दुनिया

इमारत के साथ ईरान के संबंध बेहतर हो गए हैं, सऊदी अरब के साथ गंभीर वार्ता के लिए तैयार है : हसन रूहानी

इमारात से संबंध बेहतर हो गए, सऊदी अरब से सार्थक और गंभीर वार्ता के लिए तैयार हैं, सीरिया में सैनिक आप्रेशन बंद करे तुर्की, ट्रम्प पर भरोसा नहीं किया जा सकताः रूहानी

ईरान के राष्ट्रपति डाक्टर हसन रूहानी ने कहा कि इमारत के साथ ईरान के संबंध बेहतर हो गए हैं और ईरान सऊदी अरब के साथ गंभीर वार्ता के लिए तैयार है।

डाक्टर रूहानी ने इसी के साथ तुर्की पर ज़ोर दिया कि वह पूर्वोत्तरी सीरिया में सैनिक कार्यवाही बंद करे।

डाक्टर रूहानी ने सोमवार को तेहरान में संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा कि ईरान और इमारात के बीच हालिया दिनों प्रतिनिधिमंडलों की आवाजाही हुई है। उन्होंने कहा कि इमारात के अधिकारियों और प्रतिनिधिमंडलों ने हालिया दिनों तेहरान की यात्रा की है। रुहानी ने कहा कि दोनों देशों के संबंध बेहतरी की ओर बढ़ रही हैं।

ईरान और सऊदी अरब के बीच तनाव के मुद्दे पर राष्ट्रपति रूहानी ने कहा कि ईरान सऊदी अरब जैसे देशों के साथ सार्थक वार्ता के लिए तैयार है ताकि इलाक़े की समस्याओं का समाधान किया जा सके।

राष्ट्रपति रूहनी ने कहा कि यमन संकट का समाधान हो जाता है तो इससे ईरान और सऊदी अरब की वार्ता की प्रगति का रास्ता खुलेगा। डाक्टर रूहानी ने कहा कि इस समय यमन युद्ध की समाप्ति की संभावना काफ़ी बढ़ चुकी है।

राष्ट्रपति रूहानी ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान ख़ान की ओर से पश्चिमी एशिया के इलाक़े में शांति की स्थापना और ईरान तथा सऊदी अरब के बीच तनाव कम करने की कोशिशों का हवाला देते हुए कहा कि इमरान ख़ान तेहरान दौरे के बाद ईरान के दृष्टिकोण से सऊदी अरब को अवगत करवाएंगे। राष्ट्रपति रूहानी ने कहा कि ईरान और सऊदी अरब के बीच तनाव कम करने के उद्देश्य से इमरान ख़ान एक विशेष पहल कर रहे हैं जबकि इसे दोनों देशों के बीच मध्यस्थता का नाम नहीं दिया जा सकता।

इमरान ख़ान मंगलवार को सऊदी अरब की यात्रा पर जाने वाले हैं।

इससे पहले इमरान ख़ान कह चुके हैं कि सऊदी क्राउन प्रिंस मुहम्मद बिन सलमान ने उनसे कहा है कि वह रियाज़ और तेहरान के बीच तनाव कम करने के लिए मध्यस्थता करें।

लाल सागर में ईरान के तेल टैंकर पर होने वाले हमले के बारे में राष्ट्रपति रूहानी ने कहा कि इस हमले में एक सरकार लिप्त है।

राष्ट्रपति रूहानी ने सीरिया में तुर्की की सैनिक कार्यवाही के बारे में बात करते हुए कहा कि तुर्की को चाहिए कि अपनी सैनिक कार्यवाही तत्काल रोक दे। उन्होंने कहा कि ईरान भी तुर्की की सुरक्षा चिंताओं को समझता है लेकिन जो शैली तुर्की ने अपनाई है हम उसे स्वीकार नहीं करते। राष्ट्रपति रूहानी ने कहा कि तेहरान आशा करता है कि तुर्की अपनी सैनिक कार्यवाही बंद करेगा और सीरिया में सारी कोशिशें आतंकवाद से संघर्ष तथा राजनैतिक प्रक्रिया पर केन्द्रित की जाएंगी।

डाक्टर रूहानी ने कहा कि तुर्की की चिंता दूर करने का सबसे उचित रास्ता यह है कि संयुक्त सीमाओं पर सीरियाई सेना तैनात हो जाए। उन्होंने कहा कि हमें आशा है कि सीरिया से अमरीकियों के चले जाने के साथ ही तुर्की की सैनिक कार्यवाही भी बंद हो जाएगी। डाक्टर रूहानी ने कहा कि अभी अमरीकी सैनिक सीरिया से गए नहीं हैं जबकि उनका वहां से चला जाना ही बेहतर है।

ईरान अमरीका वार्ता के बारे में डाक्टर रूहानी ने कहा कि वार्ता उस समय तक नही हो सकती जब तक अमरीका परमाणु समझौते में वापस नहीं आ जाता और ईरान पर लगाए गए प्रतिबंध हटा नहीं लेता।

राष्ट्रपति रूहानी ने कहा कि अमरीकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रम्प बार बार अपनी बात बदलते हैं, कभी किसी बात पर ज़ोर देते हैं और फिर उसी का इंकार करने लगते है इस तरह उन पर भरोसा नहीं किया जा सकता।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *