साहित्य

पहली रसोई

‎Ritu Sinha‎ – blogger @ Momspresso
Patna, India

·
*********

मीनाजी ने अपनी नई नवेली बहु निशि को “पहली रसोई” के रस्म के लिए तैयार होकर आने के लिए कहा।निशि तैयार होकर राहुल के पास आयी और पूछा “आप तैयार नही हुए?”
“मैं … मैं क्यों तैयार होऊंगा” मोबाइल पर आँखे टिकाए राहुल ने कहा।
“रस्म के लिए..मेरा मतलब पहली रसोई के रस्म के लिए” राहुल के पास बैठते हुए निशि ने कहा।
“उसमे मेरा क्या काम…ये रस्म तुम औरतों का है न” निशि की तरफ देख कर राहुल ने कहा।
“क्यों??…अभी तक शादी के सभी रस्मों में तो आपने पूरे मन से हिस्सा लिया..फिर इस रस्म में क्यों नही??” निशि ने कहा।
“अरे मेरा रसोई में क्या काम..वैसे भी मुझे रसोई में कुछ करने नही आता..नमक और चीनी के अलावा मैं किसी और चीज को नही पहचानता.. मेरा सारा काम तो मम्मी और दीदी ही किया करती थी..मुझे तो गैस जलाने भी नही आता।” राहुल ने हंसते कहा।
“हाँ तो ये सब मुझे भी नही आता..मैं भी चार बहनों में सबसे छोटी थी,मेरा काम भी दीदी और मम्मी ही किया करती थी।” निशि ने राहुल के आँख से आँख मिलाते हुए कहा।

“तो..कहना क्या चाहती हो तुम??” राहुल ने पूछा।

“बस यही कहना चाहती हूँ… शादी से पहले मैंने कभी भी रसोई में कदम नही रखा,कोई काम नही सीखा.. लेकिन आज इसकी शुरुआत करने जा रही हूँ.. शादी के हर रस्म में आप मेरे साथ रहे है..इस रस्म में भी आपका साथ चाहती हूँ।” बोलकर निशि कमरे से बाहर जाने लगी।
“हम नई गृहस्थी बसाने जा रहे है राहुल।आप डॉक्टर है तो मैं भी एक प्रोफेसर हूँ… दोनो मिलकर काम करेंगे..तभी एक दूसरे के लिए समय भी निकाल पाएंगे।” कमरे से बाहर जाते हुए निशि ने कहा।
“खीर में चीनी डाल दो निशि” मीनाजी ने कहा।
“कितने चमच्च डालूँ माँ” निशि ने पूछा।

“हाँ मम्मी बता दीजिए…मैं भी सीख लूँगा… अब करवा चौथ पर खीर तो मै ही बनाऊँगा न।” रसोई में घुसते हुए राहुल ने कहा।
निशि और राहुल एक दूसरे को देखकर मुस्कुराने लगे..उनके मुस्कान में मीनाजी की भी मुस्कान शामिल थी।

रितु सिन्हा
पटना,बिहार।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *