विशेष

अयोध्या फ़ैसले पर स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती ने कहा, कहाँ न्याय है,,,हमको तो लगता है सरकारी दबाव में आ कर ये फ़ैसला हुआ है : वीडियो

आर्टिस्ट ने पेंट ब्रश से लिखी 3000 से ज्यादा पेजों वाली रामचरितमानस, 150 किलो है किताब का वजन

एजेंसी,जयपुर

जयपुर में रहने वाले शरद माथुर ने एक पेंट ब्रश से 3000 से अधिक पृष्ठों वाली ‘रामचरितमानस’ की रचना की है और अब उनकी इच्छा अयोध्या में बनने वाले भव्य राम मंदिर में इसे दान में देने की है। उनका यह प्रयास वाकई में अद्वितीय है।

उन्होंने न्यूज एजेंसी आईएएनएस को बताया, “मैं भगवान राम को प्रार्थनाओं के अलावा कुछ और अनोखा देने की चाह रखता था अत: पेंट और ब्रश के सहारे बड़े अक्षरों में रामचरितमानस लिखने का ख्याल आया। इसमें प्रत्येक शब्द 1-1.5 इंच का है और पूरी किताब का वजन 150 किलोग्राम है।”

उन्होंने आगे कहा कि अधिकांश बुकबाइंडर्स ने तकनीकी कारण का हवाला देते हुए इसे बांधने से इनकार कर दिया, फिर मुबारक खान आगे आए और इसे बांधने का काम खुद के जिम्मे लिया।

शरद ने कहा, “मैंने कई बुकबाइंडिंग यूनिट से बात की, लेकिन कोई भी इस काम को अंजाम न दे सका, लेकिन मुबारकभाई ने अपने कलात्मक प्रयास से सांप्रदायिक सौहार्द की एक कड़ी को जोड़कर एक उत्कृष्ट काम किया है।”

शरद ने कहा कि वह अपना गुजारा स्कूल में बच्चों को संगीत सिखाकर और खुद भजन गाकर करते हैं। इस किताब को लिखने के लिए उन्हें हर रोज पांच-छह घंटे का वक्त देना पड़ता था और ऐसा उन्होंने छह सालों से अधिक समय तक के लिए किया। ए3 साइज के प्रत्येक पृष्ठ को पूरा होने में एक दिन का समय लगता था।

शरद ने यह भी कहा कि अयोध्या में राम मंदिर बन जाने के बाद वह वहां जाकर भगवान राम को अपनी यह सेवा दान में देना चाहते हैं।

उन्होंने कहा, “मेरी पत्नी और बेटी, पूनम और शुभम और मेरे दोस्तों ने भी किताब को साथ में रखकर लेमिनेट करने में मेरी मदद की है।”

अब आगे क्या? इसके जवाब में शरद ने कहा, “मेरा सपना मोदी और मुख्य मंत्री अशोक गहलोत को महाकाव्य रामायण के पांचवंे भाग सुंदरकांड की एक हस्तलिखित प्रति प्रस्तुत करने की है।”

सुंदरकांड रामायण का एकमात्र ऐसा अध्याय है जिसमें नायक राम नहीं बल्कि हनुमान हैं।

Rakesh Kachhal
================
अब कोई पूछे कि मोदी ने क्या किया ?
तो उसे जवाब दीजिये…

01. बंगलादेश सीमा विवाद.
02. नोटबन्दी.
03. GST.
04. डोकलाम.
05. अंतरराष्ट्रीय योग दिवस.
06. राफेल.
07. एयर डिफेंस सिस्टम S 400.
08. सर्जिकल स्ट्राइक.
09. एयर स्ट्राइक.
10. पटेल प्रतिमा.
11. पाकिस्तान को विश्व से अलग थलग करना.
12. बुलेट ट्रेन.
13. तीन तलाक.
14. NIA बिल.

*और सबसे बड़ा काम*
15. धारा 370 हटाना.
16. राम मंदिर
जिसे करने की कोई हिम्मत नहीं जुटा सकता था! बड़ी तैयारी के साथ एक झटके में धारा 370 को हटा दिया और कश्मीर को अखण्ड भारत का हिस्सा बनाया!

हाँ, अभी और झटके लगेंगें, तैयारियां चल रही हैं…

*Coming Soon…*

*1. POK.*
*2. कॉमन सिविल कोड.*
*3. जनसंख्या नियंत्रण बिल.*

*इतिहास रचा जा रहा है… और सौभाग्य से हम इसके साक्षी बन रहे हैं…*

*शायद जनता की उम्मीद से भी ज्यादा तेजी में है युगपुरुष मोदी!*

*एक पिता भी अपने बेटे की इतनी जिद्द पूरी नही करता, जितनी मोदी देशभक्तो की जिद्द पूरी करने मे लगे है!*

*मेरा पीएम, मेरा अभिमान..*


santosh gupta
@BhootSantosh

हे निर्लज्ज नेता… @GVLNRAO
जिस देश में “नर्सरी” के बच्चों की फीस 1 लाख हो~ उस देश की सरकार को तो सूखे कुएं में छलांग लगा देनी चाहिए.!

वैसे.. क़सूर तुम्हारा नहीं है.!
हमने ही चायवाले को प्रधानमंत्री चुना है,
हमें ही भुगतना पड़ेगा ????


Rakesh Kachhal
================
मन्दिर किसने बनबाया किसी को याद न रहे…पर

इतिहास ये जरूर याद रखेगा की
जो मामला केवल 40 दिनों में हल‌ हो सकता था उसे कांग्रेस वोट बैंक के लिए सत्तर साल तक लटकाए रखा |
???? #राममंदिर

जो मसला 2 महीने के अंदर बिना गोली ओर खूनखराबे के हल हो सकता था उस धारा को 70 साल जीवित रखा
???? #धारा370

जो पहचानपत्र 6 महीने के अंदर घुसपैठियों की पहचान करा दे 35 साल वोटबैंक के लिए लागू ही नही किया
???? #NRC

जिस पाकिस्तान को 2 मामूली सैनिक कार्यवाही से घुटनो के बल लाया जासकता था उस सेना के हाथ जानबूझ है बांध के रखे ताकि वोटबैंक खुस रहे
???? #सर्जिकलस्ट्राइक

मात्र 10 दिन की संसदीय बहस से जिस कानून की बेड़ी तोड़ महिलाओं के सामाजिक और पारिवारिक शोषण से मुक्ति दिलाई जा सकती थी उस कानून को कभी बनने ही नही दिया
???? #ट्रिपलतलाक

फिर कहती है काँग्रेज़ हमने 70 साल राज किया …राज किया या #गुलाम बना के रखा….!!


Shikha Singh
================
स्त्री और पुरुषों की मात्राएँ बराबर होगीं तभी संभव है समाज का विकास ।
महिला दिवस जितना मानते हैं उतना ही पुरुष दिवस भी मनाना पडेगा ।
लेकिन अगर बात बराबरी की और हक और सत्य की होती है तो स्त्री को पीछे ठकेल देता है पुरुष समाज ।
जो कि असभ्यता और कमजोरी दर्शाता है ।
बस यहीं पर पुरुष अपने को कमज़ोर साबित करते है पुरुष सत्ता की इस सोच ने ही स्त्री को ताकतवर होने का अहसास दिलाया है जब कि स्त्री कमज़ोर कभी नहीं थी।
बस वो बनी रही चार दिवारी की आड में कि मैं एक स्त्री हूँ मेरा वजूद घर और सभ्यता बनाए रखने तक है ।
जब की स्त्रियाँ अपनी कमजोरी को दर्शा कर और कमज़ोर बनाती रही ।
लेकिन अब जब अहसास हुआ तो वो हर काम में आगे है।
इस लिये दोनों को स्वीकारना जरुरी है की जरूरत दोनों को बराबर है तो हक भी बराबर होना चाहिए ।
शिखा सिंह

Jitendra Narayan
================
भक्त: जेएनयू में छात्र एक दूसरे को चूम भी लेते हैं- ऐसा कहीं और होता है?

जी होता है- भाजपा में- मध्य प्रदेश सरकार के वरिष्ठ मंत्री राघव जी नौकर से समलैंगिक सेक्स करते पकड़े जाकर मंत्री पद खोते हैं।

प्रमोद जोशी इसी साल धराए हैं।

मध्य प्रदेश के भाजपा विधायक भैया राजा सिंह (यूपी वाले राजा भैया से भ्रमित न हों- और कोई आरोप सही, छिछोरेपन का आरोप कभी नहीं लगा उन पर) अपनी सगी नातिन का बलात्कार कर, उसे गर्भवती बना फिर उसकी हत्या कर उमर क़ैद काट रहे हैं।

भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव संजय जोशी की सेक्स सीडी तो लोग बताते हैं साहेब ने खुद रिलीज़ करवाई थी।

कैलाश विजयवर्गीय के अज़ीज़ टीनू जैन चकला चलाते धरे गए थे, जेल में हैं।

अभी इसी साल हिमाचल से भी दो भाजपा नेताओं की धमाकेदार सीडी आई थी- मुझसे कई भाजपाई मित्र ही पूछ रहे थे कि समर भाई मीडिया में आपके इतने दोस्त हैं, आपको तो मिली ही होगी, फ़ॉर्वर्ड करिए ना।

और हाँ, वो किसने कहा था- अविवाहित हूँ, कुंवारा नहीं हूँ?

जेएनयू वाले जो करते हैं सामने करते हैं कठोर! बाक़ी अच्छा किया तुमने पूछ लिया। लिंक भी चाहिए क्या? सबका?

-Samar Anarya

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *