दुनिया

मिसाइलों के बाद अब ड्रोन विमानों ने उड़ाई इस्राईल की नींद

2 साल पहले जब प्रतिरोध मोर्चे ने इस्राईल के एक एफ-16 विमान को मार गिराया था तभी से तेलअबीव ने अपनी रणनीति में बदलाव पर गंभीरता के साथ विचार आरंभ कर दिया था।

यह रणनीति, एक साल पहले ही बनी थी और उसमें यह बल दिया गया था कि एफ-16 से प्रतिरोध मोर्चे के सटीक निशाना लगाने वाले मिसाइलों को तबाह किया जाएगा। इस्राईल इसी रणनीति पर काम कर रहा था कि अचानक, यमन के प्रतिरोध मोर्चे ने ड्रोन द्वारा एक ऐसा ज़बरदस्त हमला किया जिससे उसकी शक्ति का एक नया पहलु सामने आया।

यमनी सेना ने जिस तरह से सऊदी अरब की तेल कंपनी ” आरामको” पर ड्रोन हमला किया उससे इस्राईली खुफिया एजेन्सियों और सुरक्षा संस्थाओं में फिर खलबली मच गयी और इस्राईल में इस सवाल पर विचार होने लगा कि क्या प्रतिरोध मोर्चे की सटीक निशाना लगाने वाली मिसाइल इस्राईल के लिए पहला खतरा हैं या फिर ड्रोन नये खतरे के रूप में उभरे हैं?

इस्राईली खुफिया एजेन्सी में ईरानी डेस्क के प्रमुख मिकी सेगाल ने अपनी एक रिपोर्ट में कहा है कि ड्रोन विमानों के इस्तेमाल में इस्राईल अग्रणी समझा जाता था किंतु अब उसे स्वंय ही ड्रोन के बड़े खतरे का सामना है।

मिकी सेगाल ने अपनी रिपोर्ट में यमन में जनवरी 2019 में मंसूर हादी के नियंत्रण वाले अलएनद हवाई छावनी पर ड्रोन हमले का उल्लेख करते हुए चेतावनी दी है कि यह तकनीक लेबनान के हिज़्बुल्लाह और फिलिस्तीन के हमास संगठनों को मिल सकती है।

इस्राईल के खिलाफ ड्रोन प्रयोग की आशंका!

इस्राईल में युरोश्लम अध्ययन केन्द्र ने अपनी एक रिपोर्ट में यमनी सेना और स्वंय सेवी बल की ओर से सऊदी अरब पर ड्रोन हमलों का उल्लेख करते हुए दावा किया है कि ईरान, इस्राईल पर ड्रोन विमानों द्वारा हमले कर सकता है और वास्तव में सऊदी अरब और यूएई पर हमला, इस्राईल पर हमले का अभ्यास था।

ईरान का क्यान ड्रोन विमान

इस्राईल के समाचार पत्र ” यसराईल हायूम” ने ईरान में ” क्यान” नामक ड्रोन विमान के अनावरण को ” ड्रोन वॉर ” के आरंभ की संज्ञा दी और कहा कि ईरान ने ” ड्रोन वॉर ” के लिए नये आक्रामक ड्रोन विमान ” क्यान” का अनावरण किया है। इस प्रकार की रिपोर्टों से पता चलता है कि इस्राईली ड्रोन विमानों की शक्ति से कितना चिंतित हैं।

इस्राईल ने ईरान और उसके सहयोगियों या प्रतिरोध मोर्चे की ओर से ड्रोन विमानों के खतरे से निपटने की व्यापक स्तर पर तैयारी आंरभ कर दी है और इसके लिए इस्राईल आयरन डोम एन्टी मिसाइल सिस्टम को मज़बूत कर रहा है। कुलमिला कर यह कहा जा रहा है कि इस्राईल से मिलने वाली रिपोर्टों से पता चलता है कि इस्राईल ने प्रतिरोध मोर्चे की ड्रोन शक्ति पर पूरा ध्यान केन्द्रित कर रखा है। ज़ायोनी, प्रतिरोध मोर्चे की ड्रोन शक्ति से बेहद हैरत में हैं और प्रतिरोध मोर्चे के ड्रोन हमलों से बचने के लिए किसी मार्ग की खोज में हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *