देश

बाबरी मस्जिद पर फ़िल्म निर्देशक आनंद पटवर्धन ने सुप्रीम कोर्ट के फ़ैसले को बताया बेहद निराश करने वाला!

अयोध्या विवाद मामले में शनिवार को सुप्रीम कोर्ट ने रामलला के हक में फैसला सुनाया। इसके साथ ही मुस्लिम पक्ष को 5 एकड़ अलग से जमीन देने की बात कही। इस फैसले के बाद लगातार बॉलीवुड हस्तियों की प्रतिक्रियाएं सामने आ रही हैं। सलीम खान और जावेद अख्तर ने बीते दिनों इस फैसले का स्वागत करते हुए अपनी राय रखी थी। लेकिन इस बीच निर्देशक आनंद पटवर्धन ने सुप्रीम कोर्ट के इस फैसले को बेहद निराश करने वाला बताया है।

आनंद पटवर्धन ने दिसंबर 1992 में बाबरी मस्जिद गिराये जाने से ठीक तीन महीने पहले ‘राम के नाम’ से एक डॉक्यूमेंट्री बनाई थी। इस डॉक्यूमेंट्री में बाबरी मस्जिद के स्थल पर राम मंदिर बनाने के लिए छेड़ी गई मुहिम और इससे भड़की हिंसा को दर्शाया गया है।


एक न्यूज एजेंसी से बात करते हुए पटवर्धन ने आनंद पटवर्धन ने दावा किया कि बाबरी मस्जिद एक घोषित राष्ट्रीय स्मारक था। यह केवल मुसलमानों के लिए नहीं बल्कि सभी भारतीयों के लिए था।

उन्होंने कहा कि बाबरी मस्जिद को तोड़ने वाले नेता कभी जेल नहीं गए। बल्कि इसके बदले उन्हें सम्मानित किया गया। धर्मनिरपेक्ष भारत तभी बन सकता है जब हम अपने स्वतंत्रता के मूल्यों को फिर से अपनाएं।

“राम के नाम” डॉक्यूमेंट्री अयोध्या में बाबरी मस्जिद स्थल पर राम मंदिर बनाने के लिए विश्व हिंदू परिषद द्वारा चलाए गए अभियान पर आधारित है।

Kapil Verma.????%फ़ॉलो????बैक
@kapilverma73
निर्देशक ????आनंद पटवर्धन ने अयोध्या???? पर

सुप्रीम कोर्ट के फैसले से नाराज .????????

बाबरी मस्जिद को बताया राष्ट्रीय स्मारक
देख लो हिंदुओं.????आँख फाढ़ कर ऐसे होते हैं सेक्युलर हिंदू….!

Subhash
@Subhash2453
Replying to
@KrAwanish
सलीम खान और जावेद अख्तर ने अयोध्या फैसले का स्वागत किया था, जिससे क्रोधित होकर फिल्म निर्देशक आनंद पटवर्धन ने सुप्रीम कोर्ट के इस फैसले को बहुत निराशाजनक बताया। आनंद पटवर्धन ने बाबरी मस्जिद को राष्ट्रीय स्मारक बताया है।

JANU BAHUJAN
@JANUBAHUJAN
आनंद पटवर्धन की डाक्यूमेंट्री फ़िल्म #विवेक(Reason) 16 भाग में यूट्यूब पर जारी की गयी है. यह डाक्यूमेंट्री हर एक भारतीय को देखनी जरुरी हैं. इसमें RSS और RSS से प्रत्यक्ष-अप्रत्यक्ष रूप से जुड़े राजनैतिक और गैर-राजनैतिक व्यक्ति दल संगठन संस्थाओं का असली चेहरा उजागर किया गया हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *