क्या यह किसी बड़े युद्ध की तरफ इशारा है?

कश्मीर में भारत ने जो करना था वो उसने कर दिखाया है, भारत के इस कदम ने पाकिस्तान को उलझन में डाल दिया है, पाकिस्तान की मौजूदा सरकार वहां अर्थव्यवस्था के मोर्चे पर लड़ रही है उसी समय कश्मीर से भारत ने 370 को हटा कर पाकिस्तान को पटरी से उतार दिया है, सूत्रों के मुताबिक कश्मीर में इसराइल कई सालों से सक्रिय है, मीडिया की रिपोर्ट्स के मुतानिक इसराइल अब कश्मीर में अपना ‘बेस’ तैयार कर रहा है

“We are ready to give sacrifice for our Kashmiri brothers, will fulfill our duty till last bullet, last soldiers and last breath, and we are prepared to go till any extent.”


@ImranKhanPTI

बता दें की पुलवामा के बाद भारत ने जब बालाकोट के आतंकवादी अड्डों को निशाना बनाया था उस समय भी इसराइल और फ्रांस के एक्सपर्ट्स राजिस्थान और गवालियर के एयर बेस पर मौजूद थे, यही नहीं 27 फरवरी को जब पाकिस्तान ने भारत के खिलाफ हवाई हमला किया था जिसमे कुलभूषण को पाकिस्तानी सेना ने पकड़ लिया था, उस समय पाकिस्तान मीडिया और पाकिस्तान सेना ने शुरू के बयानों में भारत के दो विमान गिराने और दो पायलेट पकड़ने की खबरें दी थीं मगर बाद में सिर्फ अभिनन्दन की बात की गयी, जानकारों और मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक दूसरा पायलेट जो पाकिस्तान में पकड़ा गया था वो इसराइल का था और विमान सुखोई 30 था जो पाकिस्तान वायुसेना ने गिराया था

सूत्रों के मुताबिक चीन के कहने पर पाकिस्तान ने इसराइल के पायलेट के पकडे जाने की बात को आम नहीं किया था उससे रूस के सुखोई की खबर भी आम करना पड़ती, पाकिस्तान ने चीन की बात को मानते हुए यह खबर छुपाली थी, इसका फायदा पाकिस्तान को यूँ हुआ की रूस ने समय रहते पाकिस्तान को बेहद ‘गुप्त सुचना’ दे कर आगाह किया, घटना इस तरह से है कि पाकिस्तान के हवाई हमले के बाद भारत में प्रधानमंत्री की अध्यक्षता में बेहद गुप्त मेटिंग पीएमओ में हुई जिसमे सिर्फ प्रधानमंत्री, NSA और तीनों सेनाओं के प्रमुख शामिल थे, इस में तै हुआ था कि भारत पाकिस्तान के अंदर 6 ठिकानो पर मिसाइल हमला करेगा, यह मीटिंग ख़तम होने के बाद अभी मीटिंग में शामिल लोग पीएमओ से बाहर भी नहीं निकल पाए थे कि पाकिस्तान के NSA का फ़ोन भारत के NSA के फ़ोन पर आया, पाकिस्तान की तरफ से भारत में हुई मीटिंग और पाकिस्तान में 6 जगहों पर हमले को लेकर बात करते हुए धमकी दी कि अगर भारत ने पाकिस्तान पर हमला किया तो हम बीस जगहों पर भारत के अंदर हमला करेंगे

यह ऐसा मामला था जो बेहद गुप्त था, यह खबर लीक कैसे हुई, इस बात ने भारत को चिंता में डाल दिया, सूत्रों के मुताबिक यह खबर सेटेलाइट के माध्यम से हासिल की गयी थी, जिसे चीन ने हाइजेक कर ट्रेस किया था, चीन ने यह गुप्त जानकारी रूस को दी जिसे रूस ने पाकिस्तान को दिया, चीन ने सीधे सीधे यह खबर पाकिस्तान को उपलब्ध नहीं करवाई थी, उसकी वजह माना जाता है कि चीन खुद को विश्व में किसी विवाद में शामिल नहीं करना चाहता था, पाकिस्तान और भारत दोनों ही चीन के पडोसी देश हैं, इसलिए उसने यहाँ बहुत एहतियात से काम लिया

अब कश्मीर मामले को लेकर मीडिया युद्ध का माहौल बना रहा है, मीडिया चाहता है कि भारत कश्मीर से कर्फ्यू हटाए उसके बाद वहां हंगामे होंगे, बड़े बवाल हो सकते हैं, और अगर कश्मीर के अंदर कोई बड़ा हंगामा होता है तो पाकिस्तान के ऊपर कारवाही करने का भारी दबाव बनेगा और उसे जंग शुरू करना पड़ेगी, असल में कश्मीर के मामले से बड़े देश अपने फायदे देख रहे हैं, हथियारों के सौदागर सक्रिय हैं, कई लॉबी युद्ध करनावा चाहती हैं. इसमें घी का काम इस्राइल कर रहा है, इसराइल भारत को अंदर ही अंदर उकसाने में लगा हुआ.

कश्मीर मामले में आगे क्या होगा अभी कुछ नहीं कहा जा सकता है, भारत ने कश्मीर पर जो कार्यवाही की है उससे भारत को कोई फायदा नहीं होने जा रहा है बल्कि भविष्य में इसका बड़ा नुक्सान हो सकता है, सूत्रों, जानकारी के मुताबिक कश्मीरी जनता सरकारी नौकरियों से सामूहिक इस्तीफा देने का मन बना रही है, वहां भारत के खिलाफ ज़बरदस्त आक्रोश है, अभी लोग घरों में क़ैद हैं जब वहां से पाबंदियां हटेंगी उस समय के हालात तै करेंगे आगे क्या होगा

barkha dutt
@BDUTT
If Modi government does not allow politics to return to Kashmir, its the separatists that get stronger. Surely that defeats the stated purpose of the Article 370 decision. I write in
@htTweets

Jhalak Jain
@JainJhalak3
A month since #Kashmir is silent. Government and mainstream media portray normalcy in the valley while
@Shehla_Rashid
and many others are getting booked on charges of sedition and insighting violence? Why are we silent? Prevent India’s democracy!

Jammu Kashmir TV
======

With communication blocked a family in Kashmir is unaware about the death of their son in UP this evening. Reports reaching Kashmir Despatch said a 25 year old Farhat Ahmed resident of Central Kashmir’s Ganderbal District on Friday died in Utter Pradesh state where he was pursuing education. Police in this regard has started investigation. Pertainally, It had been 33 days since the unprecedented communication lockdown in Jammu and Kashmir following the abrogation of Article 370 by the BJP government.

 

Jammu Kashmir TV
=============
جموں کشمیر لبریشن فرنٹ نے چار اکتوبر کو منحوس خونی لکیر ( سیز فائر لائن روندنے کا آفیشل اعلان مظفر آباد پریس کانفرنس کے زریعے کر دیا
مظفرآباد جموں و کشمیر لبریشن فرنٹ نے 4 اکتوبر کو سیز فائر لائن چکوٹھی سے توڑنے کا اعلان کر دیا۔
دو اکتوبر کو لبریشن فرنٹ کوٹ جیمل ( بھمبھر سے فریڈم مارچ کا آغاز کرے گی جو میرپور ، کوٹلی ، تتہ پانی ، ہجیرہ ، راولاکوٹ ، ارجہ ، دھیرکوٹ ، کوہالہ سے ہوتا ہوا مظفرآباد پہنچے گا ۔ چار تاریخ کو چکوٹھی کے مقام سے خونی لکیر کو عبور کرے گا مرکزی ایوان صحافت میں پریس کانفرنس کرتے ہوئے جے کے ایل ایف کے ترجمان “رفیق ڈار “نے باضابطہ اعلان کیا ۔ اس موقع پر جموں کشمیر لبریشن فرنٹ آزاد کشمیر گلگت بلتستان زون کے صدر ڈاکٹر توقیر گیلانی اور ایس ایل ایف کے چئیرمین “ملک عبدالرحیم” بھی موجود تھے بعد ازیں میڈیا نمائندگان سے بات کرتے ہوئے ڈاکٹر توقیر گیلانی کا کہنا تھا کہ لبریشن فرنٹ کا یہ مارچ تحریک کا سب سے بڑا مظاہرہ ہو گا ۔جو عالمی دنیا کے سامنے بھارتی ظلم و بربریت کے ساتھ ساتھ کشمیر کے بنیادی مسلے کو بھی سامنے لائے گا۔
ڈاکٹر توقیر کے مطابق اس فریڈم مارچ میں لاکھوں پرامن کشمیری شامل ہونگے

Jammu Kashmir TV
September 5
===============
This is an image of an X-Ray of Asrar Khan’s head. Asrar Khan was an 18-year-old who died today in the SKIMS hospital in Srinagar, Kashmir, after fighting the injuries sustained almost a month ago, on the 6th of August, when he was hit by pellets from pellet guns fired by Indian forces and by a tear gas shell. According to Asrar’s father, he had been playing cricket with his friends when he was attacked. The injuries to the head prove that at least in this instance, the pellet guns, (as is evident from any inference about the direction in which they were aimed) were being used to kill, not to maim. Doctors attending to him have said that the death was caused by complications relating to the impact of a tear gas shell on his cranium. The family has not been given a Post Mortem report yet.

A Government official has tried his best to say that Asrar Khan died because he was hit by a stone thrown by a stone pelter. The only problem with this statement is that the X-Ray of Asrar Khan’s head does not show an injury caused by a stone. It does, however, show lots of pellets, and the doctors maintain that the impact of the tear gas shell had a lot to do with the deterioration of his condition.

What is it that can be said about a regime that lies blatantly about the cause of death of an eighteen-year-old?

Just this, that its foundation is a lie.

[ The image of the X-Ray is taken by Samaan Lateef and was published as part of a report on Asrar Khan’s death by him in The Independent ]

Via – Shuddhabrata Sengupta

Jammu Kashmir TV
September 5
================
Amnesty International India

Put Humanity First: Lift The Communications Lockdown In Kashmir!
Imagine a world where you cannot call home. This is the reality of thousands of Kashmiris around the world. Eight million Kashmiris living in the region today have been locked in their homes for over a month. Outside the region their friends and families are unable to get in touch amidst stories of curfews, protests, medical emergencies and use of excessive force by the administration. Families have been torn apart as they live under siege – a collective punishment for the people of Kashmir- this is the human cost of the blackout and it cannot be ignored.

LetKashmirSpeak

The decades of political battle over Kashmir has affected its people more than anybody else, and now more so than ever before. At this crucial point in India’s history, help put humanity first, urge the Indian Governor of Jammu and Kashmir, Satya Pal Malik to lift the communications lockdown in Kashmir and let the people speak. Let’s show the Indian Government that the world is watching and urge them to be on the right side of history.

name@email.com
Phone Number (Optional)
The following email will be sent

To: Governor Satya Pal Malik

Subject: PUT HUMANITY FIRST: LIFT THE COMMUNICATIONS LOCKDOWN IN KASHMIR!

Dear Governor,

Since a month now, life has been derailed for the population of about 8 million people in Kashmir due to an absolute blackout of all communication networks. Many young and aged remain locked in their homes since a month – the human cost of this blackout cannot be ignored.

This draconian and indefinite blanket ban on communication services makes it difficult for people to reach out to their families and inform about their safety and hampers the work of doctors and other humanitarian workers in providing assistance and aid to sick and terminally ill. This indeed is a collective punishment for the people of Kashmir.

Since the last one month, families have been unable to reach out and speak to their loved ones of their health and safety.

This isn’t ‘normal’.

I urge you to put humanity first and let the people of Kashmir speak.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *