दुनिया

पश्चिमी देशों ने आतंकवाद को इस्लाम से जोड़ दिया, हर दो साल बाद पश्चिमी देशों में पैग़म्बरे इस्लाम का अपमान किया जाता है : इमरान ख़ान

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान ख़ान ने आतंकवाद और आत्मघाती हमलों को धर्म से जोड़े जाने को दुर्भाग्यपूर्ण बताते हुए कहा कि पश्चिमी देश पैग़म्बरे इस्लाम के अपमान और आतंकवाद के विषय से ठीक प्रकार से अवगत नहीं हैं और हर कुछ साल बाद पैग़म्बरे इस्लाम के अपमान की कोई न कोई घटना हो जाती है।

न्यूयार्क में एक कार्यक्रम में बोलते हुए इमरान ख़ान ने कहा कि इतिहास गवाह है कि पिछड़े हुए और पिसे हुए तबक़े के लोगों ने आत्मघाती हमले किए हैं। उन्होंने कहा कि 11 सितम्बर से पहले 75 प्रतिशत आत्मघाती हमले हिंदू तामिल टाइगर्स ने किए, दूसरी ओर विश्व युद्ध में जापान ने अमरीकी युद्धक जहाज़ों पर आत्मघाती हमले किए। इमरान ख़ान ने कहा कि यह सारे हमले धर्म की वजह से नहीं थे क्योंकि दुनिया का कोई भी धर्म आत्मघाती हमले की अनुमति नहीं देता।

इमरान ख़ान ने कहा कि दुर्भाग्यपूर्ण बात है कि पश्चिमी देशों के नेताओं ने चरमपंथ और आत्मघाती हमलों को भी इस्लाम से जोड़ दिया।

इमरान ख़ान ने कहा कि दुनिया में लगभग सारे आतंकवाद की कड़ियां राजनीति से जुड़ती हैं, राजनीति की नाइंसाफ़ियों के नतीजे में पैदा होने वाले आतंकवाद को बढ़ावा देते हैं।

इमरान ख़ान ने कहा कि पश्चिमी मीडिया में उदारवादी इसलाम, रूढ़ीवादी इसलाम और कट्टरपंथी इसलाम जैसी बातें सुनने को मिलती हैं जबकि इसलाम केवल एक है जिसे पैग़म्बरे इसलाम का है और हम उसी पर विश्वास रखते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *